ताबीज का कमाल या कुछ और गुजारी श्मशान में अकेले पूरी रात

श्रीकांत शर्मा Updated Tue, 13 Oct 2015 04:02 PM IST
विज्ञापन
Everyone has had spells success

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर
कहीं भी, कभी भी।

*Yearly subscription for just ₹299 Limited Period Offer. HURRY UP!

ख़बर सुनें
मगध के एक गांव में विशाखदत्त नाम का एक युवक रहता था। वह बहुत मेहनती था, पर हमेशा सशंकित रहता था कि वह अपने काम में सफल होगा या नहीं! एक दिन गांव में प्रसिद्ध संत शिवरामदास का आगमन हुआ। विशाखदत्त भी संत से मिला और उन्हें अपनी नाकामियों के बारे में बताया। संत ने कहा, तुम्हारी समस्या का हल इस ताबीज में है, इसमें कुछ मंत्र रखे हैं। इन्हें सिद्ध करने के लिए तुम्हे एक रात श्मशान में गुजारनी होगी।
विज्ञापन

पढ़ें, जिनके इन अंगों पर तिल होता है उन्हें धन का अभाव कभी नहीं रहता
श्मशान का नाम सुनते ही विशाखदत्त का चेहरा पीला पड़ गया। वह कहने लगा, लेकिन मैं रात भर अकेले कैसे रहूंगा? संत ने समझाया, घबराओ मत, यह कोई मामूली ताबीज नहीं है। यह तुम्हें हर संकट से बचाएगा। युवक को बात समझ आई और उसने पूरी रात श्मशान में बिताई। सुबह होते ही वह संत जी के पास पहुंचा और धन्यवाद देने लगा। इस घटना के बाद विशाखदत्त बदल गया। अब वह जो भी करता सफल होता, और सोचता कि ताबीज के कारण कामयाब हो रहा है।
पढ़ें,सुबह-सुबह इन 8 चीजों को देखना बड़ा ही अपशकुन माना जाता है

करीब साल भर बाद फिर संत उस गांव में आए। विशाखदत्त तुरंत उनके दर्शन के लिए गया और उनके दिए ताबीज का गुणगान करने लगा। तब संत जी बोले, बेटे! जरा अपनी ताबीज निकालकर देना। उन्होंने ताबीज हाथ में लिया और उसे खोला। उसे खोलते ही विशाखदत्त स्तब्ध रह गया। ताबीज के अंदर मंत्र-वंत्र नहीं लिखा था। वह तो एक पुर्जा मात्र था! विशाखदत्त ने कहा, यह क्या महाराज, यह तो एक मामूली ताबीज है, फिर इसने मुझे सफलता कैसे दिलाई?

संत ने कहा, तुम्हें सफलता इस ताबीज ने नहीं, बल्कि विश्वास की शक्ति ने दिलाई है। तुम इसलिए सफल नहीं हो पा रहे थे कि तुम्हें खुद पर यकीन नहीं था। लेकिन जब इस ताबीज के बहाने वह सोई शक्ति जाग गई, तो तुम सफल होते चले गए।
विज्ञापन
विज्ञापन
सबसे विश्वसनीय हिंदी न्यूज़ वेबसाइट अमर उजाला पर पढ़ें आस्था समाचार से जुड़ी ब्रेकिंग अपडेट। आस्था जगत की अन्य खबरें जैसे पॉज़िटिव लाइफ़ फैक्ट्स, परामनोविज्ञान समाचार, स्वास्थ्य संबंधी योग समाचार, सभी धर्म और त्योहार आदि से संबंधित ब्रेकिंग न्यूज़।
 
रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें अमर उजाला हिंदी न्यूज़ APP अपने मोबाइल पर।
Amar Ujala Android Hindi News APP Amar Ujala iOS Hindi News APP
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
Election
X

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00
X
  • Downloads

Follow Us