फकीर ने इस तरह उतारा महमूद गजनवी के सिर से सुल्तान होने का भूत

स्वामी जगदीश्वरानंद Updated Thu, 15 Oct 2015 02:14 PM IST
विज्ञापन
mystic just kowtow respects

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर
कहीं भी, कभी भी।

*Yearly subscription for just ₹299 Limited Period Offer. HURRY UP!

ख़बर सुनें
सुल्तान महमूद गजनवी विद्वानों का बहुत आदर करता था। उस दौर में शेख अब्दुल हसन फरकान नामक एक फकीर हमेशा लोगों के कल्याण कार्यों में लगे रहते थे। उनकी प्रसिद्धि सुनकर गजनवी ने उनसे मिलने की इच्छा व्यक्त की, और फिर एक दिन उनके पास पहुंच गए। वहां उन्होंने फरकान का अभिवादन किया, और कुछ स्वर्ण मुद्राएं उनके चरणों में रख दीं।
विज्ञापन

पढ़ें, ऐसी 10 रेखा हथेली में हों तो आप बनते हैं करोड़पति, देखिए क्या आपकी हथेली में है
शेख फरकान ने सुल्तान की मेहमाननवाजी की। उन्होंने आतिथ्य में रूखी-सूखी रोटी प्रसाद रूप में भेंट की। वह रोटी इतनी बेस्वाद और कड़ी थी कि सुल्तान को उसे गले से उतारने में बहुत तकलीफ हुई। यह देखकर शेख फरकान ने सुल्तान से कहा, जिस प्रकार मेरी दी हुई खाद्य वस्तुएं तुम्हारे गले से नहीं उतर रही हैं, उसी प्रकार तुम्हारी दी हुई वस्तु को मैं कैसे पचा सकता हूं? अतः ये अपनी स्वर्ण-मुद्राएं वापस ले जाओ।
शेख फरकान के ये वचन सुनकर सुल्तान की आंखें नीची हो गईं। फिर सुल्तान चुपचाप उठा और वापस जाने के लिए शेख फरकान से इजाजत चाही। इस पर शेख खड़े हो गए। यह देखकर सुल्तान को बड़ा आश्चर्य हुआ। उसने विनम्र होकर पूछा, जब मैं आया था, तो आप अपनी जगह से हिले तक नहीं, और जब मैं जाने को तैयार हुआ, तो आप मेरे सम्मान में उठकर खड़े हो गए। इसका क्या कारण है?

सुल्तान गजनवी का यह प्रश्न सुनकर शेख अब्दुल फरकान पहले तो मुस्कराए, फिर अपनी दाढ़ी पर हाथ फेरते हुए कहा, सुनो सुल्तान! जब तुम आए, तो तुम्हारे हाथ में स्वर्ण मुद्राओं की थैली थी, और तुम्हारे अंदर सुल्तान होने का अभिमान था। मगर अब जब जा रहे हो, तो तुम्हें अपने सुल्तान होने का बोध नहीं रहा। वह भूत तुम्हारे सिर से उतर चुका है।
विज्ञापन
विज्ञापन
सबसे विश्वसनीय हिंदी न्यूज़ वेबसाइट अमर उजाला पर पढ़ें आस्था समाचार से जुड़ी ब्रेकिंग अपडेट। आस्था जगत की अन्य खबरें जैसे पॉज़िटिव लाइफ़ फैक्ट्स, परामनोविज्ञान समाचार, स्वास्थ्य संबंधी योग समाचार, सभी धर्म और त्योहार आदि से संबंधित ब्रेकिंग न्यूज़।
 
रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें अमर उजाला हिंदी न्यूज़ APP अपने मोबाइल पर।
Amar Ujala Android Hindi News APP Amar Ujala iOS Hindi News APP
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
Election
X

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00
X
  • Downloads

Follow Us