विज्ञापन

मिस्र: 5 साल पहले हुई हिंसा में मुस्लिम ब्रदरहुड के 75 लोगों को मिली सजा-ए-मौत

वर्ल्ड डेस्क, अमर उजाला Updated Sun, 09 Sep 2018 01:18 PM IST
75 people of Senior Muslim Brotherhood including leader and preacher got death sentence
विज्ञापन
ख़बर सुनें
2013 में मिस्र में कट्टरपंथी मुस्लिम ब्रदरहुड के समर्थन में धरना प्रदर्शन के दौरान हिंसा की घटना हो गई थी। जिसमें कोर्ट ने इस्लामी नेताओं सहित 75 लोगों को मौत की सजा सुनाई है। फांसी की सजा पाने वालों में ब्रदरहुड के वरिष्ठ नेता एस्साम अल एरिया, मोहम्मद बेलतागी और इस्लामी धर्मोपदेशक सफवात हिगाजी भी शामिल हैं।
विज्ञापन
मुस्लिम कट्टरपंथ के आध्यात्मिक नेता मोहम्मद बदी समेत 47 अन्य लोगों को उम्रकैद की सजा सुनाई गई है। कोर्ट ने सभी आरोपियों को हिंसा भड़काने, हत्या और अवैध प्रदर्शन करने सहित सुरक्षा संबंधी अपराधों का दोषी करार दिया है। काहिरा के रबा अदाविया चौराहे पर यह धरना प्रदर्शन किया गया था। इसे रबा मामले के तौर पर भी जाना जाता है।

इस मामले में 739 लोगों के खिलाफ केस चल रहा है। 2013 में मिस्र के सेना प्रमुख अब्देल फतह अल सीसी ने तत्कालीन राष्ट्रपति मोहम्मद मुर्सी का तख्तापलट कर दिया था। जिसके बाद मुर्सी समर्थकों ने इस धरना-प्रदर्शन को शुरू किया था। प्रदर्शनकारियों को अगस्त 2013 में तितर-बितर करने की कोशिश की गई थी। जिसमें 600 से ज्यादा प्रदर्शनकारी मारे गए थे। सरकार ने कहा था कि बहुत से प्रदर्शनकारी के पास हथियार थे और उन्होंने 43 पुलिसकर्मियों की हत्या कर दी थी।

Recommended

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
अमर उजाला की खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें  
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन

Most Read

Rest of World

हांगकांग : चीन से आजादी मांगने वाली पार्टी पर रोक, पहली बार किसी राजनीतिक दल पर लगा प्रतिबंध

चीन से आजादी की मांग करने वाली एक राजनीतिक पार्टी को चीनी एजेंडे की राष्ट्रीय सुरक्षा को खतरा बताकर हांगकांग में प्रतिबंधित कर दिया गया है।

24 सितंबर 2018

विज्ञापन

Related Videos

ब्रिस्टल यूनिवर्सिटी के छात्रों ने सफाईकर्मी को दिया हैरतंगेज तोहफा

ब्रिटेन की ब्रिस्टल यूनिवर्सिटी के छात्रों ने कुछ ऐसा किया कि उनकी हर जगह वाहवाही हो रही है। उन्होंने अपनी यूनिवर्सिटी के एक सफाईकर्मी को कभी न भूलने वाला तोहफा दिया है। हरमन गोर्डन पिछले एक दशक से अपने देश नहीं जा पा रहे थे जिनकी मदद छात्रों ने की।

21 सितंबर 2018

Related

आज का मुद्दा
View more polls

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree