विज्ञापन
विज्ञापन

आधी आबादी पर मंदी की मार

मुकुल श्रीवास्तव Updated Mon, 28 Jan 2013 09:02 PM IST
slump effected womens
ख़बर सुनें
मंदी को लेकर आमतौर पर धारणा यही है कि मंदी में रोजगार के अवसरों में कटौती होती है और आर्थिक विकास प्रभावित होता है, पर बात महज इतनी-सी नहीं है। प्लान इंटरनेशनल ऐंड ओवरसीज संस्था का हालिया शोध बताता है कि दुनिया भर में मंदी की मार सबसे ज्यादा महिलाओं और लड़कियों पर पड़ती है।
विज्ञापन
आंकड़े बताते हैं कि मंदी के कारण दुनिया में लड़कियों को अपनी प्राथमिक शिक्षा अधूरी छोड़नी पड़ती है। प्राथमिक स्कूलों में 27 प्रतिशत बच्चियों को बीच में पढ़ाई छोड़कर मां के साथ चूल्हे-चौके में हाथ बंटाना पड़ता है, जबकि इसके मुकाबले लड़कों की संख्या 22 फीसदी है। विकास की दौड़ का सच यह भी है कि आर्थिक रूप से पिछड़े देशों में यह समस्या ज्यादा है।

बदलती दुनिया में परिवार की परिभाषाएं बदल रही हैं। अब 'जेंडर कंवर्जेंस' जैसे शब्द समाज द्वारा स्थापित लिंग अपेक्षाओं को तोड़ रहे हैं, जिसमें किसी लिंग विशेष से यह उम्मीद की जाती है कि वह समाज द्वारा स्थापित लिंग मान्यताओं के अनुरूप अपना आचरण करेगा। लेकिन यह संपूर्ण विश्व पर लागू नहीं होता। कई अल्पविकसित देश अब भी इन समस्याओं से जूझ रहे हैं।

विश्व बैंक द्वारा दुनिया के 59 देशों में किए गए सर्वे से यह नतीजा निकला है कि यदि अर्थव्यवस्था एक प्रतिशत लुढ़कती है, तो प्रति हजार बच्चों में मरने वाली नवजात बच्चियों का प्रतिशत 7.4 होता है, जबकि लड़कों का 1.5 फीसदी। यानी मंदी का असर लड़कियों के अस्तित्व पर भी पड़ रहा है।

भारत जैसे देश में लड़कियों को गर्भ में मार देने की सोच के पीछे वित्त का मनोविज्ञान जिम्मेदार है। यह मनोविज्ञान इस आधार पर काम करता है कि पुरुष ही आमदनी का मुख्य स्रोत है। ऐसे में उसकी सुख-सुविधा में कमी उत्पादकता पर असर डालेगी, लिहाजा महिलाएं अपनी जरूरतों में कटौती कर लेती हैं और बाद में यह क्रिया पीढ़ियों का हिस्सा बन जाती है।
 
रिपोर्ट बताती है कि मंदी लड़कियों की थाली से निवाले की संख्या भी घटा देती है। जिस वजह से महिलाओं को पोषक तत्वों से भरपूर खाना नहीं मिलता, जो गर्भवती महिलाओं के लिए सबसे ज्यादा घातक सिद्ध होता है। भारतीय रसोइयों में तो वैसे भी घर के मुखिया और पुरुषों को खिला देने के बाद बचे खाने में महिलाओं का नंबर आता है। इन सबका परोक्ष असर महिलाओं के स्वास्थ्य पर पड़ता है।

महिलाओं की स्थिति भारत में भी बदतर है। महिलाओं पर पड़ने वाला यह असर महज आर्थिक न होकर बहुआयामी होता है, जो एक ऐसे दुष्चक्र का निर्माण करता है, जिससे किसी भी देश का सामजिक-आर्थिक ढांचा प्रभावित होता है और आर्थिक असंतुलन के वक्त इसका सबसे बड़ा शिकार महिलाएं होती हैं।

सीवन एंडरसन और देवराज रे नामक दो अर्थशास्त्रियों ने अपने शोधपत्र 'मिसिंग वूमेन एज ऐंड डिजीज' में आकलन किया है कि भारत में हर साल बीस लाख से ज्यादा महिलाएं लापता हो जाती हैं। इस मामले में दो राज्य हरियाणा और राजस्थान अव्वल हैं।

शोधपत्र के अनुसार, ज्यादातर महिलाओं की मौत जख्मों से होती है, जिससे यह पता चलता है कि उनके साथ हिंसा होती है। वर्ष 2011 के पुलिस आंकड़े बताते हैं कि देश में लड़कियों के अपहरण के मामले 19.4 प्रतिशत बढ़े हैं, जबकि दहेज मामलों में महिलाओं की मौत में 2.7 प्रतिशत की बढ़ोतरी हुई  है। सबसे ज्यादा चिंता की बात यह है कि लड़कियों की तस्करी के मामले 122 प्रतिशत बढ़े हैं।
 
रिपोर्ट के अनुसार मंदी के दौरान महिलाओं के साथ होने वाले भेदभाव और उनकी जरूरतों को नजरंदाज करने की प्रवृत्ति बढ़ी है। लड़कियों की कम उम्र में शादी इसलिए कर दी जा रही है, ताकि उनके खाने का खर्चा बचाया जा सके।

भारत में इस समस्या से निपटने के लिए जेंडर बजटिंग की शुरुआत की है, पर कई राज्यों में अभी इस तरह की पहल होनी बाकी है, जिससे जमीनी स्तर पर बड़ा बदलाव दिखे। नन्हे हाथों से बर्तनों की कालिख छुड़ाती, बचपन की कमर पर पानी का मटका भरकर लाती और सारे घर को बुहारती बिटिया हो या घर का सारा काम निपटाती गृहिणी, फिलवक्त दोनों ही बदलाव के इंतजार में हैं। अगर हम वास्तव में बराबरी और समृद्धि का समाज चाहते हैं, तो हमें इस आधी आबादी को उसका हक देना ही होगा।
विज्ञापन

Recommended

OPPO के Big Diwali Big Offers से होगी आपकी दिवाली खूबसूरत और रौशन
Oppo Reno2

OPPO के Big Diwali Big Offers से होगी आपकी दिवाली खूबसूरत और रौशन

कराएं दिवाली की रात लक्ष्मी कुबेर यज्ञ, होगी अपार धन, समृद्धि  व्  सर्वांगीण कल्याण  की प्राप्ति : 27-अक्टूबर-2019
Astrology Services

कराएं दिवाली की रात लक्ष्मी कुबेर यज्ञ, होगी अपार धन, समृद्धि व् सर्वांगीण कल्याण की प्राप्ति : 27-अक्टूबर-2019

विज्ञापन
विज्ञापन
अमर उजाला की खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

Most Read

Blog

परिणीति चोपड़ा का ब्लॉगः खुद को चुनौती देते रहना ही विकसित होना है

मेरी दिल की डायरी के तमाम पन्ने ऐसे हैं जिन पर मेरे चाहने वालों का प्यार दर्ज है। हर कलाकार के लिए उसके चाहने वाले ही उसकी सबसे बड़ी नेमत होते हैं।

21 अक्टूबर 2019

विज्ञापन

NCRB की 2015-17 की रिपोर्ट: दिल्ली फिर बनी अपराध की राजधानी, साइबर क्राइम में यूपी नंबर वन

NCRB की 2015-17 की रिपोर्ट जारी हो गई है। दिल्ली फिर अपराध की राजधानी दिखी है तो वहीं साइबर क्राइम के मामले में यूपी नंबर वन है। इसके साथ ही निर्भया कांड के बाद कानून सख्त होने के बाद भी रेप पीड़िताओं को इंसाफ के लिए लंबा इंतजार करना पड़ रहा है।

21 अक्टूबर 2019

आज का मुद्दा
View more polls

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree