विज्ञापन
विज्ञापन

सिर कलम करने वालों को 'माफी'

बीबीसी हिंदी Updated Fri, 25 Jan 2013 10:20 AM IST
mother forgives saudi beheading
ख़बर सुनें
एक मां ने उन लोगों को माफ कर दिया है जिनकी मांग पर उनकी बेटी का सिर कलम कर दिया गया।
विज्ञापन
बतौर सजा सिर कलम करने की ये घटना सऊदी अरब की है जहां श्रीलंका की ये लड़की घरेलू कर्मचारी के तौर पर काम करती थी। उसे एक शिशु की हत्या का दोषी पाया गया था।

जिसे सजा मिली, उस लडकी का नाम रिजाना है और साल 2005 में जब शिशु की हत्या हुई थी, तब उसकी उम्र महज 17 साल थी। दस्तावेज उसकी उम्र की पुष्टि करते हैं। रिजाना की मां रफीना नफीक का कहना है कि उनकी बेटी निर्दोष थी और उसे बिना किसी जुर्म के सजा मिली।

वहीं सऊदी सरकार का कहना है कि रिजाना को माफ नहीं किया जा सकता था, क्योंकि बच्चे के माता-पिता उसके लिए सजा चाहते थे। इस पूरे मामले में एक पेंच ये रहा कि दस्तावेजों के मुताबिक रिजाना की उम्र शिशु की हत्या के समय केवल 17 वर्ष थी और उसे मौत की सज़ा देना बाल-अधिकारों का उल्लंघन है।

माफ कर दिया
श्रीलंका में रहने वाली रफीना कहती हैं कि उन्होंने बच्चे के माता-पिता को माफ कर दिया है जिन्होंने उनकी बेटी के लिए मौत की सजा मांगी थी। रफीना ने बीबीसी के आजम अमीन से कहा कि किसी को दोष देने का कोई मतलब नहीं है। रिजाना अब जा चुकी है।

वे कहती हैं कि रिजाना को मौत की सजा दिए जाने के बारे में हमें मीडिया के जरिए पता चला। सऊदी अधिकारियों को हमें कम से कम इस बारे में बताना तो चाहिए था। यहां तक कि उन्होंने रिजाना का शव श्रीलंका भेजने से भी इनकार कर दिया। रिजाना के परिवार ने अपनी बेटी की बारे में कोई खबर पाने के लिए आठ वर्ष तक इंतजार किया।

पासपोर्ट और उम्र का पेंच
रिजाना की मां नफीक ने अपने जैसे और परिवारों से अनुरोध किया है कि वे अपनी बच्चियों को घरेलू काम करने के लिए सऊदी अरब या कहीं भी ना भेजें। वे कहती हैं कि इसके बजाए बेहतर होगा कि अपने बच्चों को पढ़ाया-लिखाया जाए।

कोलम्बो स्थित बीबीसी संवाददाता चार्ल्स हेवीलैंड के मुताबिक, ऐसा प्रतीत होता है कि रिजाना को जब काम के लिए सऊदी अरब भेजा गया था, तब पासपोर्ट पर उसकी गलत उम्र 23 वर्ष बताई गई। वे कहते हैं कि अन्य मौलिक दस्तावेजों में रिजाना की आयु 17 वर्ष बताई गई है और इस हिसाब से वो बच्ची थी।

सऊदी अरब में हुआ ये था कि रिजाना जिस शिशु की देखभाल करती थी, उसकी किसी दुर्घटना की वजह से मौत हो गई थी, लेकिन अदालत ने पाया कि उसकी मौत गला घोंटने से हुई थी।

वहीं मानवाधिकार समूहों का कहना है कि रिज़ाना पर चला मुक़दमा एक दिखावा भर था क्योंकि उसे किसी अनुवादक और वकील तक की सेवा मुहैया नहीं कराई गई थी।

मुआवजे से इनकार
रिजाना की मां नफीक ने अपनी बेटी की मौत के बदले सऊदी अरब की ओर से मुआवजे की पेशकश को ये कहते हुए सार्वजनिक रूप से ठुकरा दिया कि वे उस मुल्क से कुछ भी स्वीकार नहीं करेंगी जिसने उनकी बच्ची को मार डाला।

बहरहाल, श्रीलंका के राष्ट्रपति ने पीड़ित परिवार को फॉरेन एम्प्लॉयमेंट ब्यूरो के जरिए 7,800 डॉलर की मदद प्रदान की है। बीबीसी संवाददाताओं के मुताबिक, रिजाना की मां नफीक चाहती हैं कि लड़कियां काम करने के लिए विदेश नहीं जाएं और वे ये जानती हैं कि ये बदलाव एकदम से नहीं होगा।

अभी इसी हफ्ते दो लड़कियों को उस समय तब पकड़ा गया था जब वे सऊदी अरब जाने की कोशिश कर रही थीं। वहीं सरकार का कहना है कि वह विदेश जाकर काम करने के मामले में आयु सीमा बढ़ाकर 25 वर्ष करने के लिए एक नया कानून लाना चाहती है।
विज्ञापन

Recommended

सब कुशल मंगल के ट्रेलर लॉन्च इवेंट में गूंजे दर्शकों के ठहाके
सब कुशल मंगल

सब कुशल मंगल के ट्रेलर लॉन्च इवेंट में गूंजे दर्शकों के ठहाके

ढाई साल बाद शनि बदलेंगे अपनी राशि , कुदृष्टि से बचने के लिए शनि शिंगणापुर मंदिर में कराएं तेल अभिषेक : 14-दिसंबर-2019
Astrology Services

ढाई साल बाद शनि बदलेंगे अपनी राशि , कुदृष्टि से बचने के लिए शनि शिंगणापुर मंदिर में कराएं तेल अभिषेक : 14-दिसंबर-2019

विज्ञापन
विज्ञापन
अमर उजाला की खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

Most Read

Pakistan

पाकिस्तान सेक्स अपराधियों की लिस्ट क्यों नहीं बना पा रहा?

पाकिस्तान में बाल यौन शोषण की घटना कोई नई बात नहीं है, लेकिन कसूर में चार साल पहले ऐसी संगठित घटनाओं के वीडियो और पिछले वर्ष इसी जिले में घटित जैनब मामले के बाद ऐसी घटनाओं ने लोगों की चिंता बढ़ा दी है।

16 नवंबर 2019

विज्ञापन

यूपी में भाजपा नेता सुनील भराला का बयान, कहा, 'हिंदुओं को छोड़नी होगी 'हम दो-हमारे एक' की सोच'

उत्तर प्रदेश श्रम कल्याण परिषद के अध्यक्ष सुनील भराला ने कहा कि हिंदुओं को 'हम दो-हमारे एक' की सोच छोड़कर कर 'हम दो हमारे पांच' की नीति अपनानी होगी। देखिए जनसंख्या नियंत्रण को लेकर अपने बयान पर उन्होंने क्या तर्क दिया।

9 दिसंबर 2019

आज का मुद्दा
View more polls
Niine

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree
Election