कुरुक्षेत्र: सुशांत की मौत से अशांत बॉलीवुड आखिर किस रास्ते पर चल पड़ा

Vinod Agnihotriविनोद अग्निहोत्री Updated Thu, 09 Jul 2020 09:59 AM IST
विज्ञापन
सुशांत सिंह की मौत की छानबीन मुंबई पुलिस कर रही है- फाइल फोटो
सुशांत सिंह की मौत की छानबीन मुंबई पुलिस कर रही है- फाइल फोटो - फोटो : सोशल मीडिया

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर
कहीं भी, कभी भी।

*Yearly subscription for just ₹299 Limited Period Offer. HURRY UP!

ख़बर सुनें

सार

आरोप है कि बॉलीवुड में कुछ लोगों का एक एसा संगठित गुट सक्रिय है जिसमें कुछ प्रमुख फिल्मी घराने और निर्माता निर्देशक शामिल हैं और जो नवोदित कलाकारों को मौका न देते हैं और न मिलने देते हैं।सभी अच्छी फिल्में उन कलाकारों के लिए होती हैं जिनके बाप दादे फिल्मी दुनिया में मजबूती से जमे हुए हैं।

विस्तार

असमय दुखद मृत्यु को प्राप्त हुए बॉलीवुड के सितारे सुशांत सिंह राजपूत के परिवार के धैर्य और संयम की सराहना की जानी चाहिए कि उन्होंने तमाम विवादों और दबावों के बावजूद अपने सबसे प्रिय बेटे को खो देने के बावजूद अपना संयम और धैर्य नहीं खोया।
विज्ञापन


सुशांत की तेरहवीं के बाद परिवार ने अपना मौन तोड़ते हुए उन सबका आभार व्यक्त किया जो दुख की इस घड़ी में उनके साथ रहे। साथ ही यह जानकारी भी दी कि सुशांत के नाम से एक फाउंडेशन का गठन करेंगे जो बॉलीवुड के नवोदित कलाकारों को प्रोत्साहित करने का काम करेगा।साथ ही पटना में सुशांत की याद में एक संग्रहालय बनाने की भी घोषणा की गई।


लेकिन परिवार ने सुशांत की मौत को लेकर कोई टिप्पणी नहीं की और न ही इस हादसे के बाद फिल्मी दुनिया और सोशल मीडिया में जारी आरोप प्रत्यारोप की विष वमन की राजनीति पर कोई टिप्पणी की।

सुशांत की दुखद मौत के बाद फिल्मी दुनिया में एक दूसरे की टांग खींचने का जो दौर शुरु हुआ उसने चमक दमक वाली इस रुपहले पर्दे की इस दुनिया को बेपर्दा करके रख दिया है। जिस तरह एक दूसरे पर कीचड़ उछाला जा रहा है और सुशांत की मौत की आड़ में नए पुराने हिसाब चुकाए जा रहे हैं।

यहां तक कि सुशांत के पिता के नाम से फर्जी ट्विटर एकाऊंट बनाकर उससे ट्वीट करके सुशांत की मौत की सीबीआई जांच की मांग की गई, जिसे बाद में सुशांत के परिवार ने गलत बताते हुए उस एकाउंट को फर्जी बताया।

इससे भी आगे बढ़ कर बॉलीवुड के ही एक गुट के द्वारा कई नामी गिरामी फिल्म निर्माताओं निर्देशकों और सितारों की फिल्मों के बहिष्कार की अपील भी की जा रही है।इससे एक बात तो साफ है कि बॉलीवुड जो कभी अपनी एकजुटता और परिवार जैसी भावना के लिए जाना जाता था, अब तार तार होकर बिखर चुका है और उसके भीतर की गंदगी बेपर्दा होकर बाहर आ गई है। 

सुशांत सिंह की मौत की छानबीन मुंबई पुलिस कर रही है और प्रथम दृष्टया इसे आत्महत्या का ही मामला माना जा रहा है। इस मौत की वजह और अगर कोई जिम्मेदार है तो उस तक पहुंचना पुलिस का काम है,और यह काम मुंबई पुलिस बखूबी कर भी रही है।

मामले से जुड़े कई नामी गिरामी लोगों से पूछताछ की जा रही है। सोशल मीडिया पर बॉलीवुड में नेपोटिज्म जिसे हिन्दी में भाई भतीजावाद या परिवारवाद कहा जाता है, का आरोप बड़ी प्रमुखता से लगाया जा रहा है।

आरोप है कि बॉलीवुड में कुछ लोगों का एक एसा संगठित गुट सक्रिय है जिसमें कुछ प्रमुख फिल्मी घराने और निर्माता निर्देशक शामिल हैं और जो नवोदित कलाकारों को मौका न देते हैं और न मिलने देते हैं।सभी अच्छी फिल्में उन कलाकारों के लिए होती हैं जिनके बाप दादे फिल्मी दुनिया में मजबूती से जमे हुए हैं।

आरोप है कि भाई भतीजावाद के साथ साथ गुटबाजी इस कदर हावी है कि जो भी अभिनेता अभिनेत्री संगीतकार गीतकार लेखक इस गुट की मनमानी शर्तों को मानने से इनकार करता है उसे पूरे फिल्म उद्योग में अलग थलग कर दिया जाता है।इसका नतीजा होता है कि कई नवोदित प्रतिभाशाली कलाकारों की प्रतिभा कुंठित हो जाती है और इनमें से कुछ आत्महत्या जैसा कदम भी उठा लेते हैं। 

 
विज्ञापन
आगे पढ़ें

हर सफल व्यक्ति अपनी पूंजी और विरासत अपने वारिस को ही देता है...

विज्ञापन

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
Election
  • Downloads

Follow Us

X

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00
X