विज्ञापन
विज्ञापन

स्कूली स्तर पर कृषि शिक्षा को बढ़ावा क्यों नहीं

उमेश्वर कुमार Updated Wed, 05 Nov 2014 08:32 PM IST
Why not promot Agriculture education on school level
ख़बर सुनें
कहने को भारत कृषि प्रधान देश है। पर बात जब कृषि शिक्षा की आती है, तो सूरत अलग नजर आती है। हायर सेकेंडरी स्तर पर कृषि के पाठ्यक्रम में होने के बावजूद इस पर न सरकार का ध्यान है, न ही पढ़ने-पढ़ाने वालों का। स्कूल के बाद पढ़ाई जारी न रखने वाले अधिकांश छात्र खेती-किसानी में लग जाते हैं। लेकिन इसके लिए न तो उन्हें औपचारिक ज्ञान होता है, न कोई प्रशिक्षण। परंपरागत तौर पर जो कुछ सीखा, वही उसका ज्ञान है।
विज्ञापन
सीबीएसई के अलावा कई राज्यों के स्कूल शिक्षा बोर्ड ने कृषि को पाठ्यक्रम में शामिल किया है। वैकल्पिक विषय होने के अलावा कृषि बागवानी के रूप में वोकेशनल कोर्स में भी मौजूद है। मगर हायर सेकेंडरी स्तर पर दो फीसदी से भी कम छात्र कृषि की पढ़ाई करते हैं। कृषि क्षेत्र की तस्वीर बदलनी है, तो हाई स्कूल स्तर पर पाठ्यक्रम में कृषि की पढ़ाई को फोकस में लाना होगा।

वर्ष 1968 में पहली शिक्षा नीति घोषित हुई थी, जिसमें सभी राज्यों में एकल कैंपस वाला कम से कम एक कृषि विश्वविद्यालय बनाने की बात प्रमुख थी। 1992 में नई शिक्षा नीति के संशोधित स्वरूप में ग्रामीण विश्वविद्यालयों की अवधारणा पेश हुई। पर हाई स्कूल स्तर पर कृषि शिक्षा को वरीयता नहीं दी गई।

1992 में राष्ट्रीय शैक्षिक अनुसंधान और प्रशिक्षण परिषद (एनसीईआरटी) को स्कूली पाठ्यक्रम निर्धारण की जिम्मेदारी मिली। जुलाई, 2004 में इसने सिर्फ पाठ्यक्रम में संशोधन की संस्तुति की और बाद में नेशनल स्टीयरिंग कमेटी बनाई। कमेटी ने पाठ्यक्रम में विज्ञान, गणित, भारतीय भाषा, अंग्रेजी, समाज विज्ञान, सीखने की कला और परिवेश, नृत्य, नाटक और संगीत को शामिल किया, पर कृषि को इसमें स्थान नहीं मिला। 2005 के नेशनल कैरिकुलम फ्रेमवर्क (एनसीएफ) में वर्क एजुकेशन पर जोर दिया गया। अगला एनसीएफ 2015 में होना है। कृषि क्षेत्र में रोजगार की संभावनाओं और कौशल विकास के दौर में क्या इस बार कृषि को फोकस में नहीं लाया जाना चाहिए? हाई स्कूल स्तर पर उद्यमशीलता को कोर्स में शामिल करने की वकालत हो रही है। कृषि शिक्षा के साथ उद्यमशीलता को जोड़ने से आश्चर्यजनक परिणाम निकल सकते हैं।

आज हायर सेकेंडरी स्तर पर वही लोग कृषि की पढ़ाई करते हैं, जिन्हें कॉलेज में इसकी पढ़ाई करनी होती है। पर कृषि के अधिकांश ग्रेजुएट भी खेती के लिए इसकी पढ़ाई नहीं करते। वे उच्च शिक्षा और रोजगार के लिए इस क्षेत्र में आते हैं। हायर सेकेंडरी स्तर पर अच्छे सिलेबस, रोजगारपरक प्रैक्टिकल के साथ इस विषय की पढ़ाई करवाई जाए, तो कृषि के बारे में बुनियादी जानकारी होने के कारण इन सभी माध्यमों के प्रति युवाओं की रुचि बढ़ेगी। कृषि शिक्षा के क्षेत्र में सरकारी कोशिशों के अलावा जनमत बनाने की भी जरूरत होगी। सरकार विशेष किसान टीवी चैनल शुरू करने जा रही है। दूरदर्शन और रेडियो के अलावा टोल फ्री नंबर पर कृषि जानकारी सरकार उपलब्ध करा रही है। लेकिन, सबसे बड़ी चुनौती यह है कि इसका लक्ष्य समूह इन जानकारियों का समुचित लाभ नहीं ले पा रहा।
विज्ञापन

Recommended

OPPO के Big Diwali Big Offers से होगी आपकी दिवाली खूबसूरत और रौशन
Oppo Reno2

OPPO के Big Diwali Big Offers से होगी आपकी दिवाली खूबसूरत और रौशन

कराएं दिवाली की रात लक्ष्मी कुबेर यज्ञ, होगी अपार धन, समृद्धि  व्  सर्वांगीण कल्याण  की प्राप्ति : 27-अक्टूबर-2019
Astrology Services

कराएं दिवाली की रात लक्ष्मी कुबेर यज्ञ, होगी अपार धन, समृद्धि व् सर्वांगीण कल्याण की प्राप्ति : 27-अक्टूबर-2019

विज्ञापन
विज्ञापन
अमर उजाला की खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

Most Read

Opinion

पास या फेल से आगे

स्कूल शिक्षा गुणवत्ता सूचकांक की रिपोर्ट का इस्तेमाल आंख मूंदकर रैंकिंग के लिए नहीं करना चाहिए, बल्कि इसके आधार पर राज्य सरकारें अपनी शिक्षा नीति तैयार कर सकती हैं या उसका मूल्यांकन कर सकती हैं।

18 अक्टूबर 2019

विज्ञापन

चीन है नकल में माहिर, इन लग्जरी गाड़ियों को कॉपी कर बनाए सस्ते मॉडल

दुनिया की तमाम शानदार लग्जरी कारों के चीनी वर्जन मौजूद हैं, यहां तक कि चीन की निगाह से सबसे महंगी कारें बनाने वाली रॉल्स रॉयस भी नहीं बच सकी है। आइए देखते हैं अब तक चीन किन कारों की बना चुका है कार्बन कापी..

18 अक्टूबर 2019

आज का मुद्दा
View more polls

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree