विज्ञापन
विज्ञापन

FD पर ब्याज दर कम होने से चार करोड़ वरिष्ठ नागरिकों को झटका, ये विकल्प हो सकते हैं फायदेमंद

बिजनेस डेस्क, अमर उजाला Updated Thu, 10 Oct 2019 11:21 AM IST
falling FD rates set to hit 4 crore senior citizens these options can be helpful
ख़बर सुनें
भारत में करोड़ों वरिष्ठ नागरिक फिक्स्ड डिपॉजिट ( FD ) से प्राप्त ब्याज की रकम पर निर्भर हैं। लेकिन बुधवार को देश के सबसे बड़े सरकारी बैंक भारतीय स्टेट बैंक ( SBI ) ने ग्राहकों को झटका दिया था। बैंक ने एक से दो साल की अवधि की एफडी पर मिलने वाले ब्याज में कटौती की थी। स्वाभाविक है कि दूसरे बैंक भी यह कदम उठा सकते हैं। इसलिए ऐसे वरिष्ठ नागरिक और सेवानिवृत्ति प्राप्त लोग, जो एफडी की ब्याज पर ही निर्भर थे, उनके लिए समस्या हो गई है। 

बदलती रहेगी जमा रकम पर ब्याज दर

आरबीआई ने आदेश दिया था कि बैंक ब्याज दरों को एमसीएलआर से नहीं, बल्कि रेपो रेट से जोड़ें। रेपो रेट समय-समय पर बदलता रहता है, इसलिए जमा रकम पर ब्याज दर भी लगातार बदलती रहेगी। 

4.1 करोड़ वरिष्ठ नागरिक हो सकते हैं प्रभावित

जमा दर घटाने के बाद 50 लाख रुपये के एफडी पर सालभर में 5,000 रुपये कम ब्याज मिलेगा। एसबीआई के अनुसार, करीब 4.1 करोड़ सीनियर सिटिजन के एफडी खाते में कुल 14 लाख करोड़ रुपये पड़े हैं।

वरिष्ठ नागरिकों के पास है ये विकल्प

अर्थव्यवस्था को गति देने के प्रयासों के क्रम में भारतीय रिजर्व बैंक रेपो रेट में लगातार कटौती कर रहा है, जिसकी वजह से जमा रकम पर ब्याज भी गिरेगी। इसलिए ऐसे लोग, जो एफडी की ब्याज पर निर्भर थे, उनको झटका लग सकता है। फाइनेंशल प्लानर्स के अनुसार, ऐसी स्थिति में वरिष्ठ नागरिकों को थोड़ा जोखिम उठाकर डेट म्यूचुअल फंड्स जैसे मार्केट-टु-मार्केट प्रॉडक्ट्स में निवेश करना चाहिए।

ये विकल्प हो सकता है फायदेमंद

वहीं एटिका वेल्थ मैनेजमेंट के एमडी और सीईओ गजेंद्र कोठारी ने कहा है कि सीनियर सिटिजन को सीनियर सिटिजन सेविंग्स स्कीम (एससीएसएस) में 15 लाख रुपये और बाकी रकम को सरकार के 7.75 फीसदी वाले डिपॉजिट स्कीम में डाल देना चाहिए। ये दोनों योजनाएं फिलहाल टैक्स के दायरे में हैं। डेट म्यूचुअल फंड्स भी वरिष्ठ नागरिकों के लिए आकर्षक विकल्प साबित हो सकता है। 

सरकार उठा सकती है ये कदम

हालांकि इसकी भरपाई के लिए केंद्र सरकार वरिष्ठ नागरिकों को राहत दे सकती है और उनके लिए महत्वपूर्ण कदम उठा सकती है। टाइम्स ऑफ इंडिया की रिपोर्ट के अनुसार, सरकार एससीएसएस पर टैक्स में कटौती कर सकती है। इस स्कीम के तहत 60 वर्ष से ऊपर के बुजुर्ग 15 लाख रुपये तक जमा रख सकते हैं। 

एसबीआई ने घटाई ब्याज दर

एसबीआई ने एक से दो साल की अवधि के रिटेल टर्म डिपॉजिट यानी फिक्स्ड डिपॉजिट (FD) और बल्क टर्म डिपॉजिट पर मिलने वाले ब्याज में कमी की है। एसबीआई ने एफडी पर ब्याज दर में 10 बेसिस प्वाइंट की कमी की है। वहीं बल्क टर्म डिपॉजिट पर ब्याज दर में 30 बेसिस प्वाइंट की कमी की गई है। इस टर्म डिपॉजिट की मियाद एक साल से दो साल तक की है। नई ब्याज दर 10 अक्तूबर से प्रभावी होगी। साथ ही बचत खाते में एक लाख रुपये तक जमा रखने वालों के लिए बैंक ने ब्याज दर 3.50 फीसदी से घटाकर 3.25 फीसदी कर दी है। 
विज्ञापन
विज्ञापन

Recommended

महालक्ष्मी मंदिर, मुंबई में कराएं दिवाली लक्ष्मी पूजा : 27-अक्टूबर-2019
Astrology Services

महालक्ष्मी मंदिर, मुंबई में कराएं दिवाली लक्ष्मी पूजा : 27-अक्टूबर-2019

विज्ञापन
विज्ञापन
अमर उजाला की खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें
सबसे विश्वसनीय हिंदी न्यूज़ वेबसाइट अमर उजाला पर पढ़ें कारोबार समाचार और बजट 2019 से जुड़ी ब्रेकिंग अपडेट। कारोबार जगत की अन्य खबरें जैसे पर्सनल फाइनेंस, लाइव प्रॉपर्टी न्यूज़, लेटेस्ट बैंकिंग बीमा इन हिंदी, ऑनलाइन मार्केट न्यूज़, लेटेस्ट कॉरपोरेट समाचार और बाज़ार आदि से संबंधित ब्रेकिंग न्यूज़
 
रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें अमर उजाला हिंदी न्यूज़ APP अपने मोबाइल पर।
Amar Ujala Android Hindi News APP Amar Ujala iOS Hindi News APP

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

Most Read

Business Diary

आम जनता को मिली राहत, सितंबर में कम हुई थोक महंगाई दर

आम जनता को राहत मिली है। सोमवार को सरकार ने महंगाई दर के आंकड़े जारी किए, जिससे पता चला कि थोक मूल्य सूचकांक आधारित मुद्रास्फीति सितंबर महीने में 0.33 फीसदी पर रही है।

14 अक्टूबर 2019

विज्ञापन

SPG Function and Importance | कैसे काम करती है वीआईपी सुरक्षा में लगी ये एजेंसी

साल 1984 में तत्कालीन प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी की उन्हीं के गार्डों द्वारा हत्या करने के बाद राजीव गांधी सरकार ने प्रधानमंत्री के सुरक्षा अधिकारियों का एक विशेष कैडर बनाने का फैसला लिया था।

14 अक्टूबर 2019

आज का मुद्दा
View more polls

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree