फिलीपींस: तूफान में 200 से ज्यादा की मौत

बीबीसी हिंदी Updated Wed, 05 Dec 2012 09:40 PM IST
philippines typhoon bopha death toll rises
दक्षिणी फिलीपींस में आया विनाशकारी तूफान लगातार क़हर बरपा रहा है। इस तूफान से मरने वालों की संख्या दो सौ तक पहुंच गई है। हालांकि तूफान प्रभावित इलाकों में राहत कार्य भी लगातार जारी है।

स्थानीय अधिकारियों के अनुसार अकेले कंपोस्टेला प्रांत में 'बोफा' तूफान से मरने वालों की संख्या 156 तक पहुंच गई है। ज्यादातर इलाकों में राहत दल पहुंच चुके हैं लेकिन कई दूर दराज के क्षेत्रों में पहुंचने में राहत दल को काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है।

पश्चिमी टापू पालावान से कई इलाक़ों को तूफ़ान आने से पहले ही खाली करा लिया गया था। ऐसी उम्मीद की जा रही थी कि ये तूफ़ान जल्दी ही दक्षिणी चीन महासागर की तरफ चला जाएगा।

कंपोस्टेला घाटी में तैनात सरकारी सूचना अधिकारी फे-मेस्त्रे ने बीबीसी को बताया कि बचाव दल सेना और राहत देने वाली संस्थाओं के साथ मिलकर काम कर रही है। फे-मेस्त्रे के अनुसार बोफ़ा तूफा़न के कारण 70 प्रतिशत से ज्य़ादा खेत-खलिहान नष्ट हो गए हैं।

पानी की तेज धार
पूर्वी मिंदनाओ की कंपोस्टेला घाटी में बोफा तूफान का सबसे ज़्यादा असर हुआ है। पड़ोसी प्रांत दावाओ ओरियंटेल प्रांत में भी तूफान से काफी नुकसान हुआ है। यहां करीब 50 लोगों के मरने की आशंका है। कंपोस्टेला के अंडाप गांव में राहत शिविर की तरह इस्तेमाल में लाए जा रहे स्कूल और सामुदायिक भवन भी इस तूफान की चपेट में आ गया।

पहाड़ों से गिर रही मिट्टी और पानी ने स्कूल और सामुदायिक भवन को नष्ट कर दिया। इस हादसे में 43 लोगों की मौत हो गई है और इससे कुछ ज्य़ादा के लापता होने की खबर है। इनमें वे सैनिक भी शामिल हैं जो वहां राहत कार्य के लिए गए हुए थे। कंपोस्टेला के प्रांतीय गवर्नर आर्टुरो उई ने स्थानीय मीडिया को बताया कि उन्हें ये लगा कि वे उस सुरक्षित जगह पर सकुशल रहेंगे, लेकिन उन्हें अंदाज़ा नहीं था कि पानी की धार वहां तक पहुंच जाएगी।

सामाजिक कल्याण विभाग की सचिव कोराजन सॉलीमिन के अनुसार प्रभावित इलाकों में बॉडी बैग्स और अन्य ज़रुरी सामान भिजवाए जा रहे हैं। कोराजन ने समाचार एजेंसी एएफपी से कहा कि न्यू-बतान में मृतकों के शव खुले में रखा है और हम नहीं चाहते कि यहां बीमारी फैले।

दावाओ ओरियेंटल के गवर्नर कोराज़न मालयांओन के अनुसार कई इलाके की सड़कों पर टूटे हुए पेड़ और पुल से अटे पड़े हैं। जिस कारण इन रास्तों पर यात्रा करना काफी मुश्किल हो रहा है। उन्होंने बताया कि आरंभिक जानकारी के अनुसार कैटील शहर में 95 प्रतिशत इमारतों को नुकसान पहुंचा है। यहां 23 लोगों की या तो डूब कर या फिर पेड़ों या इमारतों के नीचे दबकर मौत हो गई है।

कई इलाकों में राहतकर्मियों ने मिट्टी में दबे हुए दर्जनों लोगों को भी बाहर निकाला है। इनमें से कई लोगों को राहत शिविर और अस्पतालों में उपचार के लिए भर्ती किया गया है। तूफान के कारण देश के मध्य और दक्षिणी इलाकों में दर्जनों घरेलू विमानों और नाव द्वारा की जाने वाली कार्गों सेवाएं भी रुक गईं।

ठीक एक साल पहले दक्षिणी फिलीपींस में आए वाशी तूफ़ान से 1300 से ज्य़ादा लोगों की मौत हो गई थी। ये तूफान पिछले साल 16 से 18 दिसंबर के बीच आया था। इसमें उत्तरी तट के कैगायान-डी-ओरो और लिगन शहर बुरी तरह से प्रभावित हुए थे। वाशी तूफान रात के समय आया जब ज्यादातर लोग सो रहे थे। वाशी तूफान के कारण हुए भूस्खलन ने गांव के गांव बहा दिए थे।

Spotlight

Most Read

Rest of World

भरोसे के मामले में भारत का रुतबा कायम, दुनिया में तीसरा विश्वसनीय देश

भारत दुनिया के तीसरे सबसे भरोसेमंद देशों में से एक है। एक सर्वे में सोमवार को यह बात सामने आई। इसमें कहा गया है।

23 जनवरी 2018

Related Videos

देखिए दावोस से भारत के लिए क्या लेकर आएंगे मोदी जी

दावोस में चल रहे विश्व इकॉनॉमिल फोरम सम्मेलन से भारत को क्या फायदा होगा और क्यों ये सम्मेलन इतना अहम है, देखिए हमारी इस खास रिपोर्ट में।

23 जनवरी 2018

आज का मुद्दा
View more polls
  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper