निरफ रैंकिंग को लेकर चांसलर वेंकैया नायड़ू ने नाराजगी जताई, पीयू ने सुधारने को योजना बनाई

सुशील कुमार, अमर उजाला, चंडीगढ़ Updated Sun, 05 May 2019 10:13 AM IST
विज्ञापन
वेंकैया नायडू
वेंकैया नायडू - फोटो : फाइल फोटो

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर
कहीं भी, कभी भी।

*Yearly subscription for just ₹299 Limited Period Offer. HURRY UP!

ख़बर सुनें
पंजाब विश्वविद्यालय चंडीगढ़ में हाल में हुए दीक्षांत समारोह के दौरान चांसलर वेंकैया नायडू की ओर से निरफ रैंकिंग पर सवाल उठाए गए। इसलिए अब पीयू प्रशासन बड़ी योजना बना रहा है। चांसलर ने चेतावनी लहजे में कहा था कि इसमें सुधार की जरूरत है। अगले वर्ष तक रैंकिंग अच्छी होनी चाहिए। पीयू में अब उन प्वॉइंट्स पर काम होगा, जिनमें कम अंक मिले हैं।
विज्ञापन

सबसे अधिक रिसर्च के पैरामीटर्स पर कार्य होगा। इसके साथ पीयू अपनी परसेप्शन पर भी काम करेगा। बता दें कि निरफ रैंकिंग में पीयू लगातार पिछड़ता जा रहा है। इस बार 34वीं रैंक हासिल हुई। जैसे ही पीयू के 28 अप्रैल के कन्वोकेशन में यह रैंक साझा की गई तो चांसलर वेंकैया नायडू ने भी नाराजगी जताई। उन्होंने कहा कि बेहतर रैंक केलिए प्रयास किए जाएं।
सूत्रों का कहना है कि कन्वोकेशन के बाद पीयू प्रशासन के जिम्मेदार लोगों ने रैंकिंग के लिए काम करना शुरू कर दिया है। हालांकि पीयू की अटल रैंकिंग देशभर में नौवें स्थान पर आई है, लेकिन केंद्र सरकार की निरफ रैंकिंग में अच्छे अंक आना जरूरी है। सूत्रों का कहना है कि रैंकिंग के लिए तय किए गए बिंदुओं पर हर माह बैठक होगी।
मॉनीटरिंग के लिए भी एक समिति लगाई जाएगी ताकि कोई कमी न रहे। अक्तूबर माह से पहले यह सभी व्यवस्थाएं दुरुस्त कर ली जाएंगी।
विज्ञापन
आगे पढ़ें

इन बिंदुओं पर पीयू करेगा काम

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
Election
X

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00
X
  • Downloads

Follow Us