विज्ञापन
विज्ञापन

दि हंस फाउंडेशन ने बैन्यन के साथ की सेंटर फॉर मेंटल हेल्थ की शुरुआत

एजुकेशन डेस्क, अमर उजाला Updated Fri, 01 Feb 2019 05:36 PM IST
The hans foundation,
The hans foundation,
ख़बर सुनें
भारत में करीब 15 करोड़ लोग किसी न किसी प्रकार के मानसिक रोग से ग्रस्त हैं। एक अनुमान के मुताबिक, इनमें से केवल 10 प्रतिशत ऐसे लोग हैं, जिन्हें देखभाल या उपचार की सुविधा मिल पाती है। ऐसे हालात में उन लोगों की जिंदि गी बदि  से बदि तर हो जाती है, जो मानसिक रोग से ग्रस्त हैं और उनके पास न तो अपना घर है और न ही रोजी रोटी ।ऐसी स्थिति में मानसिक रोग पीडि़तों को न केवल बीमारी को झेलना पड़ता है बल्कि उन्हें कई  प्रकार के उत्पीड़न भी सहन करने पड़ते हैं। नेशनल ह्यूमन राइट्स कमीशन की 2016 में आई रिपोर्ट से स्पष्ट है कि सरकार मानसिक रोगियों के इलाज की व्यवस्था करने में नाकाम रही है। सीधे शब्दों में कहें तो देशभर में गिने-चुने अस्पताल हैं, जहां मनोरोगियों के उपचार की व्यवस्था है। मानसिक रोगियों के हालात और उपचार की मौजूदा स्थिति को ध्यान में रखते हुए दि  हंस फाउंडेशन ने दि बैन्यन मेंटल हेल्थ (NGO)के साथ कदम बढ़ाया है। दोनों संस्थान मिलकर सेंटर फॉर मेंटल हेल्थ बनाएंगे, जिसकी मदद से मानसिक रोगियों के इलाज की व्यवस्था हो सके, विशेष तौर उनकी जो बेघर हैं, जिनकी देखभाल करने वाला कोई नहीं। दि  हंस फाउंडेशन का मकसद उन लोगों को जीवन बेहतर ढंग से जीने का विकल्प उपलब्ध कराना है, जिन्हें अस्पताल में एडमिट कराने से कोई लाभ हो नहीं रहा और अस्पताल के बाहर ऐसी कोई जगह नहीं जहां उन्हें रखा जा सके। 
विज्ञापन
विज्ञापन
दि  हंस फाउंडेशन का मकसदि  है मानसिक रोगियों के लिए अस्पताल के बाहर रहने का विकल्प देना, जिससे उन्हें भी अन्य नागरिकों के समान बेहतर ढंग से जीने का अधिकार मिले। दि  हंस फाउंडेशन ने इस पवित्र कार्य के लिए दि  बैन्यन मेंटल हेल्थ (NGO) को 15 करोड़ रुपए की सहायता राशि दी है। 9 दिसंबर 2018 को चेन्नई में हुए एक कार्यक्रम में यह वित्तीय सहायता दी गयी । इस दौरान कार्यक्रम में मौजूदि  सभी लोगों ने मानसिक रोगियों की देखभाल के कार्य को बेहतर ढंग से करने के कई विकल्पों पर चर्चा की। इस दौरान विभिन्न क्षेत्रों के विशेषज्ञों ने विचार-विमर्श में हिस्सा लिया। 

दि हंस फाउंडेशन और दि  बैन्यन मेंटल हेल्थ (NGO) की इस पहल का मकसदि है मानसिक रोगियों के लिए समाज के अन्य नागरिकों की तरह जीने का अवसर मुहैया कराना। अस्पताल के बाहर उनके रहने के लिए ऐसी जगह तैयार करना जहां, उनके लिए कम्युनिटी लिविंग की व्यवस्था का इंतजाम हो। जहां, हर छोटी-छोटी चीज का इंतजाम उनकी जरूरतों के हिसाब हो। इस कम्युनिटी लिविंग में न केवल उनके रहने बल्कि अन्य कई प्रकार की सुविधाओं का इंतजाम होगा।

Recommended

Uttarakhand Board 2019 के परीक्षा परिणाम जल्द होंगे घोषित, देखने के लिए क्लिक करें
Uttarakhand Board

Uttarakhand Board 2019 के परीक्षा परिणाम जल्द होंगे घोषित, देखने के लिए क्लिक करें

शनि जयंती के अवसर पर शनि शिंगणापुर में शनि को प्रसन्न करने के लिए तेल अभिषेकम्
ज्योतिष समाधान

शनि जयंती के अवसर पर शनि शिंगणापुर में शनि को प्रसन्न करने के लिए तेल अभिषेकम्

विज्ञापन
विज्ञापन
अमर उजाला की खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें

उत्तराखंड विद्यालय शिक्षा परिषद यानी यूबीएसई बोर्ड 31 मई 2019 को कक्षा 10वीं हाईस्कूल और कक्षा 12वीं इंटरमीडिएट के परिणाम घोषित करेगा। छात्र अपना उत्तराखंड बोर्ड हाईस्कूल रिजल्ट 2019 और उत्तराखंड बोर्ड इंटरमीडिएट रिजल्ट 2019 सबसे पहले हमारी वेबसाइट देखने के लिए रजिस्टर करें। अपना उत्तराखंड बोर्ड परीक्षा का परिणाम सबसे पहले देखने के लिए हमारे द्वारा दिए नंबर 8929470909 पर आज ही मिस्ड कॉल दें।

 रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें अमर उजाला हिंदी न्यूज़ APP अपने मोबाइल पर।
Amar Ujala Android Hindi News APP Amar Ujala iOS Hindi News APP

विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

Most Read

Education

NRTI 2019 Admission: शैक्षणिक सत्र 2019-20 के लिए आवेदन शुरू

एडमिशन का दौर चल रहा है। रिजल्ट जारी होने के बाद अब स्टूडेंट्स अपने लिए बेहचर इंस्टीट्यूट की तलाश कर रहे हैं।

19 मई 2019

विज्ञापन

उत्तर प्रदेश के ज्यादातर एग्जिट पोल में भाजपा को 50 से ज्यादा सीटें

लोकसभा चुनाव 2019 के लिए आखिरी चरण का मतदान संपन्न होते ही एग्जिट पोल सामने आ गए है। उत्तर प्रदेश में छह में से पांच एग्जिट पोल में भाजपा को 50 से ज्यादा सीटें।

19 मई 2019

आज का मुद्दा
View more polls

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree
Election