विज्ञापन

बुजुर्ग की मदद करने के चक्कर में छूट गया बेटी का पेपर, पिता का आरोप- 2 मिनट लेट, नहीं खोला गेट

न्यूज डेस्क, अमर उजाला, चंडीगढ़ Updated Wed, 13 Mar 2019 09:38 AM IST
पेपर देकर सेंटर से निकले छात्र
पेपर देकर सेंटर से निकले छात्र
ख़बर सुनें
एक बुजुर्ग की मदद करने के चक्कर में लड़की दो मिनट लेट हो गई, लेकिन गेट नहीं खोला गया। जिस वजह से उसका पेपर छूट गया, पिता ने आरोप लगाते हुए भड़ास निकाली। मामला चंडीगढ़ का है। सीबीएसई के नियमों के आगे पुलिस भी बेबस नजर आ रही है। मां-बाप तो कुछ कर ही नहीं पा रहे हैं। मंगलवार को शहर के स्कूलों में 12वीं केमिस्ट्री की परीक्षा थी।
विज्ञापन
जीएमएसएसएस-37 में 2 मिनट की देरी से पहुंचने पर नॉन मेडिकल की एक छात्रा का पेपर छूट गया। एंट्री नहीं मिलने की वजह से छात्रा काफी परेशान हो गई और रोने लगी। मौके पर छात्रा के पिता ने पुलिस भी बुलाई, लेकिन वह भी कोई मदद नहीं कर सकी। छात्रा के पिता कुलदीप सिंह ने कहा कि वह धनास में रहते हैं।

पेपर के लिए समय से काफी पहले घर से निकले थे, लेकिन रास्ते में एक बुजुर्ग की एक्टिवा स्लिप हो गई और वह सड़क पर ही गिर गए। उन्हें बचाने और फर्स्ट एड देने के चक्कर में वह थोड़ा लेट हो गए। बावजूद इसके वह 10 बजकर 2 मिनट पर स्कूल के गेट पर पहुंच गए। कुलदीप सिंह ने आरोप लगाया कि मात्र दो मिनट की देरी की वजह से उनकी बेटी को एंट्री नहीं दी गई।

चंद मिनटों की वजह से उनकी बेटी का साल खराब हो गया। गौरतलब है कि सीबीएसई ने पेपर लीक जैसी अन्य घटनाओं से बचने के लिए इस बार सभी स्कूलों को सख्त हिदायत दी है कि वह किसी भी हालत में बच्चों को 10 बजे के बाद एंट्री न दें। इसलिए छात्रों को सुबह 9 से 10 बजे के बीच ही एंट्री दी जी रही है।
विज्ञापन
आगे पढ़ें

फिजिक्स के मुकाबले आसान रहा केमिस्ट्री का पेपर

विज्ञापन

Recommended

क्या कारोबार में लगाया हुआ धन फंस जाता है ? करें उपाय
ज्योतिष समाधान

क्या कारोबार में लगाया हुआ धन फंस जाता है ? करें उपाय

जानें क्यों कायम है आपकी नौकरी पर संकट?
ज्योतिष समाधान

जानें क्यों कायम है आपकी नौकरी पर संकट?

विज्ञापन
विज्ञापन
अमर उजाला की खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

Most Read

Dehradun

उत्तराखंड: हाईकोर्ट ने सरकार को दिया बड़ा झटका, अब इग्नू से डीएलएड होगा मान्य

उत्तराखंड हाईकोर्ट की खंडपीठ ने भी इग्नू से डीएलएड को मान्य बताया है।

18 मार्च 2019

विज्ञापन

प्रधानमंत्री को ही क्यों होता है हवाई जहाज से चुनाव प्रचार करने का अधिकार

देश में आम चुनाव होने को हैं सभी पार्टियां अपना प्रचार जोर-शोर से कर रही हैं। देश की जनता को रिझाने की कोशिश कर रही हैं। इन सभी पार्टियों के बीच अकेला प्रधानमंत्री ही होता है जो प्रचार के लिए सरकारी विमान का इस्तेमाल कर सकता है।

19 मार्च 2019

Related

आज का मुद्दा
View more polls

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree