सेकेट्री का इंतजार

Shobha Shamiशोभा शमी Updated Wed, 07 May 2014 12:58 PM IST
विज्ञापन

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर
कहीं भी, कभी भी।

*Yearly subscription for just ₹249 + Free Coupon worth ₹200

ख़बर सुनें
निबंध प्रतियोगिता हो रही थी। विषय था− 'यदि मैं कंपनी का मैनेजर होता' सभी उम्मीदवार लिख रहे थे। एक उम्मीदवार हाथ पर हाथ धरे बैठा हुआ था। निरीक्षक ने आकर उससे पूछा− तुम लिख क्यों नहीं रहे? इस पर उसने जवाब दिया− जी, मैं अपने सेकेट्री का इंतजार कर रहा हूं।
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
Election
  • Downloads

Follow Us