विज्ञापन

होटल से राजा के बेशक़ीमती गहने चोरी

Santosh Trivediसंतोष त्रिवेदी Updated Sat, 13 Oct 2012 12:03 PM IST
precious ornaments of king stolen from hotel
ख़बर सुनें
राजा ओटुमफ़ुओ ओसेई टुटु -द्वितीय एक सम्मेलन में हिस्सा लेने नॉर्वे की राजधानी ओस्लो आए हुए थे और ये गहने भी उनके साथ ही थे। घाना के 'अशांति' जनजाति के राजा टुटु के साथ गहनों से भरा सूटेकस था जिसे ' रैडिसन ब्लू प्लाज़ा' होटल की लॉबी से चुरा लिया गया।
विज्ञापन
विज्ञापन
ये जेवरात पीढ़ी दर पीढ़ी जमा किए गए थे और बेहद क़ीमती माने जाते हैं। राजा इनका इस्तेमाल रीति-रिवाजों और रस्मों को पूरा करने में करते हैं। पुलिस इस चोरी की तहकीकात कर रही है और नॉर्वे की मीडिया के मुताबिक पुलिस का कहना है कि उनके पास निगरानी रखने वाले कैमरों से "अच्छी तस्वीरें" मिली हैं।

धक्का
राजा के सचिव कोफ़ी ओवुसु बोआटेंग ने कहा, "जिसके पास भी व्यक्तिगत रुप से बेशकीमती चीज़ें है वो समझ सकता है कि उनके चोरी हो जाने पर कितना बड़ा धक्का लगता है और जिस किसी को भी हमारी परंरपराओं के बारे में पता है वो जानता है कि इन मुकुट और गहनों का कितना मूल्य है।"

राजा ओटुमफ़ुओ ओसेई टुटु -द्वितीय वर्ष 1999 में राजगद्दी पर आसीन हुए थे। वो 16वें 'असांतिहेने' के रूप में जाने जाते हैं। अशांतिहेने घाना के सबसे बड़े जनजातीय समूह के पूज्यनीय शासक माने जाते हैं। घाना के राजा की प्रतिष्ठा काफी है लेकिन असलियत में राजा के पास सिर्फ नाम मात्र की शक्तियां ही होती हैं और घाना के संविधान के अनुसार वो राजनीति में हिस्सा नहीं ले सकते हैं।

Recommended

विज्ञापन
विज्ञापन
अमर उजाला की खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन

Most Read

Rest of World

श्रीलंका : पीएम पद से इस्तीफा देने के बाद राजपक्षे बने मुख्य विपक्षी नेता

श्रीलंका में अप्रत्याशित राजनीतिक संकट के दौर में लगभग दो महीने तक प्रधानमंत्री का पद संभालने के बाद महिंदा राजपक्षे मंगलवार को संसद में मुख्य विपक्षी नेता बन गए हैं।

18 दिसंबर 2018

विज्ञापन

चीन में अपने पति के लिए सिर मुंडवा रही हैं महिलाएं

चीन में जेल में बंद अपने पति को न्याय दिलाने के लिए पत्नियों ने अपने सिर के बाल मुंडवाकर प्रदर्शन किया। पेशे से वकील और उनके तीन समर्थक चीन की जेल में बंद हैं और बाहर उनकी पत्नियों ने अपने पतियों को आजाद कराने के लिए प्रदर्शन किया।

18 दिसंबर 2018

आज का मुद्दा
View more polls

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree