खूबसूरती के चक्कर में कहीं बीमारियां न मिल जाएं

क‌िरण Updated Fri, 31 Jan 2014 01:29 PM IST
harmful effects of cosmetics
मुलायम त्वचा के लिए मॉइस्चराइजर, पोषण देने के लिए नरिशिंग क्रीम, ग्लो पाने के लिए फेयरनेस क्रीम और फेस पाउडर, होंठों की सुंदरता के लिए लिपस्टिक, ये वो कॉस्मेटिक्स हैं, जिसे हम रोजाना इस्तेमाल में लाते हैं।

ब्यूटी किट में किसी एक समान की कमी आपको बर्दाश्त नहीं होती। इस तरह सुबह से लेकर रात सोने तक न जाने कितने केमिकल्स कॉस्मेटिक उत्‍पादों के माध्यम से हमारी त्वचा के संपर्क में आते हैं।

स्किन एक्सपर्ट रोहित बत्रा बताते हैं कि हम कॉस्मेटिक्स का इस्तेमाल आमतौर पर खूबसूरती बढ़ाने के लिए करते हैं, लेकिन जब यही कॉस्मेटिक्स आपको बीमार बनाने लगे, तो शायद महिलाएं कोई भी कॉस्मेटिक इस्तेमाल करने से पहले एक बार जरूर सोचेंगी।
 
हाल की आई सीएसई की रिपोर्ट पर विश्वास करें, तो बहुत सारी बड़ी कंपनियों के कॉस्मेटिक प्रोडक्ट्स में  हैवी मेटल जैसे अर्सेनिक, कैडमियम, लेड, मरकरी, निकेल आदि पाए गए हैं। ये वो मेटल हैं, जो शरीर से लंबे समय तक टच में रहें, तो कैंसर और त्वचा संबंधी अन्य सम्‍ास्याओं को बढ़ा सकते हैं।
 
वहीं सीएसई की प्रमुख सुनीता नारायण का कहना है कि ब्यूटी प्रोडक्ट में खतरनाक रसायनों के इस्तेमाल को रोकने के लिए देश में कोई सख्त कानून नहीं है। मरकरी का इस्तेेमाल पूरी तरह प्रतिबंधित है, इसे तुरंत बंद किया जाना चाहिए।
आगे पढ़ें

किस केमिकल का क्‍या प्रभाव

Spotlight

Related Videos

दावोस में 'क्रिस्टल अवॉर्ड' मिलने के बाद सुपरस्टार शाहरुख खान ने रखी 'तीन तलाक' पर अपनी राय

दावोस में 'विश्व आर्थिक मंच' सम्मेलन में बच्चों और एसिड अटैक सर्वाइवर्स के लिए काम करने के लिए क्रिस्टल अवॉर्ड से नवाजे गए बॉलीवुड अभिनेता शाहरुख खान..

24 जनवरी 2018