डीयू: इतिहास विभाग और नॉन कॉलेजिएट को लेकर विवाद गहराया

न्यूज डेस्क, अमर उजाला, दिल्ली Updated Sun, 12 Aug 2018 10:16 PM IST
फाइल फोटो
फाइल फोटो
ख़बर सुनें
दिल्ली विश्वविद्यालय के इतिहास विभाग प्रमुख और नॉन कॉलेजिएट को लेकर विवाद गहराता जा रहा है। इतिहास विभाग पर छात्रों के भविष्य से खिलवाड़ करने के आरोप लगाए जा रहे हैं तो नॉन कॉलेजिएट में नियमों को ताक पर रखकर शिक्षकों की श्रेणी बदलने के आरोप लग रहे हैं। 
इनके विरोध में विद्वत परिषद सदस्य आज विश्वविद्यालय के गेट पर भूख हड़ताल करेंगे। विद्वत परिषद की सदस्य डॉ लता ने आरोप लगाया कि लंबे समय से इतिहास विभाग के विभागाध्यक्ष नियमों को तोड़कर व्यक्तिगत लाभ के लिए अपने पद का दुरुपयोग कर रहे हैं। 

इतिहास विभाग ने एमफिल और पीएचडी की लिखित परीक्षा केवल अंग्रेजी माध्यम में कराकर लाखों छात्रों के भविष्य के साथ खिलवाड़ किया है, जबकि कक्षा में 80 प्रतिशत छात्र हिंदी माध्यम के हैं। इसके साथ ही तदर्थ पैनल में बड़े पैमाने पर गड़बड़ी की जा रही है।      

उन्होंने आरोप लगाया कि विभाग के बाहर से पीएचडी धारकों को पैनल श्रेणी 1 व 2 से हटा दिया है। विभाग ईसी रेजोल्यूशन 2007 को नहीं मान रहा है। कॉलेज स्तर पर तदर्थ नियुक्ति के लिए सेलेक्शन कमेटी होती हैं, जिसमें कॉलेज के सदस्य शिक्षकों की भर्ती करते हैं। 
आगे पढ़ें

Recommended

Spotlight

Most Read

Shimla

अपने जिले में परीक्षा दे सकेंगे अब परीक्षार्थी, नए एडमिट कार्ड जारी

कर्मचारी चयन आयोग ने शारीरिक शिक्षा अध्यापक भर्ती परीक्षा के एडमिट कार्ड से संबंधित तकनीकी समस्या को दूर कर दिया है।

17 अगस्त 2018

Related Videos

VIDEO: राजकीय सम्मान के साथ बीजेपी मुख्यालय पहुंचा अटल जी का पार्थिव शरीर

पूरे राजकीय सम्मान के साथ पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी के पार्थिव शरीर को उनके आवास से बीजेपी मुख्यालय पहुंचाया गया। इस बीत सड़क के दोनों तरफ उनके चाहने वालों का हुजूम लगा हुआ था। देखिए पूरा वीडियो

17 अगस्त 2018

आज का मुद्दा
View more polls

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree