विज्ञापन

सरकारी स्कूलों में टीचरों की कमी, स्टूडेंट 10 CGPA में पिछड़े

ब्यूरो/अमर उजाला, चंडीगढ़ Updated Mon, 05 Jun 2017 09:19 AM IST
cbse student
cbse student - फोटो : File Photo
ख़बर सुनें
चंडीगढ़ के सरकारी स्कूल के स्टूडेंट्स 10 सीजीपीए हासिल करने में फिसड्डी रहे हैं। सीबीएसई 10वीं की परीक्षा में इस बार सरकारी स्कूलों के 10736 स्टूडेंट्स ने परीक्षा दी थी। इसमें केवल सरकारी स्कूलों केे 100 स्टूडेंट्स ने यह मुकाम हासिल किया है। ऐसे परीक्षा परिणाम से शिक्षा विभाग की खामियां सामने आ गई हैं।
विज्ञापन
इस बार 88 मॉडल और नॉन मॉडल स्कूलों के स्टूडेंट्स ने परीक्षा दी थी लेकिन 10 सीजीपीए 107 स्टूडेंट्स पर एक स्टूडेंट्स ले आया है। इस रिजल्ट से सरकारी स्कूलों के स्टूडेंट्स को शिक्षा विभाग की ओर से कैसे पढ़ाया जाता है यह एक बड़ा सवाल बना हुआ है।

फेल नहीं करना है सबसे बड़ा कारण
यूटी कैडर एजुकेशनल इंप्लाइज यूनियन के प्रेसिडेंट स्वर्ण सिंह कंबोज ने बताया कि स्कूलों की क्वालिटी एजुकेशन ठीक नहीं है। स्टूडेंट्स को पांचवीं से आठवीं में फेल नहीं किया जाता है। चंडीगढ़ के रिजल्ट में ग्रेस मार्क बद नहीं हुए हैं। इस कारण ही रिजल्ट 95.12 फीसदी हुआ है। केवल तीन स्कूलों के स्टूडेंट्स पास हुए बाकी सब फेल थे। इसी कारण शहर के रिजल्ट में मेधावी स्टूडेंट्स नहीं बन पा रहे हैं। फेल नहीं होने के कारण स्टूडेंट्स पढ़ाई नहीं कर रहे हैं। उनमें फेल होने का कोई डर नहीं रह गया है। इसी कारण इस तरह के हालात बने हुए हैं।

शहर के स्टूडेंट्स का रिजल्ट 95.12 फीसदी है। अगले साल से ग्रेस मार्क नहीं मिलेंगे। चंडीगढ़ में क्वालिटी एजुकेशन को सुधारने के लिए पांचवीं और आठवीं की परीक्षा बोर्ड से लेने का प्लान बनाया गया है। अगर इस पर सहमति बनेगी तो शहर में होनहार स्टूडेंट्स की संख्या में इजाफा होगा।
- रूबिंदरजीत सिंह बराड़, डायरेक्टर, स्कूल एजूकेशन, चंडीगढ़ शिक्षा विभाग
 

Recommended

विज्ञापन
विज्ञापन
अमर उजाला की खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन

Most Read

Shimla

युवाओं के लिए सरकारी नौकरी का मौका, ये विभाग भरेगा 146 पद

हिमाचल के दस जमा दो पास युवाओं को जेल विभाग में भर्ती होने का सुनहरा मौका है।

12 दिसंबर 2018

विज्ञापन

नेपाल में भारत की नई करेंसी हुई गैरकानूनी, इन नोटों पर लगा बैन

साल 2016 में पहले भारत सरकार ने देश में नोटबंदी की थी लेकिन अब नेपाल ने भारतीय नोटों के चलन पर रोक लगा दी है। जी हां आइए दिखाते हैं क्यों हुई नेपाल में भारतीय नोटों की नोटबंदी।

14 दिसंबर 2018

आज का मुद्दा
View more polls

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree