विज्ञापन

फीस को लेकर सीबीएसई ने निजी स्कूलों से मांगे आंकड़े

ब्यूरो/अमर उजाला, नई दिल्ली Updated Mon, 05 Jun 2017 09:20 AM IST
CBSE STUDENTS
CBSE STUDENTS
ख़बर सुनें
केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (सीबीएसई) ने फीस को लेकर निजी स्कूलों से रिपोर्ट मांगी है। सीबीएसई ने कहा कि सभी निजी स्कूल हाल के साल में फीस बढ़ोतरी के आंकड़े बोर्ड को भेजे। 
विज्ञापन
विज्ञापन
अभिभावकों ने निजी स्कूलों द्वारा परिसर से ही ड्रेस और किताबें खरीदने के लिए दबाव बनाए जाने की शिकायत की थी। इसके बाद बोर्ड ने निजी स्कूलों को निर्देश दिए थे कि वे स्कूल परिसर को दुकान न बनाएं। बता दें कि फीस में इजाफे के साथ ही निजी स्कूल छात्रोँ और उनके माता-पिता पर दबाव बना रहे थे कि वे स्कूल परिसर में ही लगे स्टॉल से यूनिफॉर्म और कॉपी-किताबें खरीदें। परिसर में किताबें बाजार मूल्य से ज्यादा कीमत पर बेची जा रही थीं।

इस मामले में केंद्रीय मानव संसाधन विकास मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने बताया कि हमने स्कूलों से कहा है कि वे मनमाने तरीके से फीस नहीं ले सकते। स्कूल के मदों की फीस तर्कसंगत होनी चाहिए। उनमें कोई ऐसे शुल्क नहीं होने चाहिए, जिनका जिक्र रसीद में ना किया गया हो। क्योंकि, इससे अभिभावकों को खासी दिक्कतें होती हैं। 

जावड़ेकर ने कहा कि इन्ही चीजों को रोकने के लिए सीबीएसई ने सभी निजी स्कूलों से फीस ढांचे और इसमें बढ़ोतरी के आंकड़ा मांगा है। ज्यादातर स्कूलों ने आंकड़े भेज दिए हैं, अभी इनका आंकलन किया जा रहा है। जिन स्कूलों ने अभी तक फीस के आंकड़े नहीं भेजे हैं, उन्हें स्मरणपत्र जारी किया गया है, इसके बाद उनपर कार्रवाई होगी।

गौरतलब है कि फीस बढ़ोतरी को रोकने के लिए बीते महीने गुजरात सरकार ने विधानसभा में गुजरात स्व-वित्तपोषित स्कूल (रेगुलेशन ऑफ फीस) विधेयक-2017 पेश किया था। जिसका उद्देश्य बढ़े हुए फीस को विनियोजित करना था। इस विधेयक के तहत सरकार हर जोन में तीन फीस रेगुलेटरी कमेटी बनाने वाली है, जो स्कूलों में मनमाने तरीके से फीस बढ़ोतरी पर निगरानी करेगा। 

Recommended

कुंभ मेले में अतुल धन, वैभव, समृधि प्राप्ति हेतु विशेष पूजा करवायें मात्र ₹1100 में
त्रिवेणी संगम पूजा

कुंभ मेले में अतुल धन, वैभव, समृधि प्राप्ति हेतु विशेष पूजा करवायें मात्र ₹1100 में

विज्ञापन
विज्ञापन
अमर उजाला की खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

Most Read

Shimla

हिमाचल में आंगनबाड़ी वर्करों ने मांगा ग्यारह हजार रुपये वेतन

आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं और सहायकों ने हरियाणा की तर्ज पर वेतन देने की मांग की है।

15 जनवरी 2019

विज्ञापन

क्रिकेट मैदान में भिड़ गए दिग्गज खिलाड़ी, चले बल्ले

क्रिकेट को है जेंटलमैन्स गेम कहा जाता है। क्रिकेट और स्लेजिंग का साथ पुराना है, लेकिन कई मौके ऐसे भी आए हैं जब सभ्य खिलाड़ी बदतमीज हो गए।

15 जनवरी 2019

आज का मुद्दा
View more polls

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree