आर्थिक चुनौतियों से मिलकर निपटना होगा: रतन

मुंबई/एजेंसी Updated Fri, 28 Dec 2012 11:35 PM IST
needed to meet economic challenges says rattan
ख़बर सुनें
टाटा समूह से अपने 75वें जन्मदिवस पर रिटायर हुए रतन टाटा ने कहा है कि देश की अर्थव्यवस्था मुश्किल दौर से गुजर कर एक फिर अपने पैर जमा लेगी। हालांकि, आर्थिक मुश्किलों का दौर अगले साल भी बना रह सकता है। लेकिन इसके बाद देश की अर्थव्यवस्था पटरी पर लौट आएगी।
रतन टाटा ने अपना जन्मदिवस सौ अरब समूह वाले टाटा समूह के मुख्यालय बांबे हाउस से दूर पुणे में टाटा मोटर्स के निर्माण संयंत्र में कर्मचारियों के साथ मनाया। उन्होंने ट्वीट किया है, ‘यूनियन के निवेदन पर मैंने अपना दिन (रिटायरमेंट का आखिरी दिन) टाटा मोटर्स के पुणे स्थित निर्माण संयंत्र में बिताया। यहां मैं अपने कारखाने के साथियों से विदा लेने आया हूं। हमने अच्छा और बुरा वक्त मिलजुलकर गुजारा है। इस दौरान आपसी भरोसे से हम एक-दूसरे के करीब आए।’

उन्होंने अपने सहयोगियों से कहा कि आने वाले समय में चुनौतियों का सामना करने के लिए सहयोग, समर्पण और प्रतिबद्धता बनाए रखें। मौजूदा वर्ष में हम जो आर्थिक चुनौतियां देख रहे हैं, उसके आने वाले साल में बने रहने की उम्मीद है। उन्होंने कहा कि आने वाले समय में उपभोक्ता मांग में गिरावट बनी रह सकती है और विदेशी वस्तुओं के आयात से भी कड़ी प्रतिस्पर्धा करनी पड़ सकती है।

करीब 21 साल तक टाटा समूह की बागडोर संभालने के बाद रतन टाटा शुक्रवार को टाटा सन्स के चेयरमैन पद से रिटायर हो गए। उनके कारोबारी वारिस साइरस मिस्त्री शनिवार को टाटा समूह के चेयरमैन का पदभार ग्रहण करेंगे।  टाटा समूह के चेयरमैन के रूप में अपने आखिरी दिन रतन दफ्तर से दूर रहे। वह पुणे में अपना जन्मदिन मनाने में मशगूल रहे। इसके चलते मुंबई स्थित टाटा सन्स के मुख्यालय बॉम्बे हाउस में कोई बड़ा आयोजन नहीं किया गया।

हालांकि साइरस मिस्त्री कार्यालय पहुंचे। वह टाटा समूह की सेडॉन कार मान्जा पर सवार होकर दफ्तर आए। बॉम्बे हाउस के बाहर इस मौके पर लोगों और मीडिया कर्मियों का बड़ा हुजूम मौजूद था। लोग रतन टाटा की झलक पाने को बेताब थे, लेकिन वह दिखाई नहीं दिए।


Spotlight

Related Videos

#GreaterNoida: रात में गिरी ‘मौत’ की इमारतें, डराने वाली VIDEO आया सामने

ग्रेटर नोएडा वेस्ट के शाहबेरी में मंगलवार रात एक चार मंजिला और एक छह मंजिला निर्माणाधीन इमारत धराशाही हो गई।

18 जुलाई 2018

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree

अमर उजाला ऐप चुनें

सबसे तेज अनुभव के लिए

क्लिक करें Add to Home Screen