एक ऐप जो मिटा देगा दूरियां!

बीबीसी हिन्दी Updated Thu, 01 Nov 2012 11:44 AM IST
phone call translator app to be offered by ntt docomo
यूं तो भावनाएं किसी भाषा की मोहताज नहीं होतीं लेकिन भाषा का फर्क अगर रिश्तों में दूरी की वजह बन रहा है तो ये खबर आपको सुखद एहसास देगी।

शब्दों की बौछार होने के साथ-साथ 'वास्तविक समय' में उनका अनुवाद करने वाला एक ऐप देशों के बीच दूरियां खत्म करने में कारगर हो सकता है।

जापान का ‘एनटीटी डोकोमो’ जापान का सबसे बड़ा मोबाइल नेटवर्क है। इसकी ओर से शुरु किए गए इस नए ऐप के जरिए फिलहाल अंग्रेजी, मैंडेरिन और कोरियाई भाषा का अनुवाद हो रहा है लेकिन जल्द ही कई नई भाषाएं इसमें जुड़ेंगी।

‘टेलीफोन ट्रांसलेशन’ की ये तकनीक पिछले दिनों लॉच हुई नई तकनीकों का हिस्सा है। इस नए ऐप के जरिए आने वाले समय में मुमकिन है कि इस तरह के ऐप के जरिए कंपनियों को द्विभाषियों के बजाय तकनीक से ही मदद मिल जाएगी। कुल मिलाकर ये ऐप कंपनियों को सुविधा और खर्च कटौती का रास्ता दिखा रही है।

हालांकि तकनीक जानकार और इस ऐप का इस्तेमाल करने वाले मानते हैं कि अनुवाद सटीक नहीं होने के कारण इसका इस्तेमाल हर जगह नहीं किया जा सकता।

स्मार्टफोन पर करेगा काम
जापान में अक्तूबर महीने की शुरुआत में ‘एनटीटी डोकोमो’ ने अपनी इस नई तकनीक को दुनिया के सामने रखा जिसके ज़रिए बातचीत के दौरान सामने वाले की आवाज़ सुनकर उसका अनुवाद किया जाएगा।

जानकारों के मुताबिक क्लाउड कंप्यूटिंग की तकनीक पर आधारित इस ऐप का इस्तेमाल किसी भी तरह के एंड्रॉयड फोन पर किया जा सकता है।

एनटीटी डोकोमो के लिए बाजार में फिलहाल फ्रांस की कंपनी एल्काटेल ल्यूसेंट ही एक प्रतिद्वंद्वी है जिसने अपने ऐप वी-टॉक के ज़रिए कुछ ऐसा ही करने की कोशिश की है।

सटीक अनुवाद पर सवाल?
हालांकि भाषाई जानकार मानते हैं कि सही अनुवाद और सटीक भाषा के उच्चारण की दिशा में इस तकनीक को अभी काफ़ी बेहतर बनाना होगा।

तकनीक विशेषज्ञ बेनेडिक्ट ईवान्स के मुताबिक़, '' लाइव अनुवाद की तरह काम करने वाली इस तरह की तकनीकों पर लंबे समय से काम हो रहा है, लेकिन बोलचाल की भाषा की सहुलियत के साथ इसका इस्तेमाल होने में अभी काफ़ी वक़्त लगेगा।''

जानकारों का मानना है कि वो परिस्थितियां जिनमे बेहद सटीक अनुवाद की ज़रूरत है उनमें इस ऐप का इस्तेमाल फ‌िलहाल नहीं हो सकता।

Spotlight

Most Read

Rest of World

रूस में माइनस 67 डिग्री पहुंचा पारा, लोग घरों में कैद रहने को मजबूर

रूस में कड़ाके की सर्दी पड़ रही है। मंगलवार को यकुतिया इलाके में पारा माइनस 67 डिग्री तक चला गया।

18 जनवरी 2018

Related Videos

GST काउंसिल की 25वीं मीटिंग, देखिए ये चीजें हुईं सस्ती

गुरुवार को दिल्ली में जीएसटी काउंसिल की 25वीं बैठक में कई अहम मुद्दों पर चर्चा हुई। इस मीटिंग में आम जनता के लिए जीएसटी को और भी ज्यादा सरल करने के मुद्दे पर बात हुई।

18 जनवरी 2018

  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper