इराकी सेना में मिले 'पचास हजार भूत सैनिक'

Alakh Ram Updated Mon, 01 Dec 2014 09:40 AM IST
ghost soldiers in iraq army.
ख़बर सुनें
इराकी सेना में हुई एक जांच से ऐसे लगभग 50 हजार सैनिकों का पता चला है जिनके नाम से वेतन तो लिया जा रहा है, लेकिन असल में उनका अता-पता नहीं है।
ऐसे सैनिकों को 'भूत सैनिक' का नाम दिया गया है। अब प्रधानमंत्री कार्यालय की तरफ से जारी बयान में कहा गया है कि इन सैनिकों के नाम पर दिए जाने वाले वेतन पर रोक लगा दी गई है।

संवाददाताओं का कहना है कि इराकी सेना में भ्रष्टाचार एक बडी समस्या है जिसके चलते इस्लामिक स्टेट से निपटने की उसकी क्षमता भी प्रभावित होती है।

समाचार एजेंसी एएफपी के अनुसार इराकी प्रधानमंत्री हैदर अल-अबादी के प्रवक्ता रफीद जबूरी ने कहा, "पिछले कुछ हफ्तों से प्रधानमंत्री इन भूत सैनिकों के मामले को उजागर करने और इस मामले की तह तक जाने के लिए कदम उठा रहे थे।"

माना जाता है कि ये वेतन सेना के भ्रष्ट अधिकारी निकाल रहे थे। एक अधिकारी ने एएफपी को बताया कि लगभग इन 50 हजार सैनिकों में ऐसे सैनिकों के नाम भी शामिल हैं जो या तो हालिया लडाई में मारे गए हैं या फिर सेना को छोड चुके हैं।

इराकी सेना को खडा करने में अमरीका ने अरबों डॉलर खर्च किए हैं। लेकिन हाल के महीनों में इराकी सेना चरमपंथी संगठन इस्लामिक स्टेट के खिलाफ लाचार दिखती रही है और इराक के एक बडे इलाके पर आईएस का नियंत्रण हो चुका है।

RELATED

Spotlight

Most Read

Rest of World

जापान: 40 डिग्री तापमान पहुंचने से जापान में 26 मरे, 12 हजार अस्पताल पहुंचे

जापान में जुलाई महीने का तापमान करीब 40 डिग्री तक पहुंच जाने के कारण चली जबरदस्त हीट वेव से अब तक करीब 26 लोगों की मौत हो गई है, जिनमें से 11 बुजुर्ग अकेले शनिवार को ही मौत का शिकार हो गए।

22 जुलाई 2018

Related Videos

दुनिया को हैरान कर रहा ये शख्स, आप भी देखें कैसे

दुनिया में ऐसे इंसानों की कमी नहीं जिनकी कला से लोग हैरत में पड़ जाते हैं। आइए आपको एक ऐसे शख्स से मिलवाते हैं जिनकी कला अद्भुत है...

24 अप्रैल 2018

आज का मुद्दा
View more polls

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree

अमर उजाला ऐप चुनें

सबसे तेज अनुभव के लिए

क्लिक करें Add to Home Screen