पुराने नोट वापस लेने से आरबीआई को क्यों नहीं होगा फायदा?

sachin yadav Updated Sat, 25 Jan 2014 11:50 AM IST
Why not take back the old notes will benefit from the RBI?
बुधवार को भारतीय रिजर्व बैंक के वर्ष 2005 से पहले के करेंसी नोटों को बंद करने के फैसले को काले धन, राजनीति और चुनाव से जोड़कर देखा जा रहा है। हालांकि, रिजर्व बैंक के गवर्नर की सफाई है कि इस कदम का चुनाव, राजनीति या काले धन से कोई मतलब नहीं है।

इसके जरिए हमारी कोशिश बेहतर सुरक्षा फीचर वाले नोटों को चलन में रखना है। लेकिन लोग कयास लगा रहे हैं इस कदम से काला धन बाहर आएगा।

रीयल एस्टेट और सोने के दाम बढ़ जाएंगे क्योंकि लोग इन दोनों में काले धन का निवेश कर सकते हैं। लेकिन अगर तथ्यों पर नजर डालें तो दूसरी ही तस्वीर सामने आती है जिससे लगता है कि यह फैसला काले धन को बाहर लाने में कोई बड़ा कदम साबित होने वाला नहीं है।
आगे पढ़ें

हकीकत जानिए, भ्रम मत पालिए

Spotlight

Related Videos

भोजपुरी की 'सपना चौधरी' पड़ी असली सपना चौधरी पर भारी, देखिए

हरियाणा की फेमस डांसर सपना चौधरी को बॉलीवुड फिल्म का ऑफर तो मिल गया लेकिन भोजपुरी म्यूजिक इंडस्ट्री में उनके लिए एंट्री करना अब भी मुमकिन नहीं हो पा रहा है।

22 जनवरी 2018

आज का मुद्दा
View more polls
  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper