विज्ञापन
विज्ञापन

क्यों भारत ही नहीं दुनिया के लिए खतरा हैं जीएम फसलें? क्या अलर्ट है भारत सरकार?

Gautam Chaudharyगौतम चौधरी Updated Mon, 15 Jul 2019 04:07 PM IST
अनुवाशिक संशोधित फसल भारत की कृषि व्यवस्था के लिए बड़ा खतरा है।
अनुवाशिक संशोधित फसल भारत की कृषि व्यवस्था के लिए बड़ा खतरा है। - फोटो : Social Media
ख़बर सुनें
वैसे तो भारतीय कृषि पहले से ही भारी संकट में है, लेकिन अब जो संकट सामने खड़ा है उसका केवल गंभीर परिणाम ही नहीं खतरनाक प्रभाव सामने आने वाला है। दरअसल, यह खतरा अनुवाशिक संशोधित फसल के कारण होगा, जिसपर अभी से दबाव नहीं बनाया गया तो दुनिया के अनाज पर कब्जा करने वाली बीज की कंपनियां भारत को पूरी तरह से बर्बाद कर देंगी।
विज्ञापन
आखिर अनुवांशिक संशोधित फसलें हैं क्या? 
आनुवांशिक संशोधित फसल वे फसलें हैं, जिनके आनुवांशिक पदार्थ (डीएनए) में बदलाव किए जाते हैं। ऐसी फसलों की उत्पत्ति इनकी बनावट में अनुवांशिकीय रूपांतरण से की जाती है। इनका आनुवांशिक पदार्थ आनुवांशिक अभियांत्रिकी से तैयार किया जाता है। इससे फसलों के उत्पादन में बढ़ोत्तरी होती है और आवश्यक तत्वों की मात्रा बढ़ जाती है। 

दरअसल, इस प्रकार के अनुवांशिक अभियंत्रण की शुरुआत रूस की साम्यवादी सरकार ने प्रारंभ कराई थी। इसके जनक निकोलाई बेबीलोव को माना जाना चाहिए। बेबीलोव, बोल्शेविक पार्टी के विज्ञान आयोग न के केवल चेयरमैन थे अपितु सोवियत साम्यवादी पार्टी के पोलित ब्यूरो सदस्य भी थे। उन्होंने दुनियाभर के पौधों का अध्ययन किया और एक विशाल प्रयोगशाला की स्थापना की। प्रकृति के विकासक्रम को समझने और उसके जीन का अध्ययन कर उसमें परिवर्तन की बात पहली बार बेबीलोव ने ही कही थी।

हालांकि बाद में बेबीलोव का सिद्धांत मार्क्स के द्वंद्वात्मक भौतिकवाद से मेल नहीं खाया और स्टालिन के नेतृत्व वाली रूस की साम्यवादी सरकार ने बेबीलोव को उसी जुर्म में नजबंद कर दिया। उनकी विशाल प्रयोगशाला को बंद करा दिया गया। इसके बाद बेबीलोव अपनी मृत्यु तक  स्टालिन की कैद में रहे। हालांकि साम्यवाद के समर्थकों का दावा है कि जेनेटिक परिवर्तन के सिद्धांत के कारण मानवतावादी स्टालिन ने बेबीलोव के प्रयोग को खारिज कर दिया और उन्हें नजबंद कर दिया था। इसके बाद इस विषय पर अमेरिका के अंदर अनुसंधान प्रारंभ हुआ। 
 
विज्ञापन
आगे पढ़ें

विज्ञापन

Recommended

शेयर मार्केट, अब नहीं रहेगा गुत्थी
Invertis university

शेयर मार्केट, अब नहीं रहेगा गुत्थी

संतान के उज्वल भविष्य व लंबी आयु के लिए इस जन्माष्टमी मथुरा में कराएं संतान गोपाल पाठ व हवन - 24 अगस्त
Astrology Services

संतान के उज्वल भविष्य व लंबी आयु के लिए इस जन्माष्टमी मथुरा में कराएं संतान गोपाल पाठ व हवन - 24 अगस्त

विज्ञापन
विज्ञापन
अमर उजाला की खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

Most Read

Blog

आर अश्विन के लिए और मुश्किल होता जाएगा आगे का सफर

टेस्ट मैच के पहले दिन जब प्लेइंग 11 का एलान हुआ तब वही कॉमेंट्री कर रहे थे। आर अश्विन को प्लेइंग 11 से बाहर रखने के फैसले को उन्होंने ‘एस्टॉनिशिंग’ यानी बेहद हैरान करने वाला बताया।

24 अगस्त 2019

विज्ञापन

‘द एंग्री बर्ड्स 2’ को मिल रहा दर्शकों का प्यार, कीकू कैरेक्टर को लोग खूब पसंद कर रहे

फिल्म ‘द एंग्री बर्ड्स 2’ सिनेमाघरों में रिलीज हो गई है। फिल्म को दर्शकों का खूब प्यार मिल रहा है।

23 अगस्त 2019

आज का मुद्दा
View more polls

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree