उस कुएं का पानी पीने वाला पागल हो जाएगा

भिक्षु धर्मरक्षित Updated Wed, 07 May 2014 12:39 PM IST
विज्ञापन
Be like water, drink and be mad sanguinary

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर
कहीं भी, कभी भी।

*Yearly subscription for just ₹249 + Free Coupon worth ₹200

ख़बर सुनें
एक साधु गांववालों की किसी बात से नाराज हो उठा। उसे शायद कुएं से पानी नहीं लेने दिया गया था। उसने शाप दिया कि अगली सुबह के बाद जो भी कुएं का पानी पीएगा, वह पागल हो जाएगा। सिर्फ एक आदमी ने इस चेतावनी पर ध्यान दिया और उसने जितना हो सकता था, उतना जल इकठ्ठा करके एक गुप्त स्थान पर रख दिया।
विज्ञापन

अगले दिन कुएं का पानी बदल गया। लोगों ने पानी पिया और उलटी-सीधी हरकतें करने लगे। जिस आदमी ने पानी बचाकर रख लिया था, उसे कोई समस्या नहीं हुई। उसने छककर पानी पिया। फिर वह दूसरे लोगों के बीच गया। उसने पाया कि बदल चुका पानी पीने के बाद सभी लोग पहले से विपरीत सोचने और बोलने लगे हैं।
उन्हें अतीत के बारे में कुछ भी याद नहीं था। उन्हें न तो साधु की चेतावनी के बारे में मालूम था और न ही वे पानी के बदलने की बात जानते थे। उस आदमी ने उन लोगों से बात करने की कोशिश की, तो सबने उसे पागल समझकर दुत्कार दिया।
उनके साथ रहते हुए वह आदमी छिपाया हुआ अपना जल पीने के लिए सुरक्षित स्थान पर प्रतिदिन जाता रहा। एक दिन वह पानी नहीं पी सका। लोगों ने उसे प्यासा देखकर नया जल पिला दिया। नया जल पीते ही वह भी दूसरों जैसा हो गया। बचाकर रखे जल के बारे में वह भूल गया और दूसरों की तरह हरकतें करने लगा। उधर सभी लोग मानने लगे कि उसका पागलपन ठीक हो गया है।
विज्ञापन
विज्ञापन
सबसे विश्वसनीय हिंदी न्यूज़ वेबसाइट अमर उजाला पर पढ़ें आस्था समाचार से जुड़ी ब्रेकिंग अपडेट। आस्था जगत की अन्य खबरें जैसे पॉज़िटिव लाइफ़ फैक्ट्स, परामनोविज्ञान समाचार, स्वास्थ्य संबंधी योग समाचार, सभी धर्म और त्योहार आदि से संबंधित ब्रेकिंग न्यूज़।
 
रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें अमर उजाला हिंदी न्यूज़ APP अपने मोबाइल पर।
Amar Ujala Android Hindi News APP Amar Ujala iOS Hindi News APP
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
Election
  • Downloads

Follow Us