विज्ञापन
विज्ञापन

JNUSU Election: देरी से शुरू हुए मतदान, NSUI ने प्रशासन पर लगाए एबीवीपी का साथ देने के आरोप

न्यूज डेस्क, अमर उजाला, नई दिल्ली Updated Fri, 06 Sep 2019 01:14 PM IST
जेएनयू छात्रसंघ चुनाव के लिए हो रही वोटिंग
जेएनयू छात्रसंघ चुनाव के लिए हो रही वोटिंग - फोटो : अमर उजाला/एएनआई
ख़बर सुनें

खास बातें

  • 30 मिनट देरी से शुरू हुआ मतदान
  • एनएसयूआई ने जेएनयू प्रशासन पर एबीवीपी का साथ देने का आरोप लगाया
  • 12 बजे तक हुई 10-15 प्रतिशत वोटिंग
  • बुधवार रात प्रेजीडेंशियल डिबेट में अध्यक्ष पद के पांच उम्मीदवारों ने अपनी उपलब्धियां गिनवाते हुए मतदाताओं से वोट मांगे
जवाहर लाल नेहरू विश्वविद्यालय (जेएनयू)  में छात्रसंघ चुनाव में शुक्रवार को 30 मिनट देरी से मतदान शुरू हुआ। इस बीच कांग्रेस की छात्र इकाई एनएसयूआई ने जेएनयू प्रशासन पर भाजपा की छात्र इकाई एबीवीपी का साथ देने का आरोप भी लगाया है।
विज्ञापन
जानकारी के अनुसार दोपहर 12 बजे तक 10-15 प्रतिशत तक वोटिंग हो चुकी थी। इससे पहले बुधवार रात प्रेजीडेंशियल डिबेट में अध्यक्ष पद के पांच उम्मीदवारों ने अपनी उपलब्धियां गिनवाते हुए मतदाताओं से वोट मांगे।

प्रेसिडेंशियल डिबेट में छाए रहे ये मुद्दे

झेलम लॉन में रात 10 बजे के बाद प्रेजीडेंशियल डिबेट शुरू हुई। इसमें एनआरसी, अफवाह पर भीड़ द्वारा मारपीट, कश्मीर में अनुच्छेद-370 को हटाना से लेकर अमेजन के जंगल में आग का मुद्दा छाया रहा। इस दौरान बापसा जय भीम, लेफ्ट यूनिटी ढपली की थाप पर लाल सलाम तो एबीवीपी ढोल, मंजीरा व चिमटे के साथ भारत माता की जय और वंदे मातरम का जयघोष करता रहा।

पिछले साल की तरह इस बार भी प्रेजीडेंशियल डिबेट में दो छात्र संगठनों में झड़प हुई। लेफ्ट का आरोप है कि एबीवीपी ने मारपीट की। इस पर एबीवीपी का कहना है कि यह आइसा व एसएफआई की चाल है। मतदान शुक्रवार सुबह नौ से शाम पांच बजे तक होगा, जबकि देर शाम मतगणना शुरू हो जाएगी।

कैंपस केंद्रित राजनीति का मॉडल बनाएंगे : एबीवीपी

सबसे पहले एबीवीपी के अध्यक्ष पद प्रत्याशी मनीष जांगिड़ ने भारत माता की जय और वंदे मातरम के नारों के साथ डिबेट शुरू की। मनीष ने कहा कि टुकड़े-टुकड़े गिरोह नौ फरवरी को विश्वविद्यालय पर धब्बा लगाने के लिए जिम्मेदार हैं, जब देशद्रोह के नारे लगाए गए थे।

वहीं, जब जम्मू कश्मीर में अनुच्छेद-370 हटाया गया तो हम इस कदम का जश्न मना रहे थे, लेकिन वामपंथी सेना को गालियां दे रहे थे। उन्होंने कहा कि निर्वाचित होने पर एबीवीपी कैंपस केंद्रित राजनीति का मॉडल पेश करेगी और वंचित वर्ग की महिलाओं का प्रवेश सुनिश्चित करेगी। जांगिड़ ने छात्रावास की स्थितियों और कक्षाओं में सुविधाओं के अभाव का भी मुद्दा उठाया।
विज्ञापन
आगे पढ़ें

दो करोड़ नौकरियों का वादा कहां गया : एनएसयूआई

विज्ञापन

Recommended

अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता का अधिकार ही है कॉमकॉन 2019 की चर्चा का प्रमुख विषय
Invertis university

अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता का अधिकार ही है कॉमकॉन 2019 की चर्चा का प्रमुख विषय

सर्वपितृ अमावस्या को गया में अर्पित करें अपने समस्त पितरों को तर्पण, होंगे सभी पूर्वज प्रसन्न, 28 सितम्बर
Astrology Services

सर्वपितृ अमावस्या को गया में अर्पित करें अपने समस्त पितरों को तर्पण, होंगे सभी पूर्वज प्रसन्न, 28 सितम्बर

विज्ञापन
विज्ञापन
अमर उजाला की खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

Most Read

Shimla

हिमाचल में बीएससी नर्सिंग की मेरिट जारी, इस दिन से होगी काउंसलिंग

प्रदेश विवि ने नए सत्र में विवि से संबद्ध सरकारी और निजी नर्सिंग कॉलेजों में प्रवेश के लिए चार सितंबर को जारी प्रवेश परीक्षा के आधार पर मेरिट सूची जारी कर दी है।

20 सितंबर 2019

विज्ञापन

MP कांग्रेस की बड़ी चूक, बैनर पर 'मध्यदेश' लिखने पर शिवराज की चुटकी तो सोशल मीडिया पर हो रही फजीहत

भोपाल में कांग्रेस की बैठक हो रही थी। इसी दौरान मंच पर लगे बैनर में एक बड़ी चूक पर नजर गई। जहां मध्यप्रदेश की जगह उसे 'मध्यदेश' लिख दिया गया।

20 सितंबर 2019

आज का मुद्दा
View more polls

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree