विज्ञापन
विज्ञापन

सामान की खराबी के लिए रिटेलर भी जिम्मेदार

नई दिल्ली/इंटरनेट डेस्क Updated Wed, 12 Sep 2012 11:46 AM IST
 retailer is also responsible for malfunction of goods
ख़बर सुनें
यदि कोई रिटेलर (खुदरा बिक्रेता) खराब उत्पाद बेचता है तो कंपनी पर दोष मढक़र अपनी जिम्मेदारियों से मुकर नहीं सकता। उपभोक्ता अदालत ने ऐसे ही एक मामले में हॉटस्पॉट रिटेल्स लिमिटेड पर ग्राहक को खराब मोबाइल बेचने के जुर्म में 23000 रुपये का जुर्माना लगाया है।
विज्ञापन
विज्ञापन
पूर्वी दिल्ली जिला उपभोक्ता विवाद निपटारा फोरम ने कहा है कि ग्राहक का प्रोडक्ट निर्माता कंपनी के साथ कोई समझौता नहीं होता, वह तो खुदरा बिक्रेता से सामान खरीदता है। यदि खुदरा बिक्रेता कोई ऐसा सामान बेचता है जिस पर निर्माता कंपनी भी कोई वारंटी नहीं दे रही है तो वैसे खराब सामान की बिक्री के लिए वह भी (रिटेलर) बराबर का दोषी है।

एनए जैदी की अध्यक्षता वाली जिला अदालत ने रिटेलर की उस याचिका को खारिज करते हुए यह बात कही जिसमें वह मोबाइल की खराबी के लिए कंपनी को जिम्मेदार ठहरा रहा था एवं अपनी कोई भी जिम्मेदारी लेने से मना कर रहा था। फोरम ने यह फैसला दरअसल दिल्ली निवासी प्रवीण कुमार अग्रवाल की उस शिकायत पर दिया जिसमें ग्राहक ने कहा था कि उसने हॉटस्पॉट से सोनी एरिक्सन मोबाइल एवं चार्जर खरीदा जिसकी कीमत 12,600 रुपये थी। लेकिन कुछ ही दिनों में मोबाइल एवं चार्जर दोनों खराब हो गए। उन्हें वारंटी पीरियड में होने के बाद भी दूसरे चार्जर के लिए 450 रुपये अतिरिक्त अदा करने पड़े।

जबकि फोन को सोनी एरिक्सन के अधिकृत सर्विस सेंटर में देने के बाद भी यह सही नहीं हो पाया वहां से इसे पहले से भी ज्यादा खराब स्थिति में लौटाया गया। फोरम ने रिटेलर एवं सर्विस सेंटर को सेवाओं में कमी एवं ग्राहकों के हितों के साथ खिलवाड़ करने का दोषी पाया। आदेश जारी करते हुए फोरम ने कहा कि इस मामले में ग्राहक पूरी तरह से छला गया है। जिस कंपनी का फोन एवं चार्जर वह लिया, दोनों खराब थे।

चार्जर एक महीने में खराब हो गया एवं फोन चार महीने में जबकि दोनों वारंटी पीरियड में थे। इसका मतलब है कि निर्माता कंपनी फोन की गुणवत्ता के संबंध में जो दावा कर रही थी वह गलत था। यहां तक कि इसे सही करने के लिए कंपनी के अधिकृत सर्विस सेंटर से संपर्क किया गया परंतु एक महीने तक रखने के बाद भी वह इसे सही नहीं कर पाया। इसलिए संबंधित रिटेलर, ग्राहक को 12,600 रुपये (फोन की कीमत), चार्जर के 450 रुपये के अलावा मानसिक एवं शारीरिक कष्ट पहुंचाने के लिए मुआवजे के रूप में 10,000 रुपये अलग से दे, ऐसा अदालत ने निर्देश दिया।

Recommended

Uttarakhand Board 2019 के परीक्षा परिणाम जल्द होंगे घोषित, देखने के लिए क्लिक करें
Uttarakhand Board

Uttarakhand Board 2019 के परीक्षा परिणाम जल्द होंगे घोषित, देखने के लिए क्लिक करें

विवाह में आ रहीं अड़चनों और बाधाओं को दूर करने का पाएं समाधान विश्वप्रसिद्व ज्योतिषाचार्यो से
ज्योतिष समाधान

विवाह में आ रहीं अड़चनों और बाधाओं को दूर करने का पाएं समाधान विश्वप्रसिद्व ज्योतिषाचार्यो से

विज्ञापन
विज्ञापन
अमर उजाला की खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

Most Read

City and States Archives

अस्पताल में मरीज ने तोड़ा दम, इमरजेंसी गेट पर शव रखकर हंगामा

जिला अस्पताल में आयुष्मान वार्ड में उपचार करा रहे मरीज की मौत हो गई। परिजन इलाज में लापरवाही का आरोप लगाते हुए हंगामा करने लगे। कुछ देर में इमरजेंसी गेट पर शव रखकर रास्ता बंद कर दिया।

21 मई 2019

विज्ञापन

जम्मू-कश्मीर में पुंछ के मेंढर में आईईडी ब्लास्ट समेत 5 बड़ी खबरें

अमर उजाला डॉट कॉम पर देश-दुनिया की राजनीति, खेल, क्राइम, सिनेमा, फैशन और धर्म से जुड़ी खबरें।

22 मई 2019

आज का मुद्दा
View more polls

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree
Election