इंग्लैंड में हज़ारों बच्चों का यौन शोषण

बीबीसी हिंदी Updated Sat, 24 Nov 2012 12:59 PM IST
thousands of child is victim of sexual abuse in england
एक रिपोर्ट के मुताबिक इंग्लैंड में हर साल हज़ारों बच्चे यौन शोषण का शिकार होते हैं। 'ऑफिस ऑफ चिल्ड्रिंस कमिश्नर' की रिपोर्ट में कहा गया है कि कुछ खास समूह हैं जो इन बच्चों को अपना निशाना बनाते हैं।

इस रिपोर्ट के अनुसार अक्तूबर 2011 तक 14 महीने की अवधि में 2,409 बच्चों का यौन शोषण किया गया। लेकिन इस तरह के बच्चों की संख्या इससे कहीं अधिक हो सकती है। रिपोर्ट में ये बात भी कही गई है कि 2010-11 में 16500 बच्चे ऐसे थे जिन पर यौन प्रताड़ना का खतरा था।

ब्रिटेन के प्रधानमंत्री डेविड कैमरन ने प्रतिनिधि सभा में कहा कि ये रिपोर्ट बेहद परेशान करने वाली है और इसका अध्ययन बड़ी सावधानी से करने की जरूरत है। ये अपनी तरह की पहली रिपोर्ट है जिसमें बच्चों और युवाओं के इतने बड़े पैमाने पर यौन शोषण की बात सामने आई है।

इसी साल मई में नौ एशियाई लोगों को ग्रेटर मेनचेस्टर में लड़कियों को यौन शोषण के लिए जबरन तैयार करने के मामले में जेल की सज़ा सुनाई गई थी। रिपोर्ट में इस तथ्य को भी रेखांकित किया गया है कि बच्चों का यौन शोषण करने वालों में पुलिस और स्वास्थ्य जैसे महकमों के लोग भी शामिल है। रिपोर्ट में कहा गया है कि बच्चा यदि गायब हो जाए, उनमें यौन बीमारियां हों या वे नशे का आदी हो जाएं तो इस बात की आशंका होती है कि उनका यौन शोषण हो रहा है।

पहचान मुश्किल
रिपोर्ट में ये भी कहा गया है कि बच्चों का यौन शोषण करने वाले लोग जब तक पकड़ में नहीं आते, तब तक इस बात का निर्धारण करना मुश्किल होता है कि ये लोग दरअसल किस देश या नस्ल के हैं। रिपोर्ट से जुड़ी वरिष्ठ अधिकारी सू बेरेलोविट्ज़ कहती हैं, ''सुबूत इस ओर इशारा करते हैं कि ऐसे लोग किसी भी नस्लीय समूह के हो सकते हैं और यही बात पीड़ित बच्चों पर भी लागू होती है।''

वे उदाहरण और चेतावनी देती हैं कि जिन एशियाई लोगों को गिरफ्तार किया गया था, वो गोरी लड़कियों को यौन शोषण के लिए पाल पोस रहे थे। वे कहती हैं, ''इंग्लैंड में हर साल हज़ारों बच्चों के साथ बलात्कार होता है। इनमें वो बच्चे भी शामिल होते हैं जिन्हें अगवा किया गया होता है या डरा धमकाकर फांसा जाता है।'' रिपोर्ट में ये भी कहा गया है कि यौन शोषण का शिकार हुए बच्चों की कई बार पहचान तक नहीं हो पाती है भले ही वो शोषण के शिकार मालूम होते हों।

Spotlight

Most Read

Rest of World

भरोसे के मामले में भारत का रुतबा कायम, दुनिया में तीसरा विश्वसनीय देश

भारत दुनिया के तीसरे सबसे भरोसेमंद देशों में से एक है। एक सर्वे में सोमवार को यह बात सामने आई। इसमें कहा गया है।

23 जनवरी 2018

Related Videos

वर्ल्ड इकोनॉमिक फोरम में पहुंचे करण जोहर, कहा ये

स्विट्जरलैंड के दावोस में वर्ल्ड इकोनॉमिक फोरम में फिल्म डायरेक्टर और प्रोड्यूसर करण जोहर ने भी हिस्सा लिया।

23 जनवरी 2018

आज का मुद्दा
View more polls
  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper