विज्ञापन
विज्ञापन

इस वजह से सरकारी स्कूलों से भंग होता है छात्रों-अभिभावकों का मोह

Avinash chandraअविनाश चंद्र Updated Mon, 14 Oct 2019 09:10 AM IST
नीति आयोग द्वारा तैयार किया गया स्कूल एजुकेशन क्वालिटी इंडेक्स इन दिनों राष्ट्रव्यापी चर्चा का विषय बना हुआ है।
नीति आयोग द्वारा तैयार किया गया स्कूल एजुकेशन क्वालिटी इंडेक्स इन दिनों राष्ट्रव्यापी चर्चा का विषय बना हुआ है। - फोटो : pixabay
ख़बर सुनें
नीति आयोग द्वारा तैयार किया गया स्कूल एजुकेशन क्वालिटी इंडेक्स इन दिनों राष्ट्रव्यापी चर्चा का विषय बना हुआ है। हालांकि इस इंडेक्स में अप्रत्याशित जैसा कुछ भी नहीं है। यह इंडेक्स पूर्व में सरकारी व गैर सरकारी स्तर पर हुए शोधों और उनके आंकड़ों की एक प्रकार से पुष्टि भर ही करता है। वैसे यह इंडेक्स शिक्षा का अधिकार कानून के उन प्रावधानों की भी कलई खोलता है जो स्कूलों को लर्निंग आऊटकम की बजाए बिल्डिंग और प्ले ग्राउंड के आधार पर मान्यता प्रदान करता है।
विज्ञापन
जबकि दुनियाभर के शोध लर्निंग आऊटकम और क्लासरूम के साइज़ के बीच किसी भी प्रकार के संबंध से इंकार करते हैं। नीति आयोग द्वारा जुटाए गए आंकड़ें भी इसकी पुष्टि ही करते हैं। जारी इंडेक्स के मुताबिक, ऐसे राज्यों के सरकारी स्कूलों में भी छात्रों का प्रदर्शन काफी अच्छा रहा है जहां इंफ्रास्ट्रक्चर व अन्य सुविधाएं बहुत अच्छी नहीं है।

आंध्र प्रदेश, कर्नाटक, राजस्थान, केरल, असम, उत्तराखंड जैसे राज्य इसके उदाहरण हैं। जबकि ऐसे राज्य जिन्होंने अपने बजट का बड़ा हिस्सा सिर्फ स्कूल भवनों व अन्य सुविधाओं पर खर्च किया है वहां छात्रों के सीखने का स्तर काफी खराब रहा है। शानदार स्कूल बिल्डिंग, स्वीमिंग पूल सहित अन्य सुविधाएं प्रदान कर देशभर में सुर्खियां बटोरने वाली दिल्ली सहित पंजाब, हरियाणा, हिमाचल प्रदेश, तमिलनाडु इसके ज्वलंत उदाहरण हैं।

मजे की बात यह है कि तीसरी, पांचवी व आठवीं कक्षा के छात्रों के बीच भाषा और गणित विषय को लेकर किए गए अध्ययन में आंध्र प्रदेश, कर्नाटक, राजस्थान हर वर्ग में अच्छा प्रदर्शन करने वाले राज्य रहे। जबकि इंफ्रास्ट्रक्चर पर अधिक फोकस करने वाले दिल्ली, पंजाब, हरियाणा जैसे राज्य सभी वर्गों में फिसड्डी रहे।

यही कारण है कि गुणवत्ता युक्त शिक्षा की इच्छा रखने वाले छात्रों व अभिभावकों का मोह सरकारी स्कूलों के प्रति भंग होता जा रहा है। गरीब से गरीब व्यक्ति भी अपने बच्चों के उज्जवल भविष्य के लिए उन्हें निजी स्कूलों में भेजना चाहता है। आरटीई ने इस काम में उनकी खूब मदद भी की है।
 
विज्ञापन
आगे पढ़ें

विज्ञापन

Recommended

पीरियड्स है करोड़ों लड़कियों के स्कूल छोड़ने का कारण
NIINE

पीरियड्स है करोड़ों लड़कियों के स्कूल छोड़ने का कारण

विनायक चतुर्थी पर सिद्धिविनायक मंदिर(मुंबई ) में भगवान गणेश की पूजा से खत्म होगी पैसों की किल्लत 30-नवंबर-2019
Astrology Services

विनायक चतुर्थी पर सिद्धिविनायक मंदिर(मुंबई ) में भगवान गणेश की पूजा से खत्म होगी पैसों की किल्लत 30-नवंबर-2019

विज्ञापन
विज्ञापन
अमर उजाला की खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

Most Read

Opinion

जिनके पास मां है

सर्वेक्षणों ने दिखाया है कि गर्भवती महिलाओं के स्वास्थ्य पर समुचित ध्यान नहीं दिया जा रहा है। झारखंड, मध्य प्रदेश और उत्तर प्रदेश जैसे राज्यों को माताओं, बच्चों और भावी माताओं पर बहुत अधिक निवेश करने की आवश्यकता है।

19 नवंबर 2019

विज्ञापन

महाराष्ट्र: कांग्रेस-एनसीपी की बैठक कल, सरकार बनाने पर सस्पेंस है जारी

महाराष्ट्र में सरकार बनाने पर सस्पेंस जारी है। कल कांग्रेस-एनसीपी के बीच बैठक होगी। इस बीच संजय राउत ने कहा की सरकार बनाने वाले भाग गए। अब हम सरकार बनाएंगे।

19 नवंबर 2019

आज का मुद्दा
View more polls

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree
Election