अब कंपनियां बदलेगी आपके सोचने का तरीका, पुणे में शुरू हुई देश की पहली डिजाइन थिंकिंग लैब

पंकज शुक्ल Updated Wed, 06 Sep 2017 06:59 PM IST
Now companies will change your way of thinking, design thinking lab started in pune
nihilent
हम कोई सामान क्यूं खरीदते हैं? क्या दुकान में घुसते ही उसकी पैकेजिंग हमें आकर्षित करती है? या कोई तय अखबार ही हम रोज क्यूं पढ़ते हैं? क्या हमें उसके खबरें परोसने का तरीका पसंद आता है? या हम उसकी खबरों की जानकारी और गहराई से प्रभावित होते हैं?

मोबाइल या कंप्यूटर पर कोई वेबसाइट हमारी पसंदीदा वेबसाइट कैसे बन जाती है? ये सारे सवाल ऐसे हैं जो सिर्फ हमारे और आपके जैसे प्रयोगकर्ताओं को ही नहीं परेशान करते, बल्कि इन्हें बनाने वाली कंपनियों को भी बार बार सोचने और अपने उत्पाद को बदलते रहने के लिए प्रेरित करते रहते हैं।

इन सारे सवालों का जवाब छिपा है ग्राहकों की सोच में। किसी उत्पाद की तरफ ग्राहक को आकर्षित करने की जो किसी कंपनी की रणनीति होती है, उसे कॉरपोरेट जगत ने एक नया नाम दिया है, डिजाइन थिकिंग।

किसी ग्राहक या प्रयोगकर्ता की सोच को अपने उत्पाद की तरफ मोड़ने की प्रकिया डिजाइन थिकिंग है यानी सोच को डिजाइन करना। आईटी इंडस्ट्री का ये नया प्रयोग है और डिजाइन थिकिंग की पूरी दुनिया में खुली चंद चुनिंदा प्रयोगशालाओं में एक, भारत के आईटी हब पुणे में खुली है।

निहिलेंट यूजर एक्सपीरियंस लैबोरेटरी नाम की देश की इस पहली डिजाइन थिंकिंग प्रयोगशाला के संस्थापक एल सी सिंह बताते हैं, ‘पूरी दुनिया में जितनी भी खरीददारी होती है, उसके पीछे ग्राहक का भावनात्मक लगाव बहुत बड़ा फैक्टर है।

हमारी 99 फीसदी खरीदारी भावनात्मक होती है यानी कि बाजार में जो हमें खरीदना होता है, उसके बारे में काफी कुछ फैसला हम पहले ही कर चुके होते हैं। इन फैसलों को प्रभावित करने में विज्ञापनों को बड़ा हाथ होता है।’

डिजाइन थिंकिंग कैसे किसी ग्राहक की सोच को प्रभावित कर सकती है, ये दिखाने के लिए निहिलेंट ने अमर उजाला को अपनी पुणे में हजारों वर्ग फिट में फैली इस लैब में आमंत्रित किया। अमर उजाला पहला हिंदी अखबार है जिसे इस लैब में जाने की अनुमति मिली।

लैब में अत्याधुनिक उपकरणों से लैस कमरे बने हुए हैं, जिसमें किसी ग्राहक के शोरूम में घुसने पर उसकी चहलकदमी को फर्श में छिपे सेंसर्स से रिकॉर्ड करने से लेकर किसी उत्पाद को देखते समय उसकी आंखें कहां कहां जाती है, तक की थर्मल और इमेजिंग रिकॉर्डिंग की जाती है। ये सारी रिकॉर्डिंग जो डाटा तैयार करती है, उसका विश्लेषण लैब में निहिलेंट के बनाए सॉफ्टवेयर करते हैं।
आगे पढ़ें

भारत में अपनी तरह का पहला प्रयोग

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all Business News in Hindi related to stock exchange, sensex news, finance, breaking news from share market news in Hindi etc. Stay updated with us for all breaking news from Business and more Hindi News.

Spotlight

Most Read

Corporate

इन 7 शहरों में कीजिए 99 रुपये में सफर, ये हवाई कंपनी दे रही है आपको मौका

अगर आप अगले 6 महीनों में देश-विदेश में हवाई यात्रा करने का प्लान कर रहे हैं तो फिर केवल 99 रुपये खर्च करके ऐसा कर सकते है।

15 जनवरी 2018

Related Videos

‘कालाकांडी’ ने ऐसा किया ‘कांड’ की बर्बाद हो गई सैफ की जिंदगी!

‘कालाकांडी’ ने चार दिन में महज तीन करोड़ की कमाई की है। और तो और ये लगातार पांचवां साल है जब सैफ अली खान की मूवी फ्लॉप हुई यानी बीते पांच साल से सैफ एक अदद हिट मूवी के लिए तरस गए हैं।

17 जनवरी 2018

  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper