एक्सक्लूसिव: राजीव गांधी नवोदय विद्यालय की बड़ी कक्षाओं में सालों तक खाली रहती हैं सीटें

सार

  • सिर्फ छठी में मिलता है दाखिला, बड़ी कक्षाओं में सालों तक खाली रहती हैं सीटें
  • ननूरखेड़ा स्थित स्कूल में 11वीं व 12वीं कक्षा में 20 प्रतिशत से ज्यादा सीटें खाली 
  • हर साल कई छात्र छोड़ देते हैं स्कूल, बड़ी कक्षाओं में दाखिले का नियम नहीं 
विज्ञापन
alka tyagi गौरव ममगाईं, अमर उजाला, देहरादून Published by: अलका त्यागी
Updated Fri, 29 Jan 2021 02:10 AM IST
स्कूल
स्कूल - फोटो : अमर उजाला फाइल फोटो

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर
कहीं भी, कभी भी।

*Yearly subscription for just ₹299 Limited Period Offer. HURRY UP!

ख़बर सुनें

विस्तार

राजीव गांधी नवोदय विद्यालय में नियमों की पेचीदगी के चलते खाली सीटों पर पात्र छात्रों को दाखिला नहीं मिल पा रहा है। समस्या यह है कि इन विद्यालयों में सिर्फ कक्षा छह में ही दाखिले होते हैं। जबकि, बड़ी कक्षाओं के कई छात्र हर साल स्कूल छोड़ देते हैं। इन कक्षाओं में सीधे दाखिले का नियम नहीं होने से यह सीटें खाली ही रहती हैं। 
विज्ञापन


देहरादून के ननूरखेड़ा स्थित राजीव गांधी नवोदय विद्यालय की ही बात करें तो यहां वर्तमान में 321 छात्र पढ़ रहे हैं, जबकि कई कक्षाओं के 30 छात्र स्कूल छोड़ चुके हैं। 11वीं व 12वीं में ही 20 प्रतिशत से ज्यादा सीटें खाली चल रही हैं।


शिक्षक जीसी थपलियाल ने बताया कि छठी कक्षा में दाखिले की प्रक्रिया चल रही है, जिसमें अभी तक 51 छात्र दाखिला ले चुके हैं। वहीं, सीबीएसई के क्षेत्रीय निदेशक रणवीर सिंह ने जवाहर नवोदय की तर्ज पर राजीव गांधी नवोदय विद्यालय में 9वीं व 11वीं में भी दाखिला करने का सुझाव दिया है।
विज्ञापन
आगे पढ़ें

ये हैं सीटें

विज्ञापन

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
Election
  • Downloads

Follow Us

X

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00
X