विज्ञापन

पंजाब यूनिवर्सिटी के 1000 करोड़ पर आचार संहिता ने लगाया ब्रेक, अब करना होगा लंबा इंतजार

सुशील कुमार, अमर उजाला, चंडीगढ़ Updated Wed, 13 Mar 2019 10:01 AM IST
पंजाब यूनिवर्सिटी हॉस्टल
पंजाब यूनिवर्सिटी हॉस्टल
ख़बर सुनें
मानव संसाधन विकास मंत्रालय की ओर से देश के प्रख्यात संस्थानों की सूची की घोषणा अब चुनाव के बाद होगी, फिर पंजाब विश्वविद्यालय को 1000 करोड़ रुपये मिल पाएंगे। केंद्र सरकार ने दिसंबर 2018 में पीयू को प्रख्यात संस्थानों की सूची में शामिल किया था। इसके बाद सरकार हर साल 1000 करोड़ रुपए विभिन्न विकास कार्यों के लिए पीयू को देगी। यह रकम 10 साल तक जारी की जानी थी। इन दिनों पीयू में फाइनेंशियल क्रंच चल रहा है। हर साल 60 से 70 करोड़ की आवश्यकता है। इस क्रंच को दूर करने के लिए अब नई सरकार बनने तक इंतजार करना पड़ेगा।
विज्ञापन
विज्ञापन
ये है योजना
केंद्र सरकार ने योजना बनाई है कि देश के 20 शिक्षण संस्थानों को यूजीसी के दायरे से बाहर करके उनका विकास किया जाए। इसके लिए वर्ष 2017 में सभी शिक्षण संस्थानों से आवेदन मांगे गए। 15 साल तक की योजनाएं शिक्षण संस्थानों को देनी थी। पीयू ने भी 300 पेज का प्लान तैयार किया और कमेटी को भेजा। इस प्रस्ताव के बाद संबंधित संस्थानों के आईक्यूएसी हेड समेत दो प्रोफेसरों के साक्षात्कार लिए गए, जो संस्थान की पूरी प्लानिंग पर था। इसमें पीयू से भी आईक्यूएसी निदेशक व शिक्षक पहुंचे थे।

फरवरी में होनी थी घोषणा
मानव संसाधन विकास मंत्रालय की ओर से प्रख्यात संस्थानों की घोषणा फरवरी में की जानी थी, लेकिन ऐसा नहीं हुआ। माना जा रहा है कि चुनावी सीजन के चलते निर्णय नहीं लिए गए और अब आचार संहिता लग गई। सूत्रों का कहना है कि अब जुलाई के बाद ही इन संभावनाओं पर मुहर लग सकती है।

Recommended

क्या कारोबार में लगाया हुआ धन फंस जाता है ? करें उपाय
ज्योतिष समाधान

क्या कारोबार में लगाया हुआ धन फंस जाता है ? करें उपाय

जानें क्यों कायम है आपकी नौकरी पर संकट?
ज्योतिष समाधान

जानें क्यों कायम है आपकी नौकरी पर संकट?

विज्ञापन
विज्ञापन
अमर उजाला की खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

Most Read

Shimla

आर्किटेक्चर परीक्षा में बेटियों का डंका, पहले तीन स्थान पर काबिज

प्रदेश तकनीकी विवि हमीरपुर ने आर्किटेक्चर प्रथम सेमेस्टर का परिणाम घोषित कर दिया है। पहले तीन स्थान पर बेटियों ने बाजी मारी है।

19 मार्च 2019

विज्ञापन

प्रधानमंत्री को ही क्यों होता है हवाई जहाज से चुनाव प्रचार करने का अधिकार

देश में आम चुनाव होने को हैं सभी पार्टियां अपना प्रचार जोर-शोर से कर रही हैं। देश की जनता को रिझाने की कोशिश कर रही हैं। इन सभी पार्टियों के बीच अकेला प्रधानमंत्री ही होता है जो प्रचार के लिए सरकारी विमान का इस्तेमाल कर सकता है।

19 मार्च 2019

आज का मुद्दा
View more polls

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree