पहलः सप्ताह या महीने में एक दिन खादी में नजर आएंगे स्टूडेंट्स, सीबीएसई ने जारी किया सर्कुलर

न्यूज डेस्क, अमर उजाला, चंडीगढ़ Updated Mon, 07 Oct 2019 12:46 PM IST
विज्ञापन
फाइल फोटो
फाइल फोटो

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर
कहीं भी, कभी भी।

*Yearly subscription for just ₹299 Limited Period Offer. HURRY UP!

ख़बर सुनें
नेताओं तक सीमित खादी अब छात्र-छात्राओं पर भी फबेगी। महात्मा गांधी की 150वीं जयंती पर सेंट्रल बोर्ड ऑफ सेकेंडरी एजुकेशन (सीबीएसई) ने सभी स्कूलों के शिक्षकों-विद्यार्थियों से सप्ताह, पखवाड़े या माह में कम से कम एक दिन खादी वस्त्र पहनने की अपील की है। इस संबंध में सीबीएसई की ओर से सभी स्कूलों को पत्र भेजा गया है।
विज्ञापन

सीबीएसई के सचिव की ओर से जारी पत्र में खादी की यूनिफॉर्म को सेहत के लिए बेहतर बताते हुए कहा गया है कि खादी के इस्तेमाल से ग्रामीण क्षेत्रों के लाखों लोगों को रोजगार भी मिलेगा। यदि प्रधानाचार्य चाहें तो छात्र यूनिफॉर्म के साथ ही खादी की एससेरीज भी प्रयोग कर सकते हैं। महात्मा गांधी ने देश से खादी पहनने की अपील की थी।
उन्होंने कहा था कि खादी पहनने से आप आत्मनिर्भर महसूस करेंगे और रूरल इंडिया का जीविकोपार्जन भी होता है। गांधी जी की 150वीं जयंती पर खादी को प्रमोट करने के लिए सीबीएसई ने पूरे देश के स्कूलों को सर्कुलर जारी किया है। सर्कुलर में कहा गया कि खादी भारत का हेरिटेज फैब्रिक है।
यह न केवल लाखों लोगों को रोजगार उपलब्ध करवाता है बल्कि देश की एकता और समानता को भी प्रमोट करता है। इसके अलावा खादी हाथ से बुना हुआ होता है जो त्वचा के लिए भी स्वास्थ्यवर्द्धक है। इसी के तहत स्कूलों से अपील की गई है कि सप्ताह या महीने में एक बार खादी पहरावा दिवस का आयोजन किया जाए। इसके अलावा अगर स्कूल चाहे तो ड्रेसेज और अन्य स्कूल सामग्री में खादी का इस्तेमाल कर सकता है।
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
Election
  • Downloads

Follow Us

X

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00
X