उत्तराखंड: शिक्षकों की भर्ती में कला विषय के उम्मीदवारों के लिए बीएड की अनिवार्यता हो सकती है खत्म

न्यूज डेस्क, अमर उजाला, देहरादून Updated Tue, 10 Mar 2020 12:02 AM IST
विज्ञापन
Uttarakhand: Art subject candidates may get relief in recruitment of teachers
- फोटो : प्रतीकात्मक तस्वीर

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर
कहीं भी, कभी भी।

*Yearly subscription for just ₹249 + Free Coupon worth ₹200

ख़बर सुनें

सार

  • सहायक अध्यापक भर्ती सेवा नियमावली में फिर किया जा सकता है बदलाव  
  • उम्मीदवारों ने दी चेतावनी, कहा- अनदेखी की गई तो करेंगे आंदोलन 

विस्तार

उत्तराखंड में शिक्षक भर्ती में कला विषय के उम्मीदवारों को राहत मिल सकती है। ड्राइंग एवं फाइन आर्ट्स में एमए करने वाले उम्मीदवारों के लिए बीएड की अनिवार्यता को खत्म किया जा सकता है।
विज्ञापन

शिक्षा सचिव आर मीनाक्षी संदुरम ने राष्ट्रीय अध्यापक शिक्षा परिषद् को इसका प्रस्ताव भेजा है। इसे मंजूरी मिलने के बाद सहायक अध्यापक भर्ती सेवा नियमावली में बदलाव किया जा सकता है। वहीं, दूसरी ओर उम्मीदवारों का कहना है कि उनके हितों की अनदेखी हुई तो आंदोलन को बाध्य होंगे।
प्रदेश में आगामी वित्तीय वर्ष में माध्यमिक शिक्षकों के तीन हजार से अधिक पदों पर भर्ती होनी है, लेकिन शिक्षकों की इस भर्ती से पहले अधीनस्थ शिक्षा सेवा नियमावली में बदलाव कर दिया गया है।
सहायक अध्यापक एलटी कला के लिए ड्राइंग एवं फाइन आर्ट्स विषय में बीए एवं बीएड या फिर राष्ट्रीय अध्यापक शिक्षा परिषद् से मान्यता प्राप्त किसी संस्थान से बीएएड की चार वर्षीय डिग्री को अनिवार्य कर दिया गया है। शिक्षक सेवा नियमावली में इस बदलाव से उन उम्मीदवारों को झटका लगा है जो बीएड नहीं हैं।
विज्ञापन
आगे पढ़ें

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
Election
X

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
  • Downloads

Follow Us