किंगफिशर से बकाया 200 करोड़ रुपये वसूलने की तैयारी

नई दिल्ली/ब्यूरो Updated Tue, 20 Nov 2012 10:18 PM IST
revenue department prepare to charge rs 200 crore at kingfisher
कर्ज में डूबी किंगफिशर एयरलाइंस पर अब कर विभाग की मार पड़ने वाली है। कंपनी पर बकाया 200 करोड़ रुपये के टैक्स को अब वसूलने के लिए राजस्व विभाग तैयारी कर रहा है। मंगलवार को सीआईआई द्वारा आयोजित कार्यक्रम में सीबीईसी की चेयरपर्सन प्रवीण महाजन ने संवाददाताओं को बताया कि केंद्रीय प्रत्यक्ष कर बोर्ड और केंद्रीय उत्पाद एवं सीमा शुल्क बोर्ड ने कंपनी पर बकाया कर राशि का आंकलन कर लिया है और अब हम बकाया कर वसूलने के लिए एक व्यापक योजना बना रहे हैं।

किंगफिशर की शुरूआत 2005 से हुई थी। कंपनी तभी से घाटे में चल रही है और उस पर अभी तक 200 करोड़ रुपये का कर बकाया है। महाजन ने कहा कहा कि हम पहले ही किंगफिशर के खातों पर रोक लगा चुके हैं। सेवाकर कानून में जो भी प्रावधान हैं, हम उनका इस्तेमाल कर चुके हैं क्योंकि यह हमारे भी हित में है।

महाजन ने कंपनी पर मुकदमा चलाने के सवाल पर कहा कि मुकदमा भी हो सकता है लेकिन हर चीज में समय लगता है। किसी पर मुकदमा करने से पहले आपको कई कदम उठाने होते हैं। सीबीईसी प्रमुख ने संकेत दिया कि राजस्व विभाग विमानन क्षेत्र के नियामक डीजीसीए से भी इस मामले पर बात कर सकता है क्योंकि विमानन कंपनी इस महीने के अंत तक डीजीसीए को एक व्यापक पुनरुद्धार योजना पेश करने वाली है।

अप्रत्यक्ष करों के लक्ष्यों पर महाजन ने कहा कि हमें भरोसा है कि सरकार चालू वित्त वर्ष में 5.05 लाख करोड़ रुपये के लक्ष्य को प्राप्त कर लेगी। अप्रैल से सितंबर के दौरान अप्रत्यक्ष कर में 15.6 फीसदी की बढ़ोतरी हुई है।

Spotlight

Related Videos

बुधवार को ये करें आपका दिन होगा मंगलमय

जानना चाहते हैं कि बुधवार को लग रहा है कौन सा नक्षत्र, दिन के किस पहर में करने हैं शुभ काम और कितने बजे होगा बुधवार का सूर्योदय? देखिए, पंचांग बुधवार 24 जनवरी 2018।

23 जनवरी 2018

आज का मुद्दा
View more polls
  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper