पैराडाइज पेपर्स: अमीरों के टैक्स हेवन से जुड़े राज उजागर, जानिए कहां से आए हैं ये दस्तावेज?

बीबीसी,हिंदी Updated Mon, 06 Nov 2017 10:53 AM IST
ICIJ releases Paradise Papers Secrets related to wealth tax haven exposed
पैराडाइज पेपर्स - फोटो : ICIJ
बड़ी तादाद में लीक हुए वित्तीय दस्तावेजों से दुनियाभर के अमीर और ताकतवर लोगों के गुप्त तरीकों से टैक्स हेवन देशों में बड़े निवेश करने का पता चला है। ब्रिटेन की महारानी की निजी जागीर भी इन निवेशकों में शामिल है।
डोनाल्ड ट्रंप के वाणिज्य मंत्री के ऐसी कंपनी में हितों का पता चला है जो रूस के साथ व्यापार करती है और जिस पर अमेरिका ने प्रतिबंध लगाए हैं। इस लीक को पेराडाइज पेपर्स कहा जा रहा है। इसमें 1.34 करोड़ दस्तावेज लीक हुए हैं। इनमें से अधिकतर दस्तावेज विदेशी निवेश देखने वाली एक कंपनी के हैं। दुनियाभर के करीब सौ मीडिया संस्थान इन दस्तावेजों की जांच कर रहे हैं।

पिछले साल के पनामा पेपर्स की ही तरह ये दस्तावेज जर्मन अखबार ज्यूड डॉयचे त्साइटुंग ने हासिल किए थे। दस्तावेजों की जांच इंटरनेशनल कंसोर्शियम ऑफ इंवेस्टिगेटिव जर्नलिस्ट्स (आईसीआईजे) ने की है। इस पूरे सप्ताह सैकड़ों लोगों और कंपनियों की कर और वित्तीय जानकारियां साझा की जाएंगी। इनमें से कई के ब्रिटेन से गहरे संबंध हैं। रविवार को सामने आई बात का यह बहुत छोटा हिस्सा है।

कई कहानियां इस बात पर केंद्रित हैं कि कैसे राजनेताओं, बहुराष्ट्रीय कंपनियों, सेलेब्रिटी और हाई प्रोफाइल लोगों ने ट्रस्ट, फाउंडेशन, कागजी कंपनियों के जरिए कर अधिकारियों से अपने कैश और सौदों को छुपाए रखा। अधिकतर लेनदेन में किसी तरह की कोई कानूनी गड़बड़ी नहीं है।

रविवार को ये प्रमुख कहानियां जारी की गईं
कनाडा के प्रधानमंत्री जस्टिन ट्रडो के करीबी सहयोगी ऐसी विदेशी स्कीम से जुड़े हैं, जिससे देश को करोड़ों डॉलर का नुकसान पहुंचा हो सकता है। टैक्स हेवन देशों को बंद करने के लिए अभियान चलाने वाले ट्रुडो के लिए इससे हालात शर्मनाक हो सकते हैं। 

कंजर्वेटिव पार्टी के पूर्व डिप्टी चेयरमैन और बड़े दानदाता, लॉर्ड एश्क्रॉफ्ट ने अपने विदेशी निवेश के प्रबंधन में नियमों की अनदेखी की हो सकती है। अन्य दस्तावेजों से पता चलता है कि उन्होंने हाउस ऑफ लॉर्ड्स में अपना नॉन-डोम (गैर रिहायशी) दर्जा बरकरार रखा जबकि ऐसी रिपोर्टें आईं थी कि वो ब्रिटेन के स्थायी नागरिक बन गए हैं।

इवर्टन एफसी की एक मुख्य शेयरधारक कंपनी की फंडिंग पर किस तरह सवाल उठते हैं। इन दस्तावेज़ों से ये भी संकेत मिला है कि किस तरह से एलिशर उस्मानोव ने अपनी फर्म की जांच को प्रभावित किया है। इन दस्तावेजों को जारी करने वाले अन्य मीडिया संस्थान अपने क्षेत्र के हिसाब से कहानियां प्रकाशित कर रहे हैं।
आगे पढ़ें

जानिए, ब्रिटेन की महारानी एलिजाबेथ कैसे है इस मामले में शामिल

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get latest World News headlines in Hindi related political news, sports news, Business news, Crime all breaking news and live updates. Stay updated with us for all latest Hindi news.

Spotlight

Most Read

Europe

मोंटेनेग्रो के अमेरिकी दूतावास परिसर में बम फेंक खुद को उड़ाया

अमेरिकी दूतावास ने अपने नागरिकों को अगले आदेश तक दूतावास में नहीं आने की चेतावनी जारी कर दी है।

23 फरवरी 2018

Related Videos

शाम तक की सारी खबरों का राउंड अप 23 फरवरी 2018

‘यूपी न्यूज’ बुलेटिन में देखिए उत्तर प्रदेश के हर गांव हर शहर की छोटी-बड़ी खबरें रोजाना सुबह 9 और शाम 7 बजे सिर्फ अमर उजाला टीवी पर। अमर उजाला टीवी पेज पर एक क्लिक पर जानिए यूपी की ताजा-तरीन खबरें और दें अपनी राय, सुझाव और कमेंट्स।

23 फरवरी 2018

अमर उजाला ऐप चुनें

सबसे तेज अनुभव के लिए

क्लिक करें Add to Home Screen