विज्ञापन
विज्ञापन

हिंदी की ताकत वही है जो हिंदुस्तान की है, लेकिन हिंदी को हिब्रू-सा गौरव कब मिलेगा?

हेमंत शर्मा Updated Sun, 15 Sep 2019 12:58 AM IST
Hindi diwas
Hindi diwas
ख़बर सुनें
हिंदी जो हमारी अस्मिता का बोध है; जो हमारी मातृभाषा है; जो हमारी सोच की रगों में लहू बनकर बहती है; जो हमारी आजीविका का साधन है;  जो दुनिया की तीसरी सबसे बड़ी भाषा है, आखिर उसका दिवस, सप्ताह या पखवाड़ा मनाने का चोंचला क्यों? हिंदी तो इस देश की आत्मा है। फिर उसे सरकारी फाइलों से क्यों जूझना पड़ रहा है?
विज्ञापन
दक्षिण पूर्व भूमध्य सागर के पूर्वी छोर पर एक देश है इस्राइल। इसके उत्तर में लेबनान, पूर्व में सीरिया और जॉर्डन तथा दक्षिण-पश्चिम में मिस्र है। 20 हजार वर्ग किमी के क्षेत्रफल वाला यह देश दुनिया भर में हमेशा सुर्खियों में बना रहता है। इस्राइल की स्थापना 14 मई, 1948 को हुई थी। इससे पहले इस नाम के किसी देश का कोई अस्तित्व नहीं था। यहूदियों पर उस्मान साम्राज्य राज करता था। प्रथम विश्वयुद्ध के दौरान 1917 में उस्मान साम्राज्य का पतन हो गया। अलग देश की मांग उठी और ब्रिटेन फलस्तीन पर राज करने लगा। अंग्रेजों ने बेलफोर्स घोषणा कर यहूदियों के लिए अलग देश की मांग का समर्थन किया।

ब्रिटिश राज ने संयुक्त राष्ट्र से यहूदी-फलस्तीन झगड़े का हल निकालने को कहा। संयुक्त राष्ट्र ने फलस्तीन को तीन हिस्सों में बांटने का फैसला लिया। पहला हिस्सा यहूदियों को, दूसरा अरब को और तीसरा येरूशलम। अंग्रेजी राज खत्म होने पर इस्राइल ने खुद को आजाद देश घोषित किया। डेविड बेन-गुरियन इस्राइल के संस्थापक और पहले प्रधानमंत्री थे। वह एक कट्टर यहूदी राष्ट्रवादी थे। उनकी भाषा हिब्रू करीब 3,000 साल पुरानी थी। पर संस्कृत की तरह वह मृत भाषा हो गई थी। प्रधानमंत्री बनते ही गुरियन ने अपने सहयोगियों से पूछा कि अगर हिब्रू को राजभाषा बनाना हो, तो कितना वक्त लगेगा? अफसरों ने कहा, वक्त लगेगा। गुरियन ने कहा, कल सुबह से हिब्रू इस देश की राजभाषा होगी। दूसरे रोज सुबह हिब्रू को राजभाषा का दर्जा दे दिया गया। अरबी को विशेष भाषा के दर्जे के साथ।

आज हिब्रू इस्राइल की सरकार, वाणिज्य, अदालत, स्कूलों और विश्वविद्यालयों में इस्तेमाल की जाने वाली आधिकारिक भाषा है। 90 लाख से अधिक लोग हिब्रू बोलते हैं, जिनमें से अधिकतर की यह मातृभाषा है। हिब्रू के इस्राइल की राजभाषा बनने की कहानी प्रखर राष्ट्रवाद और दृढ़ इच्छाशक्ति की कहानी है। अब यहां से अपने देश की सीमा में प्रवेश करते हैं।
विज्ञापन
आगे पढ़ें

विज्ञापन

Recommended

महालक्ष्मी मंदिर, मुंबई में कराएं दिवाली लक्ष्मी पूजा : 27-अक्टूबर-2019
Astrology Services

महालक्ष्मी मंदिर, मुंबई में कराएं दिवाली लक्ष्मी पूजा : 27-अक्टूबर-2019

विज्ञापन
विज्ञापन
अमर उजाला की खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

ऑड ईवन स्कीम : नियम तोड़ने पर देना होगा 4 हजार का जुर्माना, बाइक सवारों को मिली छूट

दिल्ली में सम विषम योजना लागू होने के दौरान कानून तोड़ने पर वाहन चालकों जुर्माने के तौर पर मोटी रकम चुकानी होगी। गलती पकड़ी जाने पर 4,000 रुपये जुर्माना पड़ेगा।

16 अक्टूबर 2019

आज का मुद्दा
View more polls

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree