विज्ञापन
विज्ञापन

एफडीआई में दलितों का कितना हिस्सा

उदित राज Updated Tue, 11 Dec 2012 12:42 AM IST
how much part of dalit in fdi
ख़बर सुनें
खुदरा व्यापार में एफडीआई की इजाजत के कई पक्ष हैं। लोकसभा एवं राज्यसभा में एफडीआई पर सरकार की जीत हुई। संसद में इतनी बड़ी मैराथन चर्चा में किसी ने भी यह पक्ष नहीं रखा कि एफडीआई का दलितों एवं आदिवासियों पर क्या असर पड़ेगा?
विज्ञापन
यह भी सत्य है कि ज्यादातर दलित सांसद अर्थशास्त्र की जानकारी कम ही रखते हैं, इसलिए भी ऐसी आवाज नहीं उठ पाई। 1991 में जब नई आर्थिक नीति लाई गई थी, तो लगा था कि जाति आधारित व्यवसाय एवं व्यापार की सीमा टूटेगी और मुक्त अर्थव्यवस्था में सबको फलने-फूलने की आजादी होगी, लेकिन ऐसा हुआ नहीं।

सवर्ण जातियों को जरूर दलित एवं पिछड़ी जातियों के व्यवसाय और व्यापार में हस्तक्षेप करने का मौका मिला, लेकिन पिछड़ों और दलितों को यह अवसर प्राप्त नहीं हो सका। जहां तक दलितों और आदिवासियों के विकास की बात है, तो उनको निजीकरण, भूमंडलीकरण से फायदे के बजाय घाटा ही हुआ है। सवर्णों को जरूर उसका लाभ मिला है और एफडीआई का भी लाभ उन्हें ही मिलने वाला है। एफडीआई भी तो निजीकरण एवं भूमंडलीकरण का ही प्रतिफल है।

निजीकरण एवं उदारीकरण से तमाम नए व्यापार एवं कारोबार खड़े हुए, जिसमें दलितों और आदिवासियों की भागीदारी शून्य के बराबर रही है। चाहे वह आईटी, दूरसंचार, मॉल, आईपीएल या टीवी चैनल एवं तमाम सेवा देने वाले क्षेत्र क्यों न हों, क्या कोई यह प्रमाण दे सकता है कि इन क्षेत्रों में पूरे देश में कितने दलित एवं आदिवासियों की भागीदारी है? भागीदारी की बात तो दूर, उलटा आरक्षण समाप्ति की ओर है। सरकारी विभागों में कर्मचारी-अधिकारी सेवानिवृत्त हो रहे हैं, पर उनकी एवज में भरतियां नहीं हो पा रही हैं, जबकि इन वर्गों में शिक्षा बढ़ने से सरकारी नौकरियां बढ़नी चाहिए थी।

मुक्त अर्थव्यवस्था से प्रतिकूल प्रभाव जरूर पड़ा है। दिल्ली में मोहम्मदपुर गांव में, जो भीकाजीकामा प्लेस के पीछे है, छह सैलून का सर्वे किया गया, तो पता लगा कि इनके मालिक सारे सवर्ण हैं। इसी तरह जूता बनाने का काम दलित करता था, लेकिन अब बड़ी कंपनियां इस काम को कर रही हैं और जिनका पारंपरिक पेशा था, वे हाशिये पर चले गए हैं। कपड़ा धोना एवं ड्राई क्लीन का भी काम सवर्णों के हाथ में चला गया है। यह निजीकरण एवं भूमंडलीकरण की वजह से हुआ। यदि दलितों एवं पिछड़ों को भी सवर्णों के व्यवसाय या नए व्यापार के क्षेत्र में भागीदारी मिली होती, तो आपत्ति नहीं थी।  

हम उस बहस में नहीं पड़ना चाहते हैं कि एफडीआई किसके हित में है या नहीं, लेकिन यह निश्चित है कि इससे दलितों का कोई लाभ नहीं होने वाला। एफडीआई के प्रमुख दो पक्ष हैं। एक है, किसानों एवं छोटे उत्पादकों से तमाम वस्तुओं को खरीदना और उसको बेचना, अर्थात उत्पादक एवं उपभोक्ता। जहां तक दलित उपभोक्ता की बात है, उन्हीं के पास क्रय शक्ति ज्यादा है, जिन्होंने आरक्षण की वजह से सरकारी सेवाओं एवं राजनीति में रहकर अच्छी माली हालत बना ली है।

यदि इनमें क्रेता वे होते, जो उत्पादक हैं, तो यह कहा जा सकता था कि विदेशी खुदरा व्यापार की वजह से उत्पादित वस्तुओं का दाम अच्छा मिला है, इसलिए उनकी आमदनी एवं क्रयशक्ति बढ़ी है। दलित-आदिवासी जमींदार हैं नहीं, अगर हैं तो छोटे-मोटे किसान। इसलिए यह भी संभव नहीं है कि खुदरा में एफडीआई से इनकी आय बढ़ेगी।

एफडीआई न केवल विदेशी कंपनियों के जरिये आएगा, बल्कि भारतीय पूंजीपति भी इसे लाने वाले होंगे। विदेशी कंपनियां भी दलित, आदिवासी, अल्पसंख्यक और पिछड़ों को नौकरी देने वाली नहीं है, क्योंकि उनका प्रबंधन प्रायः सवर्णों के हाथ में होगा। जिस तरह से अमेरिका एवं तमाम विकसित देशों में दबे-कुचलों को संरक्षण देने का काम किया जाता है, वैसा प्रयास भारत में भी करना होगा।

अमेरिका में पूरी तरह से मुक्त व्यापार है, पर सरकारी संरक्षण की वजह से वहां के वंचित जैसे अश्वेत, हिस्पेनिक्स एवं मूल निवासी की भागीदारी सुनिश्चित है। हमारे यहां जब एफडीआई का खुदरा व्यापार में रास्ता साफ कर दिया गया है, तो सरकार को चाहिए कि अमेरिका की तर्ज पर या हमारी आरक्षण की नीति के अनुसार दलित-आदिवासियों को रोजगार सुनिश्चित कराए।
विज्ञापन

Recommended

फैशन इंडस्ट्री दे रही है खास मौके, इन्वर्टिस संग करें खुद को तैयार
Invertis university

फैशन इंडस्ट्री दे रही है खास मौके, इन्वर्टिस संग करें खुद को तैयार

अपनी संतान की लंबी आयु के लिए इस जन्माष्टमी मथुरा में संतान गोपाल पाठ और हवन करवाएं - 24 अगस्त 2019
Astrology Services

अपनी संतान की लंबी आयु के लिए इस जन्माष्टमी मथुरा में संतान गोपाल पाठ और हवन करवाएं - 24 अगस्त 2019

विज्ञापन
विज्ञापन
अमर उजाला की खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

Most Read

Opinion

कश्मीर पर दुविधा में पाकिस्तान, सीमित हैं विकल्प

पाकिस्तान के पास मात्र दो विकल्प हैं, कूटनीति से वैश्विक शक्तियों को अपने पक्ष में करना और दूसरा युद्ध। युद्ध के विकल्प को वहां के प्रधानमंत्री इमरान खान ने खुद ही नकार दिया है और दुनिया के देश अपने निजी हितों के कारण भारत के खिलाफ नहीं बोलेंगे।

17 अगस्त 2019

विज्ञापन

भाजपा के अहम नेता अरुण जेटली ने जेल में बिताए थे 19 महीने

कुछ लोग परिचय के मोहताज नहीं होते। अरुण जेटली भी एक ऐसा ही नाम है जो राजनीति के एक चमकदार सितारे के रूप में उभर कर सामने आया। जेटली भाजपा के प्रमुख नेता और प्रसिद्ध अधिवक्ता के साथ-साथ पूर्व वित्त मंत्री भी रहे।

17 अगस्त 2019

आज का मुद्दा
View more polls

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree