विज्ञापन

तो ऐसे दिखते थे लव गुरू संत वैलेंटाइन?

बीबीसी, हिन्दी Updated Thu, 15 Feb 2018 01:37 PM IST
know about love Guru Saint Valentine
ख़बर सुनें

प्रेमी जोड़ों के लिए संत वैलेंटाइन एक ईश्वर की तरह थे। इसीलिए 14 फरवरी का दिन यानी जिस दिन उनकी मौत हुई थी, उसे कई देशों में उनकी याद में वैलेंटाइन डे के रूप में मनाया जाता है।

अब प्राचीन रोम के ईसाई संत वैलेंटाइन को आखिर एक चेहरा दिया जा सकता है। विशेषज्ञों ने इसके लिए संत वैलेंटाइन के अवशेषों का अध्ययन किया और कंप्यूटर ग्राफिक्स की मदद ली। संत के ये अवशेष इटली के पादुवा प्रांत के मोन्सेलीचे में सैन जॉर्ज गिरजाघर में रखे हुए हैं।

विशेषज्ञों की राय है कि संत वैलेंटाइन का जन्म तीसरी सदी में हुआ था। विशेषज्ञों ने उन्हें जो चेहरा दिया है इसके अनुसार वो कम उम्र के एक देहाती व्यक्ति की तरह दिखते थे। संत वैलेंटाइन की ये तस्वीर आम तौर पर देखे जाने वाली उन तस्वीरों से अलग है जिसमें वो थोड़ी बड़ी उम्र के व्यक्ति लगते हैं।

विज्ञापन
चर्च की निगरानी में शोध
अवशेषों के आधार पर संत वैलेंटाइन के चेहरे को दोबारा बनाने के कोशिश साल 2017 में शुरु हुई। इसके लिए पादुवा विश्वविद्यालय के विशेषज्ञ एक साथ आए। इनमें हिस्टोरिकल, ज्योग्राफिकल एंड एन्टिक्विटी साइंस विभाग के फ्रांसेस्को वेरोनीज, म्यूम्जियम ऑफ पैथोलॉजी एनाटोमी के एलबेर्टो जेनाटा और म्यूजियम ऑफ एंथ्रोपोलॉजी के निकोला कार्रारा ने एक टीम के रूप में काम किया। पुरातात्विक विज्ञान पर शोध करने वाली आर्क टीम के एक दल ने उनकी मदद की।

इस दल के इटली के सदस्य लूक बेजी ने संत की खोपड़ी के हिस्से की डिजिटल तस्वीरें लेने का काम किया जिसके बाद इसे आकार देने का काम शुरु किया गया। ये पूरा अभियान आधिकारिक तौर पर कैथलिक चर्च की निगरानी में किया गया।

थ्री-डी फेशियल रेकग्निशन तकनीक में विशेषज्ञ ब्राजील के सिसेरो मोरेस ने इन डिजिटल तस्वीरों को आधार बना कर संत वैलेंटाइन की शक्ल बनाने का काम शुरु किया। इस पूरे शोध कार्य के नतीजों को बीते सप्ताह ही सार्वजनिक किया गया है। 

विज्ञापन
आगे पढ़ें

एक नहीं तीन संत

विज्ञापन

Recommended

जम्मू कश्मीर में 20 साल में सबसे बड़ा आतंकी हमला, विस्तृत कवरेज यहां पढ़ें
Pulwama Exclusive

जम्मू कश्मीर में 20 साल में सबसे बड़ा आतंकी हमला, विस्तृत कवरेज यहां पढ़ें

मोक्ष और अभय की कामना को पूर्ण करने के लिए शिवरात्रि पर ज्योतिर्लिंग काशी विश्वनाथ मंदिर में करवाएं विशेष शिव पूजा
ज्योतिष समाधान

मोक्ष और अभय की कामना को पूर्ण करने के लिए शिवरात्रि पर ज्योतिर्लिंग काशी विश्वनाथ मंदिर में करवाएं विशेष शिव पूजा

विज्ञापन
विज्ञापन
अमर उजाला की खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

Most Read

Rest of World

अफगानिस्तान में युद्ध खत्म करने पर सहमत हुए अमेरिका, तालिबान

अमेरिका और तालिबान अफगान संकट को खत्म करने पर सहमत हो गए हैं। शनिवार को दोनों पक्षों की तरफ से वार्ताकारों ने 17 साल से जारी युद्ध को खत्म करने पर सहमति व्यक्त की। आधिकारिक सूत्रों ने इस बात की जानकारी दी।

28 जनवरी 2019

विज्ञापन

विदेश में योग को बदलकर किया गया स्नोगा

योग करने का नया तरीका हुआ है ईजात जिसे कहा जा रहा है स्नोगा। बर्फीली जगह पर योग करना ही स्नोगा है। बर्फ में योगा करने का है खास मकसद, इससे शरीर की मांसपेशियों और जोड़ों को गर्माहट मिलती है।

12 फरवरी 2019

आज का मुद्दा
View more polls

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree