विज्ञापन

गोविवि परीक्षा: दो वर्ष का अनुभव है तो भी बनेंगे केंद्र व्यवस्थापक, नियम में हुआ ये खास बदलाव

डिजिटल न्यूज डेस्क, गोरखपुर Updated Fri, 14 Feb 2020 09:04 AM IST
विज्ञापन
DDU Gorakhpur
DDU Gorakhpur - फोटो : अमर उजाला
ख़बर सुनें
गोरखपुर विश्वविद्यालय एवं संबद्ध महाविद्यालयों की 25 फरवरी से होने वाली वार्षिक परीक्षा के लिए केंद्र व्यवस्थापकों पर मंथन शुरू हो गया है। 17 फरवरी तक सूची तैयार कर ली जाएगी। खास बात यह है कि इस बार दो वर्ष का शैक्षणिक अनुभव रखने वाले शिक्षकों को भी केंद्र व्यवस्थापक बनाया जाएगा, जबकि पूर्व में पांच वर्ष का अनुभव जरूरी था।
विज्ञापन
परीक्षा के लिए 263 महाविद्यालयों को परीक्षा केंद्र बनाया गया है। इन महाविद्यालयों से एक-एक शिक्षक का नाम मांगा गया है। इसके अलावा 43 शिक्षकों ने खुद केंद्र व्यवस्थापक बनाने के लिए आवेदन किया है। इनके नामों पर भी विचार हो रहा है। परीक्षा नियंत्रक डॉ अमरेंद्र कुमार सिंह ने बताया कि अगर किसी केंद्र व्यवस्थापक की तबियत खराब होती है तो विकल्प के तौर पर उसी महाविद्यालय के वरिष्ठ शिक्षक को जिम्मेदारी सौंपी जाएगी।
विज्ञापन
आगे पढ़ें

दो महाविद्यालय हैं डिबार

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree
Election
  • Downloads

Follow Us