यूटी शिक्षा विभाग ‘राम’, प्राइवेट स्कूल ‘रावण’ की दोस्ती के मीम वायरल, अभिभावक जता रहे विरोध

संवाद न्यूज एजेंसी, चंडीगढ़ Updated Thu, 21 May 2020 12:06 PM IST
विज्ञापन
मीम्स वायरल
मीम्स वायरल - फोटो : अमर उजाला
ख़बर सुनें
शिक्षा विभाग की ओर से अप्रैल-मई की फीस 31 मई से पहले जमा करवाने के आदेशों का बुधवार को सोशल मीडिया पर परिजनों ने विरोध किया। लोगों ने मीम के जरिए शिक्षा विभाग को ‘राम’ और प्राइवेट स्कूल को ‘रावण’ दिखाकर नीचे की फोटो में राम-रावण खुशी खुशी हाथ मिलाकर डील/दोस्ती करते दिखाए। यह मीम फेसबुक, ट्विटर और व्हाट्सएप पर वायरल हुआ।
विज्ञापन

बच्चों के हाथ में नो स्कूल-नो फीस के पोस्टर पकड़े फोटो के माध्यम से भी फैसले का विरोध किया गया। परिजनों ने बुधवार को अमर उजाला को फोन पर बताया कि स्कूलों ने तीन माह की जगह एक महीने की कुल फीस का नोटिस स्कूल वेबसाइट पर डाल दिया है, लेकिन स्कूल ट्यूशन फीस के अलावा अन्य खर्चे भी फीस के साथ ही वसूल रहे हैं।
स्कूल वेबसाइट पर कुल फीस का ब्रेक-अप नहीं दिखा रहे हैं। सेक्टर-44 के प्राइवेट स्कूल में तीसरी कक्षा में पढ़ रही छात्रा की मां ने बताया कि स्कूल ने एनुअल चार्ज फीस के साथ ही मिला दिए हैं। जब हम कोई सर्विस नहीं ले रहे फिर स्कूल ट्यूशन फीस के अलावा अन्य फीस क्यों मांग रहा है।
वह गृहणी हैं और उनके पति प्राइवेट कंपनी में काम करते हैं। उनके पति को कंपनी की ओर से 25 प्रतिशत तनख्वाह काट कर दी जा रही है। चंडीगढ़ में वह किराए के मकान में रहते हैं। स्कूल की तरफ से ट्यूशन के अलावा अन्य खर्चे भी देंगे तो घर कैसे चलेगा।
विज्ञापन
आगे पढ़ें

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
Election
  • Downloads

Follow Us