विज्ञापन
विज्ञापन

ऑटो सेक्टर में अभी और जाएंगी नौकरियां! पार्ट्स बनाने वाली कंपनियों को नहीं मिल रहे ऑर्डर

ऑटो डेस्क, अमर उजाला Updated Fri, 16 Aug 2019 12:50 PM IST
Auto Financial Results
Auto Financial Results - फोटो : Social
ख़बर सुनें

खास बातें

  • ऑटो सेक्टर पर मंदी की मार
  • सूक्ष्म, लघु और मध्यम उपक्रम नहीं कर रहे नई भर्तियां
  • काम के घंटों में की कमी
  • कंपनियों के टर्नओवर में 14.5 फीसदी की गिरावट
ऑटो सेक्टर में छाई मंदी का असर अब दूसरे सेक्टर्स पर भी पड़ना शुरू हो गया है। यहां तक कि सूक्ष्म, लघु और मध्यम कंपनियों पर इसकी आंच आनी शुरू हो गई है। ऑटो कंपनियों से उन्हें पार्ट्स के लिए समुचित ऑर्डर नहीं मिल पा रहे हैं, जिससे इनकी वित्तीय हालत पर भी खतरे के बादल मंडराने लगे हैं।

काम के घंटों में कमी

माइक्रो, स्माल और मीडियम एंटरप्राइजेज (एमएसएमई) कंपनियों ने भी ऑटो कंपनियों की तरह अपने काम के घंटों में कमी कर दी है। साथ ही इन कंपनियों ने नई भर्तियों पर रोक लगा दी है और अब वे लोगों से नौकरी से बाहर निकालने की तैयारी कर रहे हैं। मॉर्निंग स्टैंडर्ड में छपी न्यूज रिपोर्ट्स के मुताबिक ऑटो इंडस्ट्री में छाई मंदी का नकारात्मक असर इस सेक्टर पर भी पड़ रहा है।
विज्ञापन
यह भी पढ़ेंः  देश में गाड़ियों पर GST कम होने की उम्मीद नहीं, ये हैं बड़े कारण

नहीं मिल रहा उधार

मशीन कास्टिंग, सीएनसी मशीन पार्ट्स, नॉड्यूलर कास्ट आयरन, स्टील फोर्जिंग की निर्माता गुड़गांव की सोलो मैन्यूफैक्चरिंग प्राइवेट लिमिटेड के एमडी संदीप किशोर जैन का कहना है कि इस सेक्टर पर दोहरी मार पड़ रही है। एक तो टियर-1 ऑरिजनल इक्विपमेंट्स निर्माता कंपनियों से ऑर्डर भी कम मिल पा रहे हैं, साथ ही उन्हें अब उधार भी नहीं मिल रहा है। उनका कहना है कि वित्त 2019 की पहली तिमाही में कंपोनेंट्स की बिक्री में 35 फीसदी की गिरावट आई है।

हालात में सुधार की गुंजाइश नहीं!

जबकि इस सेक्टर में पहले ये हालत थी कि मांग को पूरी करने के लिए वर्कर ओवरटाइम कर रहे थे, लेकिन अब काम काफी रह गया है। वहीं इस सेक्टर को आगामी त्यौहारी सीजन से भी कोई उम्मीद दिखाई नहीं दे रही है। जैन का कहना है कि अभी तक सेक्टर में सुधार के लिए कोई उदम नहीं उठाए गए हैं और उन्हें नहीं लगता है कि आगे हालात में सुधार आने वाला है।

मैनपावर में कमी करने की योजना

फरीदाबाद स्थित मेटल रॉड्स, इंडस्ट्रीयल शॉफ्ट, वाल्व गाइड्स और मेटल बुश बनाने वाली न्यूटेक इंटरप्राइजेज के सीईओ आदर्श कपूर का कहना है कि छोटे निर्माता अब नौकरियों में कटौती करने की बात कर रहे हैं। वह बताते हैं कि उनकी कंपनी भी मैनपावर में कमी करने की योजना बना रही है, जिससे तकरीबन 20 से 25 फीसदी लोगों की नौकरी जा सकती है। वह कहते हैं कि जब मांग ही नहीं है, इसलिए काम भी नहीं है।   

टर्नओवर में 14.5 फीसदी की गिरावट

कपूर बताते हैं कि पिछली दो तिमाही से लगातार उनकी फर्म में 25 से 30 फीसदी की गिरावट दर्ज हुई। ऑटो कंपोनेंट मैन्युफैक्चरर एसोसिएशन यानी ACMA के मुताबिक वित्त वर्ष 2019 में ऑटो कंपोनेंट्स निर्माता कंपनियों के टर्नओवर में 14.5 फीसदी की गिरावट दर्ज की गई है।
विज्ञापन

Recommended

शेयर मार्केट, अब नहीं रहेगा गुत्थी
Invertis university

शेयर मार्केट, अब नहीं रहेगा गुत्थी

संतान के उज्वल भविष्य व लंबी आयु के लिए इस जन्माष्टमी मथुरा में कराएं संतान गोपाल पाठ व हवन - 24 अगस्त
Astrology Services

संतान के उज्वल भविष्य व लंबी आयु के लिए इस जन्माष्टमी मथुरा में कराएं संतान गोपाल पाठ व हवन - 24 अगस्त

विज्ञापन
विज्ञापन
अमर उजाला की खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें
सबसे विश्वशनीय हिंदी न्यूज़ वेबसाइट अमर उजाला पर पढ़ें ऑटोमोबाइल समाचार से जुड़ी ब्रेकिंग अपडेट। ऑटोमोबाइल जगत की अन्य खबरें जैसे लेटेस्ट कार न्यूज़, लेटेस्ट बाइक न्यूज़, सभी कार रिव्यू और बाइक रिव्यू आदि से संबंधित ब्रेकिंग न्यूज़।
 
रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें अमर उजाला हिंदी न्यूज़ APP अपने मोबाइल पर।
Amar Ujala Android Hindi News APP Amar Ujala iOS Hindi News APP

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

Most Read

Auto News

एक सितंबर से ट्रैफिक नियम तोड़े तो कटेगा 10 हजार रुपये तक का चालान, देखें नए जुर्माने की लिस्ट

अगर आप लापरवाही से गाड़ी चलाते हैं और ट्रैफिक नियमों को ताक पर रखते हैं, तो होशियार हो जाएं। वजह है नया मोटर वाहन संशोधन विधेयक 2019 लोकसभा और राज्यसभा में पास हो चुका है, वहीं सरकार आगामी एक सितंबर से इसे प्रभावी कर सकती है।

21 अगस्त 2019

विज्ञापन

‘द एंग्री बर्ड्स 2’ को मिल रहा दर्शकों का प्यार, कीकू कैरेक्टर को लोग खूब पसंद कर रहे

फिल्म ‘द एंग्री बर्ड्स 2’ सिनेमाघरों में रिलीज हो गई है। फिल्म को दर्शकों का खूब प्यार मिल रहा है।

23 अगस्त 2019

आज का मुद्दा
View more polls

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree