विज्ञापन
विज्ञापन

'भारत के युवा चीन से ज्यादा योग्य'

दावोस/एजेंसी Updated Tue, 29 Jan 2013 12:08 AM IST
young workforce from india more relevant than china says manpower group
ख़बर सुनें
ग्लोबल श्रम बाजार में चीन की तुलना में भारत अपनी युवा और अंग्रेजी बोलने वाली श्रम शक्ति की वजह से अधिक लाभ की स्थिति में है। यह बात मानव संसाधन सलाहकार मैनपावर ने कही है। मैनपावर समूह के प्रेसिडेंट (ग्लोबल कॉरपोरेट एवं गवर्मेंट अफेयर्स) डेविड आर्कलेस ने यहां एक साक्षात्कार में कहा कि चीन के मुकाबले अधिक योग्य श्रम शक्ति होने के बावजूद भारत सरकार और कंपनियों को भविष्य के लिए कौशल की जरूरत पर समझ बनाने की आवश्यकता है। साथ ही उन्हें इसी को ध्यान में रखते हुए अपनी युवा आबादी को प्रशिक्षित करने की जरूरत है, जिससे रोजगार बाजार में आपूर्ति और मांग का संतुलन कायम रखा जा सके।
विज्ञापन
विश्व आर्थिक मंच में शिरकत करने आए आर्कलेस ने कहा कि भारतीय श्रम बाजार को लेकर वह आशावादी बने हुए हैं। हालांकि, ग्लोबल हालातों में उठापटक और अनिश्चितता बनी हुई है। नौकरियों के वैश्विक परिदृश्य को लेकर हमारा दृष्टिकोण दावोस बैठक की थीम ‘रिजिल्यंट डायनेमिक्स’ से थोड़ा अलग है।
 
उन्होंने कहा कि हम अपने ग्राहकों को बता रहे हैं कि भविष्य में एक चीज ही निश्चित है और यह है अनिश्चितता। हम जानते हैं कि अंतरराष्ट्रीय स्तर पर उतार-चढ़ाव रहेगा। हम अपने सभी सहयोगियों को कह रहे हैं कि यह सामान्य बात है।

भारतीय श्रम बाजार के बारे में पूछे जाने पर उन्होंने कहा कि भारत उभरते बाजारों का परंपरागत श्रम बाजार नहीं है। यह एक अलग तरह की प्रतिभा वाला बाजार है। भारतीय अर्थव्यवस्था चीन तथा दुनिया की उभरती अर्थव्यवस्थाओं की तुलना में अलग तरीके से काम करती है।

उन्होंने कहा कि दृष्टिकोण से भारत के पास अत्यधिक साक्षर और बहुत गतिशील युवा आबादी है। भारत के लिए सबसे अधिक फायदे वाली बात यह है कि उसके पास अधिक युवा और अंग्रेजी बोलने वाली योग्य श्रम शक्ति है। अंतरराष्ट्रीय स्तर पर यह चीनी युवा श्रम बल की तुलना में यह अधिक योग्य है। भविष्य में भी यह भारतीय श्रम बाजार की सबसे बड़ी ताकत बनने वाला है।
विज्ञापन

Recommended

महालक्ष्मी मंदिर, मुंबई में कराएं दिवाली लक्ष्मी पूजा : 27-अक्टूबर-2019
Astrology Services

महालक्ष्मी मंदिर, मुंबई में कराएं दिवाली लक्ष्मी पूजा : 27-अक्टूबर-2019

विज्ञापन
विज्ञापन
अमर उजाला की खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

Most Read

City and States Archives

अमर उजाला के संपादक डॉक्टर इंदुशेखर पंचोली को मातृ शोक

प्रमुख साहित्यकार और शिक्षाविद डॉक्टर बद्रीप्रसाद पंचोली की धर्मपत्नी एवं अमर उजाला दिल्ली के संपादक डॉ. इंदुशेखर पंचोली की माताजी श्रीमती कमला पंचोली का बुधवार तड़के अजमेर में निधन हो गया। वे 80 वर्ष की थीं।

2 अक्टूबर 2019

विज्ञापन

आरबीआई की पीएमसी ग्राहकों को और राहत, खाते से रुपये निकालने की सीमा 25 से बढ़ाकर 40 हजार की

त्योहारी सीजन को देखते हुए आरबीआई ने पीएमसी बैंक पर लगी पाबंदियों के बीच ग्राहकों को बड़ी राहत दी है। पीएमसी ग्राहक अब खाते से 25 हजार के बजाय 40 हजार रुपये तक निकाल सकेंगे।

14 अक्टूबर 2019

आज का मुद्दा
View more polls

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree