आपका शहर Close

मैं चाहता हूं कि हर बच्चा शरारती हो: श्री श्री रविशंकर

नई दिल्ली/इंटरनेट डेस्क

Updated Mon, 29 Oct 2012 01:53 PM IST
i want every child to be naughty sri sri ravi shankar
मुझे देखिये मेरा बचपन अभी तक खत्म नहीं हुआ। वो अभी भी चल रहा है। हां फर्क सिर्फ इतना है कि बचकानी हरकतें अब नहीं करता। मैं जैसा पहले था वैसा आज भी हूं। बस अंतर ये है कि तब शरीर भी बच्चों जैसा था और आज सिर्फ मन बचपन जैसा है। मैं तो आज भी नटखट हूं और मैं चाहता हूं कि हर बच्चा शरारती हो और बड़ों को जितना सता सके उतना सताएं।
लेकिन आज बच्चों का अंदाज बदल चुका है। वो शरारत करना भूल रहे हैं या उन्हें ऐसा करने के लिए मजबूर किया जा रहा है। आज बच्चे जब तनाव में होते हैं तो दूसरों को तंग करते हैं। हम तो खेलकूद कर दूसरों को तंग करते थे। आपको भी ऐसा ही करना चाहिए लेकिन ध्यान रहे कि आपकी किसी हरकत से दूसरों को नुकसान न हो।

कन्नड़ में एक कहावत है कि बिल्ली का खेल, चूहे का प्राण-संकट। ऐसा न हो। जीवन का आनंद अभिव्यक्ति है। अगर हम ये समझ सकें तो सारे तनावों से मुक्ति पा सकेंगे। मैं बचपने को इतना महत्व देता हूं क्योंकि मैं समझता हूं कि बचपने में की गयी अभिव्यक्ति निश्छल होती है। उसमें कोई राग-द्वेष नहीं होता है। ऐसी अभिव्यक्ति में अगर आप दूसरों को सताना भी चाहते हैं तो उसमें भी सिर्फ शरारत मात्र होती है दूसरों के अहित की भावना बिल्कुल नहीं।

बचपन जितना जरूरी है उतना ही परंपराओं का भी महत्व है। आज कल लोग अपनी परंपराओं को छोड़कर दूसरों की परंपराओं में अधिक रूचि लेने लगते हैं। जबकि ऐसा नहीं करना चाहिए। मैं एक तमिल परिवार में पैदा हुआ। तब से लेकर अब तक मेरा जीवन काफी परिवर्तित हुआ है। मेरा परिवेश भी बदला है लेकिन मैने कभी भी अपनी परंपराओं को नहीं छोड़ा क्योंकि मैंने कभी इसे छोड़ने की ज़रूरत नहीं समझी।

यहाँ प्रत्येक परंपरा की अपनी खूबी और सुंदरता है। बस ये देखना पड़ेगा कि परंपरा में कट्टरपंथ के तत्व न आने पाएं। या कहें कि परंपरा का ये दावा न हो कि हम ही सर्वश्रेष्ठ हैं। हमें इससे बचना है। अपनी परंपरा को खुद से जोड़ कर रखने से हम भारत की विरासत को सहेज कर रख सकेंगे। इसके साथ ही हमें अपने दृष्टिकोण को भी बड़ा बनाए रखना होगा।

श्री श्री रविशंकर
जन्म 13 मई 1956 को तमिलनाडु के पापानासम में हुआ था। इनके पिता आरएसवी रत्नम ने इनकी आध्यात्मिक रुचि को देखते हुए इन्हें महर्षि महेश योगी के सान्निध्य में भेज दिया। महर्षि के अनेकों शिष्यों में से रवि उनके सबसे प्रिय थे। 1982 में रवि शंकर दस दिन के मौन में चले गए। कुछ लोगों का मानना है कि इस दौरान वे परम ज्ञाता हो गए थे और उन्होंने सुदर्शन क्रिया (श्वास लेने की तकनीक) की खोज की। इसके बाद श्री श्री ने दुनिया भर में सुदर्शन क्रिया के विस्तार के लिए आर्ट ऑफ लिविंग संगठन की स्थापना की।

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all spirituality news in Hindi related to religion, festivals, yoga, wellness etc. Stay updated with us for all breaking news from fashion and more Hindi News.

Comments

स्पॉटलाइट

विराट-अनुष्का की शादी में एक मेहमान का खर्च था 1 करोड़, पूरी शादी का खर्च सुन दिमाग हिल जाएगा

  • मंगलवार, 12 दिसंबर 2017
  • +

OMG: विराट ने अनुष्का को पहनाई 1 करोड़ की अंगूठी, 3 महीने तक दुनिया के हर कोने में ढूंढा

  • मंगलवार, 12 दिसंबर 2017
  • +

मांग में सिंदूर, हाथ में चूड़ा पहने अनुष्का की पहली तस्वीर आई सामने, देखें UNSEEN PHOTO और VIDEO

  • मंगलवार, 12 दिसंबर 2017
  • +

अनुष्‍का के लिए विराट ने शादी में सुनाया रोमांटिक गाना, कुछ देर पहले ही वीडियो आया सामने

  • मंगलवार, 12 दिसंबर 2017
  • +

विराट-अनुष्का का रिसेप्‍शन कार्ड सोशल मीडिया पर हुआ वायरल, देखें कितना स्टाइलिश है न्योता

  • मंगलवार, 12 दिसंबर 2017
  • +

Most Read

सक्सेस मंत्र: हमेशा खुद पर करें विश्वास, चुनौतियों से कभी न घबराएं

 Always believe in yourself and never afraid to take new challenges
  • सोमवार, 11 दिसंबर 2017
  • +

सीख: लालच करने से अंत में पराजय का सामना करना पड़ता है

greedy people always to face defeat in the end
  • गुरुवार, 7 दिसंबर 2017
  • +

सीख: निरंतर बदलाव और बेहतर करना ही सफलता का मूल मंत्र है

continuous change and improving yourself is the key of success of life
  • शनिवार, 9 दिसंबर 2017
  • +

शादीशुदा जिंदगी को बनाना चाहते हैं खुशहाल तो इस गरीब जोड़े से जानें तरीका

kiyan and manjula Learn the secrets of happy life from poor couples
  • मंगलवार, 28 नवंबर 2017
  • +

वो सौतेली थी, पर मां कहने से खुद को रोक नहीं पाई

beautiful story of stepmother and stepdaughter relationship
  • शनिवार, 25 नवंबर 2017
  • +

मां की ममता ऐसी होती है कि अपनी जान भी छोटी लगती है

in front of Mother love everything seems very small
  • गुरुवार, 30 नवंबर 2017
  • +
Top
  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper
Your Story has been saved!