विज्ञापन
विज्ञापन

बीमारियों से निपटने के लिए बेहद जरूरी है स्वास्थ्य बीमा, ये हैं फायदे

बिजनेस डेस्क, अमर उजाला Updated Mon, 24 Jun 2019 05:47 AM IST
know the importance of health insurance
ख़बर सुनें
क्या आप उन लोगों में शामिल हैं, जो सोचते हैं कि स्वास्थ्य बीमा केवल बूढ़ों और बीमार लोगों के लिए होता है? क्या आपने कभी सोचा है कि अस्पताल के अप्रत्याशित खर्च के बीच कई बीमारियों के लिए बीमा कवर वरदान साबित हो सकता है और आपके सारे तनाव को दूर कर सकता है ?
विज्ञापन
विज्ञापन
जरा इस परिदृश्य पर विचार करें, जिसमें भगवान ना करे कि आपको हृदय रोग के इलाज के लिए पांच लाख रुपये की राशि देनी पड़े। क्या, आप नहीं चाहेंगे कि वही राशि 300 रुपये के मामूली मासिक प्रीमियम पर कवर हो जाए। इलाज का बिल अपनी जेब से देने के बजाए यह ज्यादा बेहतर सौदा नहीं है? अगर कुछ बातों पर गौर करें तो आप जानेंगे कि स्वास्थ्य बीमा को अनदेखा क्यों नहीं करना चाहिए।

बदलती जीवनशैली बन सकती है बीमारी का बड़ा कारण

देर रात तक काम करना, खाने की खराब आदतें, कोई व्यायाम ना करना और अत्यधिक तनाव, ये कारक किसी भी सेहतमंद व्यक्ति को चंद पलों में बीमार करने के लिए पर्याप्त हैं। इन स्थितियों से सुरक्षित होने के लिए स्वास्थ्य बीमा योजना में निवेश करना फायदेमंद है।

स्वयं को महत्व देना भी है जरूरी

यह हैरानी की बात नहीं है कि हम खुद को सुरक्षित करने की बजाए चीजें इकट्ठा करने पर ज्यादा धन व्यय करते हैं। हम खुद को आखिर में रखने का फैसला करते हैं, जबकि आवश्यकता खुद को पहले रखने की है। हमें निश्चित रूप से पता है कि घर और कार की मरम्मत बेहद महंगी हो सकती है, लेकिन क्या आपने कभी विचार किया है कि किसी अशुभ दुर्घटना होने की दशा में आप खुद की मरम्मत कैसे कराएंगे? खुद को सुरक्षेत रखने के लिए स्वास्थ्य बीमा अति आवश्यक है। 

इलाज से बेहतर है परहेज व सावधानी

गंभीर बीमारी की हालत में चिकित्सा खर्च में मदद के लिए स्वास्थ्य बीमा पॉलिसी खरीदें। इसके साथ ही गंभीर बीमारियों के बारे में जानकारी प्राप्त कर सालाना स्वास्थ्य जांच और अन्य जांच कराएं, जिससे उनका समय रहते इलाज हो सके। जरूरी है कि आर शुरू से ही सावधानी बरतें और अगर चूक हो भी जाए, तो स्वास्थ्य बीमा की मदद लें।

आपातकालीन स्थिति में महत्वपूर्ण है स्वास्थ्य बीमा

स्वास्थ्य बीमा आज के समय में विशेष रूप से चिकित्सा आपातकालीन स्थिति में महत्वपूर्ण है। एक स्वास्थ्य बीमा अस्पताल में भर्ती होने के खर्चे, डॉक्टर की फीस और दवा के खर्चे को कवर कर सकती है। मनुष्य बहुत आशावादी होते हैं। हम हमेशा मानते हैं कि हमारा आने वाला कल खुश, अधिक समृद्ध और बेहतर होगा लेकिन वास्तव में कल किसने देखा है? भारतीयों को स्वास्थ्य बीमा खरीदने की आवश्यकता है क्योंकि हम अपने आहार, अस्वस्थ जीवन शैली, बढ़ते तनाव और बढ़ते शहरीकरण के कारण मोटापा और हृदय रोग जैसी जोखिम बीमारियों के लिए अति संवेदनशील हैं।

भारत का स्वास्थ्य देखभाल खर्च पिछले कुछ वर्षों में आसमान छू गया है। वर्ल्ड हेल्थ ऑर्गेनाइजेशन (डब्ल्यूएचओ) की रिपोर्ट कहती है कि भारतीय अपने स्वास्थ्य खर्च का लगभग 70 फीसदी अपनी जेब से देते हैं। अनपेक्षित चिकित्सा मजबूरियों से एक परिवार का बजट बिगाड़ सकता है, यही कारण है कि स्वास्थ्य बीमा जल्दी खरीदना महत्वपूर्ण है।

बीमा के साथ कैशलेस क्लेम बेनिफिट भी मिलेगा

हेल्थ केयर प्लान खरीदने से आपको न सिर्फ गंभीर बीमारियों के लिए कवरेज मिलेगा, बल्कि इसके तहत लोगों को कैशलेस क्लेम बेनिफिट भी मिलता है, इतना ही नहीं, इसके तहत आपको कर लाभ भी मिलता है। 

कम प्रीमियम पर मिलेगा व्यापक कवर

आम तौर पर युवाओं को लगता है कि वे बहुत स्वस्थ हैं, वे व्यायाम करना पसंद करते हैं, अच्छा भोजन करते हैं और उनमें कोई बुरी आदतें नहीं हैं एवं धूम्रपान और शराब पीने जैसे काम वे सीमित रूप से करते हैं इसलिए उन्हें स्वास्थ्य बीमा की आवश्यकता नहीं है। लेकिन सच्चाई यह है कि, जब तक आपको कोई चिकित्सा समस्या नहीं है, तब तक जल्द से जल्द स्वास्थ्य बीमा लेना बेहतर है। इससे व्यक्ति को जीवन में बाद में पॉलिसी खरीदने के मुकाबले कम प्रीमियम पर एक व्यापक कवर प्राप्त करने में मदद मिलती है।

उम्र के साथ बढ़ता है स्वास्थ्य बीमा का खर्च

इसके साथ ही आपको बता दें कि स्वास्थ्य बीमा खरीदने का खर्च उम्र के साथ बढ़ता जाता है, क्योंकि बढ़ती उम्र के साथ विभिन्न बीमारियों की संभावना पॉलिसी को जटिल बनाती हैं और प्रीमियम बढ़ा सकती हैं। जीवन की शुरुआत में स्वास्थ्य बीमा खरीदने का एक अन्य कारण क्युमुलेटिव बोनस का लाभ उठाना है। एक बूढ़े व्यक्ति की तुलना में एक युवा की क्लेम फाइल करने की संभावना कम है। इस तरह का क्युमुलेटिव बोनस बीमित राशि के 50 फीसदी से अधिक हो सकता है, जिसका अर्थ है कि आपकी बीमा राशि मूल बीमा राशि का 150 फीसदी होगी। जबकि आप बीमा राशि के केवल 100 फीसदी के लिए प्रीमियम का भुगतान करते हैं। ये केवल कुछ कारण हैं कि स्वास्थ्य बीमा को जीवन में बाद की बजाय पहले ही खरीदा जाना चाहिए।

वित्तीय सुरक्षा सुनिश्चित करती है स्वास्थ्य बीमा 

इस संदर्भ में आईसीआईसीआई लोम्बार्ड जनरल इंश्योरेंस कंपनी लिमिटेड के संजय दत्ता का कहना है कि लोगों को स्वास्थ्य बीमा को एक ठोस दीर्घकालिक निवेश के रूप में देखना शुरू करना होगा, जो आपके मानसिक और वित्तीय स्वास्थ्य के लिए अच्छा रिटर्न देता है। एक पर्याप्त स्वास्थ्य बीमा पॉलिसी मन की शांति प्रदान करती है, आपातकालीन स्थिति के दौरान मजबूती प्रदान करती है, और वित्तीय सुरक्षा सुनिश्चित करती है। हालांकि, कई लोग स्वास्थ्य बीमा कवर तब खरीदते हैं जब वे स्वास्थ्य समस्याओं का अनुभव करना शुरू करते हैं और तब तक बहुत देर हो जाती है। हमारे देश में स्वास्थ्य सेवाओं की लगातार बढ़ती कीमतों के साथ, और बीमारियों के बढ़ते मामलों के साथ, आज स्वास्थ्य बीमा एक आवश्यकता है।

Recommended

करियर के लिए सही शिक्षण संस्थान का चयन है एक चुनौती, सच और दावों की पड़ताल करना जरूरी
Dolphin PG Dehradun

करियर के लिए सही शिक्षण संस्थान का चयन है एक चुनौती, सच और दावों की पड़ताल करना जरूरी

तुरंत पायें अपनी सभी धन, प्यार, नौकरी, व्यापार आदि समस्याओं का समाधान सिर्फ 99 /-  में
Astrology

तुरंत पायें अपनी सभी धन, प्यार, नौकरी, व्यापार आदि समस्याओं का समाधान सिर्फ 99 /- में

विज्ञापन
विज्ञापन
अमर उजाला की खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें
सबसे विश्वसनीय हिंदी न्यूज़ वेबसाइट अमर उजाला पर पढ़ें कारोबार समाचार और बजट 2019 से जुड़ी ब्रेकिंग अपडेट। कारोबार जगत की अन्य खबरें जैसे पर्सनल फाइनेंस, लाइव प्रॉपर्टी न्यूज़, लेटेस्ट बैंकिंग बीमा इन हिंदी, ऑनलाइन मार्केट न्यूज़, लेटेस्ट कॉरपोरेट समाचार और बाज़ार आदि से संबंधित ब्रेकिंग न्यूज़
 
रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें अमर उजाला हिंदी न्यूज़ APP अपने मोबाइल पर।
Amar Ujala Android Hindi News APP Amar Ujala iOS Hindi News APP
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

Most Read

Personal Finance

सरकारी कर्मचारियों को झटका, GPF खाते पर ब्याज दरों में हुई कटौती

केंद्र सरकार ने मौजूदा वित्त वर्ष की दूसरी तिमाही के लिए सामान्य भविष्य निधि (जीपीएफ) पर ब्याज दरों में कमी कर दी है। 10 बेसिस पॉइंट की कटौती के बाद अब जीपीएफ में जमा राशि पर 7.9 फीसदी ब्याज मिलेगा।

17 जुलाई 2019

विज्ञापन

उच्च शिक्षा विभाग के कार्यक्रम में पंहुचे मंत्री जीतू पटवारी, बोले- मुझे अंग्रेजी नहीं आती

मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल में उच्च शिक्षा विभाग के एक कार्यक्रम में उच्च शिक्षा मंत्री जीतू पटवारी अंग्रेजी नहीं बोल पाए। उन्होने कहा की वो नर्वस है।

17 जुलाई 2019

आज का मुद्दा
View more polls

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree