सात महीने के उच्च स्तर पर जा सकती है महंगाई दर, सब्जियों के बढ़ते दाम ने बजाया बैंड

amarujala.com- Written by: अनंत पालीवाल Updated Fri, 10 Nov 2017 01:34 PM IST
inflation can move on a seven month high, vegetable and petrol prices are the main reason
महंगाई दर पिछले सात महीने के उच्च स्तर पर जा सकती है। अक्टूबर महीने के लिए महंगाई दर में बढ़ोतरी की आशंका की जा रही है, क्योंकि सब्जियों के दाम सबसे ज्यादा थे। कई राज्यों में बारिश के चलते फसल खराब हो गई थी, जिसके चलते देश भर में प्याज-टमाटर सहित अन्य सब्जियों के भाव अपने उच्चतम स्तर पर चले गए थे। 
महंगाई दर के बढ़ने से नहीं मिलेगा यह फायदा
रायटर्स द्वारा किए गए एक पोल के मुताबिक, अगर रिटेल और खुदरा महंगाई दर में तेजी रहती है तो फिर रिजर्व बैंक भी दिसंबर में अपनी मौद्रिक नीति की समीक्षा में ब्याज दरों को स्थिर रख सकता है। महंगाई दर का डाटा 13 नवंबर को जारी किया जाएगा। 

पढ़ें- नोटबंदीः रिजर्व बैंक ने बताया फायदे का सौदा, महंगाई घटी, जाली करेंसी पकड़ने में मिली 2.5 गुना सफलता

इस बार इतनी हो सकती है महंगाई दर
इकोनॉमिक एक्सपर्ट के मुताबिक इस बार महंगाई दर 3.46 फीसदी तक जा सकती है, जो कि मार्च के बाद सबसे ज्यादा होगी। इसमें पेट्रोल-डीजल के बढ़ते रेट भी एक बड़ा कारण बनेंगे। कच्चे तेल के चलते अभी इनके दाम लगातार बढ़ते रहेंगे और हाल-फिलहाल इसमें किसी तरह का कोई फायदा मिलने की उम्मीद नहीं है। 
आगे पढ़ें

सिंतबर में यह थी महंगाई दर

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all Business News in Hindi related to stock exchange, sensex news, finance, breaking news from share market news in Hindi etc. Stay updated with us for all breaking news from Business and more Hindi News.

Spotlight

Most Read

Business

247 करोड़ की मल्लिका थी श्रीदेवी, इस साल कमाए थे करीब 13 करोड़ रुपये

बॉलीवुड की मश्हूर अदाकारा श्रीदेवी अपने पीछे करीब 300 करोड़ रुपये से ज्यादा की संपत्ति अपने पीछे छोड़ के गई हैं।

25 फरवरी 2018

Related Videos

बंद हो सकता है आपका मोबाइल वॉलेट, कंपनियों ने पूरा नहीं किया आदेश

अगर आप मोबाइल वॉलेट यूजर है तो आपके लिए ये खबर जरूरी है। मार्च से देश भर में चल रहे कई मोबाइल वॉलेट बंद हो सकते हैं।

21 फरवरी 2018

आज का मुद्दा
View more polls

अमर उजाला ऐप चुनें

सबसे तेज अनुभव के लिए

क्लिक करें Add to Home Screen