बारहवीं बोर्ड की परीक्षा देने गए छात्र केमिस्ट्री की मिस्ट्री में उलझ गए

ब्यूरो/अमर उजाला, नई दिल्ली Updated Wed, 14 Mar 2018 10:49 AM IST
Students during 12th board exams got entangled in Mystery of Chemistry
ख़बर सुनें
बारहवीं बोर्ड की मंगलवार को हुए केमिस्ट्री के मिस्ट्री में छात्र उलझ गए। प्रश्न के लिहाज से पूरा प्रश्न पत्र तो संतुलित था लेकिन सवालों को हल करने के लिए छात्रों को लंबा समय देना पड़ा।
सवालों को इस तरह दिया गया था कि एक ही प्रश्न में दो-दो तरह के फॉर्म्यूला का प्रयोग करना था या फॉर्म्यूला का कांबिनेशन का प्रयोग करना था। इससे छात्रों को सवालों को हल करने में लंबा समय लगा।
 
केमिस्ट्री के शिक्षकों की माने तो प्रश्नपत्र बेहद संतुलित था। सभी सवाल एनसीईआरटी की किताब से आएं थे। मगर सवालों को ट्रिकी बनाकर थोड़ा कठिन कर दिया गया था। जिससे छात्रों को सवालों को हल करने में लंबा समय लग रहा था।

कुछ सवाल ऐसे थे जिसमें हाई ऑर्डर थिंकिंग स्किल की जरूरत थी। यानि एक ही सवाल में दो तरह के फॉर्म्यूला का प्रयोग करना था। पेपर बनाने वाले ने छात्रों को प्रत्येक दो सवाल के बाद एक ऐसा सवाल पूछा था। 

छात्र सिलेबस के अंदर से आएं प्रश्नों से तो खुश थे लेकिन छात्रों ने कहना था सवाल को घुमाकर पूछा गया था जिससे हमे एक सवाल पर ज्यादा समय देना पड़ा। 12वीं की छात्रा ईशिकव ने कहा कि एक ही सवाल पर ज्यादा समय देने से मेरा 4 नंबर का सवाल छूट गया है। उसके मुताबिक पेपर बहुत टफ नहीं था लेकिन समय बहुत लग रहा था।

शिक्षकों का भी कहना था कि जिसने रिविजन बेहतर किया होगा उसके लिए पेपर आसान था मगर औसत छात्रों को थोड़ी मुश्किल जरूर हुई होगी। एक अन्य छात्र रिषभ के मुताबिक सवाल ऐसे पूछे जा रहे थे उसे लेकर हम कई बार फॉर्म्यूला प्रयोग करते समय दुविधा में पड़ जाते थे।

इससे सवालों को हल करने में समय लग रहा था। रिषभ के मुताबिक उसने सभी सवाल किए है लेकिन हो सकता है उन सवालों में गलतिया हो जहां पर एक ही सवाल में दो तरह के फॉर्म्यूला का प्रयोग करना था। 

Spotlight

Most Read

Chandigarh

नया फरमानः सरकारी स्कूलों में जुलाई से टीचर्स को एक घंटे अधिक पढ़ाना होगा

चंडीगढ़ के सरकारी स्कूलों में शिक्षकों को जुलाई से एक घंटे अधिक पढ़ाना होगा। शिक्षा विभाग इस नियम को लागू करने की तैयारी कर चुका है।

18 जून 2018

Related Videos

18000 फीट की ऊंचाई पर सैनिकों ने किया योग

अंतरराष्ट्रीय योग दिवस के मौके पर आईटीबीपी के जवानों ने 18000 फीट की ऊंचाई पर लद्दाख की कड़कड़ाती ठंड में योग किया। जवानों ने लोगों को यह संदेश देने की कोशिश की चाहे परिस्थितियां कैसी भी हो योग किया जा सकता है...

21 जून 2018

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree

अमर उजाला ऐप चुनें

सबसे तेज अनुभव के लिए

क्लिक करें Add to Home Screen