आपका शहर Close

जहां बलात्कार है शादी के लिए हथियार

बीबीसी हिंदी

Updated Wed, 12 Dec 2012 05:58 PM IST
bride kidnapping debate divides kyrgyzstan
किर्गिस्तान की संसद में इन दिनों दशकों पुरानी परंपरा और कानून व्यवस्था से जुड़े एक मुद्दे पर बहस चल रही है। दरअसल यहां शादी के लिए दुल्हन के अपहरण की परंपरा रही है, लेकिन अब सरकार इसे गंभीर अपराध की श्रेणी में लाने पर विचार कर रही है।
इस विधेयक पर काफी बहस हो रही है, संसद से लेकर समाज तक में खेमेबंदी देखने को मिल रही है। कुछ लोग परंपरा के तौर पर इसे बचाने के पक्ष में हैं तो दूसरी ओर कुछ लोग इसे गंभीर अपराध मान रहे हैं। किर्गिस्तान के लोकपाल कार्यालय के मुताबिक देश भर में हर साल करीब आठ हज़ार युवतियों का अपहरण शादी के लिए किया जाता है।

ज्यादातर मामलों में अपहृत महिलाओं के लिए पहली रात बलात्कार की रात होती है। इसके बाद अधिकांश महिलाएं बलात्कार करने वाले शख्स के साथ शादी के लिए तैयार हो जाती हैं। क्योंकि उनके माथे पर बड़ा कलंक लग जाता है। बलात्कार करने वाले के साथ नहीं रहने की सूरत में भी मुश्किलें बढ़ जाती हैं, क्योंकि ऐसी युवतियों से कोई शादी नहीं करता।

वहीं बिशकेक स्थित महिला सहायता केंद्र (डब्ल्यूएससी) के मुताबिक शादी के लिए सालाना बारह हज़ार युवतियों का अपहरण होता है। इनमें ज्यादातर मामले गरीब परिवारों और ग्रामीण इलाकों के होते हैं। डब्ल्यूएससी शादी के लिए युवतियों के अपहरण के ख़िलाफ अभियान चला रहे नेटवर्क का हिस्सा है।

38 साल की जाबिला मेतेवेवा भी इस केंद्र से जुड़ी हुई हैं। बीते साल अपने परिवार के साथ हुए एक हादसे के बाद वे इस केंद्र के संपर्क में आईं। उनकी बहन कोलपोन मेतेवेवा का अपहरण शादी के लिए हुआ। कोलपोन का पति उनके साथ काफी मारपीट करने वाला निकला।

एक दशक तक किसी तरह पति के साथ गुजर बसर करने के बाद कोलपोन ने अपने पति से तलाक मांगा। इस पर पति ने कोलपोन की हत्या कर दी। पत्नी की हत्या के मामले में अब पति 19 साल के कैद की सजा काट रहा है। कोलपोन का अपहरण 19 साल की उम्र में हुआ था, तब वे अपने पति के बारे में कुछ भी नहीं जानती थीं।

वे अपहरण करने वाले शख्स से शादी नहीं करना चाहती थीं, लेकिन दूसरी तमाम लड़कियों की तरह ही और शर्म के चलते उसे अपनी पति के साथ रहना पड़ा। जाबिला कहती हैं कि किर्गिस्तान में यह कानून जैसा ही है, अगर आपका अपहरण किया गया है तो आपको उस शख्स के साथ रहना पड़ता है।

जाबिला कहती है कि मेरी बहन को काफी मनोवैज्ञानिक दबाव सहना पड़ा। खासकर उसके पति के परिवार की महिलाओं ने उस पर काफी दबाव डाला कि हम भी इसी तरह अपहृत होकर रोते हुए घर में आए थे और अब हंसी ख़ुशी परिवार का हिस्सा है। इतना ही नहीं जाबिला के मुताबिक उनकी बहन को लगने लगा कि अगर वो अपने पति का घर छोड़कर बाहर निकलीं तो उनका जीवन ख़त्म हो जाएगा।

बीते एक साल के दौरान इस परंपरा के खिलाफ में विभिन्न महिला संगठन से जुड़े कार्यकर्ताओं ने ‘कैंपेन 155’ नाम से अभियान चलाया हुआ है। अगर शादी के अपहरण पर अंकुश लगाने वाला कानून लागू हो जाता है तो वह देश के कानून में अपराधिक धारा 155 होगी, यही वजह है कि इस अभियान को ‘कैंपेन 155’ कहा जा रहा है।

इस अभियान के तहत मोटरबाइक रैली, नुक्कड़ धरना, सेमीनार और अन्य गतिविधियों को आयोजित किया गया है। इन सबमें एक ही संदेश देने की कोशिश की गई है कि हिंसा की बुनियाद पर शुरू हुई शादी कभी ख़ुशी नहीं दे सकती। हालांकि ये स्थिति तब है जब देश में इस पर अंकुश लगाने वाला एक कानून मौजूद है।

मौजूदा कानून के मुताबिक अगर कोई शख्स किसी युवती की इच्छा के बिना शादी के लिए उसका अपहरण करता है तो उस पर जुर्माना के साथ साथ अधिकतम तीन साल की सजा का प्रावधान है। नए प्रस्तावित विधेयक में सज़ा को सात साल तक बढ़ाने का प्रावधान है, हालांकि पहले इसे दस साल तक बढ़ाने का प्रावधान रखा गया था।

महिला सहायता केंद्र से जुड़ी रिम्मा सुल्तानोवा कहती हैं कि यह काफी अपमानजनक है, क्योंकि मवेशी चोरी करने के मामले में ग्यारह साल की सज़ा का प्रावधान है जबकि युवती का अपहरण करने के मामले में महज तीन साल की सजा मिलती है।

किर्गिस्तान की सांसद आयनूरु अल्तेबावेवा शुरुआती दौर से ही नए कानून को लागू करने की वकालत कर रही हैं। उनके मुताबिक मौजूदा कानूनी प्रावधान के चलते बेहद कम मामले अदालतों तक पहुंच रहे हैं।

कानूनी प्रक्रिया शुरू तो तब होगी जब कोई पीड़ित मामला दर्ज़ कराए। अमूमन ऐसा नहीं होता। क्योंकि पीड़ित महिलाएं अपने साथ हुई ज्यादती को सार्वजनिक नहीं करना चाहतीं। लेकिन अगर मौजूदा कानूना को सख्त बनाया दिया जाए तो हालात में बदलाव की उम्मीद की जा रही है।

अल्तेबावेवा कहती हैं कि नए कानून के जरिए सरकार और कानूनी संस्थाओं को शिकायत दर्ज़ होने का इंतज़ार नहीं करना होगा। वे अपने स्तर से भी कार्रवाई शुरू कर सकते हैं। हालांकि प्रस्तावित नए कानून को हर किसी का समर्थन नहीं मिल रहा है। कुछ लोग इसे किर्गिस्तान की पुरानी परंपरा से भी जोड़ कर देख रहे हैं।

एक अन्य सांसद कोजोबेक रेसपेव कहते हैं कि अगर हमने इस मामले सजा देने की शुरुआत की तो किर्गिस्तान के सारे पुरुषों को हमें जेल में डालना होगा। किर्गिस्तान के गरीब परिवारों में युवती का अपहरण करना शादी का सबसे सस्ता और तेज विकल्प भी है। अगर नया कानून पारित हो जाता है तो लड़कियों के अपहरण करने में सहायता देने वाले नाते रिश्तेदारों को भी जेल हो सकती है।

हालांकि कुछ लोगों का मानना है कि भले ही कितना भी सख्त कानून क्यों नहीं आ जाए, ये परंपरा कायम रहेगी। बिशकेक निवासी 48 साल के बोबेक कहते हैं ‌कि नए कानून के लागू होने से केवल भ्रष्टाचार बढ़ेगा। क्योंकि मुश्किल से निकलने के लिए लोग रिश्वत देंगे।

किर्गिस्तान के एक अन्य सांस कुर्मेंतेव एबडिवेव ने बीबीसी से कहा कि सख्त कानून बनाकर हम लोगों को अपराध करने से नहीं रोक सकते। हालांकि ज्यादातर लोगों का मानना है कि शादी के लिए युवतियों के अपहरण को परंपरा की जगह गंभीर अपराध मानने से इस पर अंकुश लगाने में मदद मिलेगी।
Comments

स्पॉटलाइट

अनुष्का ने जैसे ही पहनाई अंगूठी, विराट ने कर लिया Kiss, सगाई का वीडियो वायरल

  • मंगलवार, 12 दिसंबर 2017
  • +

बचपन से एक दूसरे को जानते हैं विराट-अनुष्का, ऐसे हुई थी इनकी पहली मुलाकात

  • मंगलवार, 12 दिसंबर 2017
  • +

Bigg Boss 11: विकास ने अर्शी के साथ मिलकर रची साजिश, मास्टर माइंड के प्लान से नॉमिनेट हुए ये सदस्य

  • सोमवार, 11 दिसंबर 2017
  • +

PHOTOS: ‌बिन बताए विराट-अनुष्का ने कर ली शादी, यहां जानें कब-क्या हुआ?

  • सोमवार, 11 दिसंबर 2017
  • +

शादीशुदा हीरो पर डोरे डाल रही थी ये एक्ट्रेस, पत्नी ने सेट पर सबके सामने मारा चांटा

  • सोमवार, 11 दिसंबर 2017
  • +

Most Read

किम जोंग की बढ़ेगी टेंशन, US-जापान और दक्षिण कोरिया करेंगे संयुक्त अभ्यास

US Japan and south Korea ready for missile tracking drill to counter North Korea
  • रविवार, 10 दिसंबर 2017
  • +

उत्तर कोरिया के हमले से निपटेंगे दक्षिण कोरिया के ड्रोनबोट्स

South Korea's drone-bot combat will face North Korea attack
  • सोमवार, 11 दिसंबर 2017
  • +

कोरियाई द्वीप के ऊपर गरजे ट्रंप के बमवर्षक विमान, चीन बोला- बिगड़ सकते हैं हालात

US bomber joined American South Korean military exercises north korea on alert
  • बुधवार, 6 दिसंबर 2017
  • +

नेपाल में बन सकती है वाम गठबंधन की सरकार, 72 सीटों पर दर्ज की जीत

in Nepal communist alliance won 72 seats and can make government
  • सोमवार, 11 दिसंबर 2017
  • +

नॉर्थ कोरिया ने फिर दी चेतावनी- परमाणु युद्ध होना तय, बस वक्त का इंतजार

North Korea warns war is inevitable Just waiting for the time
  • गुरुवार, 7 दिसंबर 2017
  • +

अरब मंत्रियों ने की येरूशलम पर ट्रंप का फैसला पलटने की मांग

Arab ministers demanded to overturn Trump decision on Jerusalem
  • सोमवार, 11 दिसंबर 2017
  • +
Top
  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper
Your Story has been saved!