विज्ञापन
विज्ञापन

CISCE Result 2019: सीआईएससीई परीक्षा परिणाम घोषितः 12वीं में दो विद्यार्थियों को मिले शत-प्रतिशत अंक

न्यूज डेस्क, अमर उजाला, नई दिल्ली Updated Wed, 08 May 2019 04:09 AM IST
खुशी मनाते छात्र
खुशी मनाते छात्र - फोटो : अमर उजाला
ख़बर सुनें
काउंसिल फॉर द इंडियन स्कूल सर्टिफिकेट एग्जामिनेशन (सीआईएससीई) ने 10वीं (आईसीएसई) और 12वीं (आईएससी) परीक्षा के नतीजे मंगलवार को घोषित कर दिए। 10वीं और 12वीं में दो-दो विद्यार्थियों ने संयुक्त रुप से टॉप किया है। 12वीं में पहली बार दो विद्यार्थियों को सौ फीसदी नंबर मिले।
विज्ञापन
12वीं में कोलकाता के देवांग कुमार अग्रवाल ने साइंस स्ट्रीम में और बंगलूरू की विभा स्वामीनाथन ने ह्यूमेनिटी में 100 प्रतिशत अंक पाकर देश भर में पहला स्थान प्राप्त किया। 99.75 प्रतिशत अंकों के साथ 16 छात्र-छात्राएं दूसरे नंबर पर रहे। वहीं 99.50 प्रतिशत अंकों के साथ 36 लड़के-लड़कियों ने तीसरा स्थान प्राप्त किया।

10वीं में मुंबई की जूही रुपेश कजारिया और मुक्तसर, पंजाब के मनहर बंसल ने 99.60 प्रतिशत अंक पाकर देश भर में टॉप किया। 99.40 प्रतिशत अंक के साथ 10 विद्यार्थी दूसरे पायदान पर रहे जबकि 99.20 प्रतिशत अंकों के साथ 24 लड़के-लड़कियों ने तीसरा स्थान पाया। आईसीएसई की परीक्षा में देश-विदेश से 1,96,271 परीक्षार्थी शामिल हुए। वहीं आईएससी परीक्षा में 86713 परीक्षार्थी शरीक हुए। आईसीएसई का रिजल्ट 98.54 प्रतिशत रहा जबकि आईएससी में 96.52 प्रतिशत परीक्षार्थी सफल रहे।
 
विज्ञापन
आगे पढ़ें

10वीं और 12वीं बेटियों ने मारी बाजी

विज्ञापन

Recommended

बायोमेडिकल एवं लाइफ साइंस में लेना है एडमिशन, ये है सबसे नामी संस्था
Dolphin PG

बायोमेडिकल एवं लाइफ साइंस में लेना है एडमिशन, ये है सबसे नामी संस्था

सुखी वैवाहिक जीवन के लिए इस जन्माष्टमी मथुरा में कराएं राधा-कृष्ण युगल पूजा, 24 अगस्त को
Astrology Services

सुखी वैवाहिक जीवन के लिए इस जन्माष्टमी मथुरा में कराएं राधा-कृष्ण युगल पूजा, 24 अगस्त को

विज्ञापन
विज्ञापन
अमर उजाला की खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

Most Read

Shimla

युवाओं को मुफ्त में कुक बनने का मौका, वजीफा भी देगी सरकार

प्रदेश के आठवीं और दसवीं पास बेरोजगार युवा के पास बिना कोई फीस दिए कुक बनने का मौका है। प्रशिक्षण के बाद युवाओं को हजारों का वजीफा भी दिया जाएगा।

21 अगस्त 2019

विज्ञापन

केले के रेशे से बने इस पैड को 122 बार धोकर कर सकते हैं इस्तेमाल

आईआईटी दिल्ली के दो छात्रों ने केले के फाइबर से सेनेटरी पैड बनाने की तकनीक तैयार की है। इस पैड को 122 बार धोकर दो साल तक प्रयोग किया जा सकता है। बार-बार प्रयोग के बाद भी इससे किसी प्रकार के इंफेक्शन का खतरा नहीं है।

22 अगस्त 2019

Related

आज का मुद्दा
View more polls

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree