विज्ञापन

सेहत पर भारी पड़ रही दूध में मिलावट

Rampur Updated Mon, 14 May 2012 12:00 PM IST
विज्ञापन
रामपुर। दूध यूं तो सेहत बनाने के लिए इस्तेमाल होता है,लेकिन रामपुर में दूध बच्चों के साथ ही आम लोगों की सेहत बिगाड़ने में लगा है। दूध में मिलावट का धंधा खूब जोर शोर से जारी है। लाख कोशिशों के बाद भी दूध में मिलावट के धंधे पर रोक नहीं लग पा रही है।
विज्ञापन
दूध में मिलावट की गूंज सप्रीम कोर्ट तक पहुंच गई है। मिलावटी दूध बेचे जाने के मामले में सुप्रीम कोर्ट सख्त है। सुप्रीम कोर्ट यूपी सरकार से भी जवाब तलब किया है। यूपी में दूध में मिलावट का धंधा काफी समय से किया जा रहा है। एक नजर रामपुर में दूध के धंधे पर दौड़ाई जाए तो रामपुर में भी दूध में तरह-तरह की मिलावट की जा रही है। कहीं सिथेटिक दूध बेचा जाता है तो कहीं डिटरजेंट युक्त दूध बेचा जा रहा है। मिलावटी दूध का धंधा दूधियों के माध्यम से किया जाता है। दूध में मिलावट रोकने के लिए जितनी भी कोशिशें प्रशासन की ओर से की जाती है उतनी ही कामयाबी दूध के कारोबार से जुड़े लोग अपने को बचाने में लग जाते हैं। ग्रामीण इलाकों से आने वाले दूधिए हो या फिर हलवाइयों की दुकानों पर बेचे जाने वाला दूध। मिलावट हर दूध में की जा रही है। मिलावटी दूध लोगों की सेहत सुधारने के बजाए बिगाड़ने में लगा है। एक नजर खाद्य एवं प्रशासन की ओर से की जा रही कार्रवाई पर दौड़ाई जाए तो एक जनवरी 2011 से दस मई तक रामपुर में दूध के करीब 70 नमूने फेल हो गए हैं। हालत यह है कि अभी तमाम और दूध के सैंपल की रिपोर्ट आनी बाकी रह गई है। दूध में मिलावट का धंधा लाख कोशिशों के बाद भी नहीं रुक पा रहा है। सुप्रीम कोर्ट की सख्ती के बाद अब लग रहा है कि शायद मिलावट खोरों पर शिकंजा कसा जाए।

मिलावट के धंधे पर नजर
कुल नमूने भरे-220
कुल फेल नमूने-83
दूध के सैंपल-85
दूध के फेल नमूने-75
(नोट यह आकंड़े एक जनवरी 11 से दस मई 12 तक के हैं)

दूध में मिलावट काफी गंभीर मामला है। इसको रोकने के लिए लगातार छापेमारी की जा रही है। छापेमारी के दौरान दूध के सैंपल भरे जाते हैं। सैंपलिंग की कार्रवाई के दौरान जो नमूने फेल होते हैं उनका वाद चलता है। वाद चलने के बाद ही निस्तारण होता है।
रमेश चंद्र गौतम
मुख्य खाद्य सुरक्षा अधिकारी

कौन सी बीमारियां घेर रही हैं।
-लीवर और पाचन संबंधी, हृदय गुर्दों को नुकसान, उच्च रक्तचाप, फूड प्वाइजनिंग, ड्राप्सी, लकवा और कैंसर
इनसे तैयार होता मिलावटी दूध
डिटरजेंट पाउडर,शैंपू, जैल, दूषित पानी, कास्टिक सोडा, अखाद्य तेल, कृत्रिम रंग, एसेंस पाउडर आदि।

Recommended

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
अमर उजाला की खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें  
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन

Related Videos

‘सर्जिकल स्ट्राइक’ पर राजनीति इन खबरों पर रहेगी नजर

‘सर्जिकल स्ट्राइक डे’ मनाने पर राजनीति शुरू, थम नहीं रहा राफेल डील विवाद और मुश्किल में शिवराज सिंह चौहान समेत इन बड़ी खबरों पर रहेगी नजर।

21 सितंबर 2018

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree