बेहतर अनुभव के लिए एप चुनें।
INSTALL APP
आशा पारेख
सुन सिनेमा

अपने हीरो को चाचा बुलाती थीं आशा पारेख, गीता बाली लेना चाहती थीं गोद

30 जुलाई 2021

Play
5:3
दोस्तों आज बात होगी अपने जमाने की मशहूर और खूबसूरत अदाकारा आशा पारेख की...कैसे वो फिल्मों में आईं...किस सह अभिनेता को वो चाचा कहती थीं और किसके प्यार में पड़कर उन्होंने जिंदगी भर शादी नहीं की...चलिए शुरुआत करते हैं उनकी पैदाइश से....आशा पारेख का जन्म 2 अक्टूबर 1942 को गुजरात में हुआ था...उनकी मां सुधा आका सलमा एक बोहरी मुसलमान थीं और पिता बच्चूबाई पारेख गुजराती थे...मां ने बचपन से ही उन्हें नृत्य की तालीम देनी शुरू कर दी.... ... Read More

अपने हीरो को चाचा बुलाती थीं आशा पारेख, गीता बाली लेना चाहती थीं गोद

X

सभी 93 एपिसोड

जितेंद्र

आज के एपिसोड में हम बात करेंगे अपने जमाने के मशहूर अभिनेता और 'जंपिंग जैक' के खिताब से नवाजे जाने वाले जीतेंद्र की। जितेंद्र ने अपने करियर में एक नहीं बल्कि कई तरह के किरदारों को जिया है। 60 से 90 के दशक तक हिंदी सिनेमा में अपनी धाक जमाने वाले जितेंद्र की चर्चाएं उनके अनोखे पहनावे के लिए भी तो होती थीं। हिंदी सिनेमा के ये एक ऐसे इकलौते अभिनेता हैं, जिन्होंने अपने पूरे करियर में 80 रीमेक फिल्मों में काम किया। 

राजकुमार

हिन्दी सिनेमा जगत में यूं तो अपने दमदार अभिनय से कई सितारों ने दर्शकों के दिलों पर राज किया, लेकिन राजकुमार ने न सिर्फ दर्शकों का दिल जीता, बल्कि फिल्म इंडस्ट्री ने भी उन्हें 'राजकुमार' माना।

शकील बदायूंनी

दोस्तों आज हम बात करेंगे अपने जमाने के मशहूर शायर और हिंदी फिल्मों के गीतकार शकील बदायूंनी की....शकील महान गीतकारों में से एक माने जाते हैं।  उन्होंने हिंदी सिनेमा को जो गीत बख्शे हैं उन्हें गुनगुनाकर आज की युवा पीढ़ी भी मोहब्बत की कहानी लिखती है। उत्तर प्रदेश के बदायूं में जन्मे शकील बदायूंनी का नाम शकील अहमद था। समय के साथ न कला मरती है और न ही कलाकार। सिर्फ एक जिक्र छेड़ देने भर से ही पूरा दौर दोहरा जाता है। कुछ ऐसी ही कहानी है शकील बदायूंनी की...

शमशाद बेगम

भारत में बेहतरीन गायक-गायिकाओं की कमी नहीं रही है। जैसे-जैसे बोलती फिल्मों का चलन शुरू हुआ वैसे-वैसे गायकों की मांग बढ़ने लगी। उसी दौर की एक गायिका थीं शमशाद बेगम। शमशाद बेगम के गाए हुए गाने आज भी गुनगुनाए जाते हैं। लेकिन क्या आप जानते हैं कि महान गायिकाओं में शुमार शमशाद बेगम के पिता नहीं चाहते थे कि उनकी बेटी गाना गाए। जी हां, कुछ ऐसी ही थी शमशाद बेगम की जिंदगी...सुनिए इस पॉडकास्ट में....

दोस्ती को सा

बॉलीवुड में दुश्मनी के किस्से तो बहुत सुने होंगे आपने, लेकिन कुछ ऐसी दोस्ताना जोड़ियां भी रही हैं जिनकी दोस्ती को सालों तक याद किया गया। इन्हीं में से एक है फिरोज खान और विनोद खन्ना की दोस्ती। अभिनेता फिरोज खान और विनोद खन्ना की दोस्ती जगजाहिर थी। गुजरे जमाने के ये दो जबरदस्त सितारे एक दूसरे के बेहद करीब थे।

नासिर खान

दोस्तों आप महान अभिनेता दिलीप कुमार से तो वाकिफ होंगे लेकिन क्या आप उनके भाई नासिर खान को जानते हैं जो पाकिस्तानी फिल्मों के पहले हीरो कहलाते थे। उन्होंने हिंदी फिल्मों में भी काफी काम किया लेकिन अपने भाई दिलीप कुमार की तरह नाम नहीं कमा पाए। नासिर खान के बेटे अय्यूब खान हैं जो कई बॉलीवुड फिल्मों में नजर आ चुके हैं। आइए जानते हैं नासिर खान की जिंदगी के बारे में....

मैक मोहन

 इंडस्ट्री में आने से पहले मैक मोहन अपने स्टाइल और कपड़ों को लेकर खूब मशहूर थे। लोग अक्सर उन्हें 'कड़क राम' कहते थे क्योंकि उनके कपड़ों की क्रीज कभी नहीं टूटती थी...उन्हें अच्छी तरह से इस्त्री किया जाता था और पूरी तरह से फिट होते थे। उनका स्टाइल सेंस स्क्रीन पर भी झलकता था और उनकी फिल्मों में उनके लुक्स में उनका बहुत बड़ा योगदान था।

इंदर सेन जौहर

बॉलीवुड में कई कॉमेडियन हुए हैं जिन्होंने दर्शकों को अपनी अदाकारी से हंसा-हंसाकर लोटपोट कर दिया। ये ऐसे कॉमेडियन होते थे जिनसे बड़े-बड़े हीरो घबराते थे। इन्हीं में से एक थे आईएस जौहर यानी इंदर सेन जौहर। इंदर सेन जौहर रिश्ते में करण जौहर के चाचा लगते थे। जौहर ऐसे कॉमेडियन थे जिनकी हास्य फिल्मों से तत्कालीन सरकारें भी घबराती थीं।  

संगीत

दोस्तों मैं हर रोज किसी फिल्म, अभिनेता या अभिनेत्री की बात करता हूं लेकिन आज बात होगी एक महान संगीतकार की...एक ऐसे संगीतकार की जिसने कभी भी संगीत से समझौता नहीं किया...संगीत के लिए धन-दौलत ठुकरा दी...जी हां...हम बात कर रहे हैं मशहूर ओ मारूफ संगीतकार नौशाद की...नौशाद फिल्मों की संख्या से ज्यादा संगीत को तरजीह देते थे। 

विनोद मेहरा

बॉलीवुड में 70-80 के दशक में चॉकलेटी हीरो के तौर पर मशहूर हुए अभिनेता विनोद मेहरा को गुजरते वक्त के साथ आज की पीढ़ी शायद भूल गई हो। लेकिन एक दौर था जब उनके पास फैन फॉलोइंग की कमी नहीं थी। उन्हें याद करते हुए एक बार फिर उनके फिल्मी सफर पर नजर डालेंगे। लेकिन कहते हैं न कि सिनेमा की दुनिया में कब किसका सितारा जगमगा कर ढल जाए कोई नहीं बता सकता। कुछ ऐसा ही विनोद मेहरा के साथ भी हुआ। 

आवाज

  • Downloads

Follow Us

X

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00
X